रिपोर्ट्स का दावा, नीली रोशनी ब्लडप्रेशर कम करने में मददगार

(सांकेतिक तस्वीर)
(सांकेतिक तस्वीर)

एक स्टडी में इस बात का खुलासा हुआ है कि नीली रोशनी के संपर्क में रहने से ब्लडप्रेशर कम होता है जिससे हृदय रोग का खतरा भी कम हो जाता है.

  • Share this:
एक स्टडी में इस बात का खुलासा हुआ है कि नीली रोशनी के संपर्क में रहने से ब्लडप्रेशर कम होता है जिससे हृदय रोग का खतरा भी कम हो जाता है. ‘यूरोपीयन जर्नल ऑफ प्रीवेन्टेटिव कॉर्डियोलॉजी’ में प्रकाशित अध्ययन के लिए प्रतिभागियों का पूरा शरीर 30 मिनट तक करीब 450 नैनोमीटर पर नीली रोशनी के संपर्क में रहा जो दिन में मिलने वाली सूरज की रोशनी के बराबर है.

(ये भी पढ़ें- जहर से भी ज्‍यादा खतरनाक है ये दवा, अंजाने में ले तो नहीं रहे हैं आप)

इस दौरान दोनों प्रकाश के विकिरण के प्रभाव का आकलन किया गया और प्रतिभागियों का रक्तचाप, धमनियों का कड़ापन, रक्त वाहिका का फैलाव और रक्त प्लाज्मा का स्तर मापा गया. पराबैगनी किरणों के विपरीत नीली किरणें कैंसरकारी नहीं हैं.



(ये भी पढ़ें- रक्तदान के बाद कहां जाता है ब्लड और किस प्रक्रिया से होती है इसकी जांच)
ब्रिटेन के सरे विश्वविद्यालय और जर्मनी के हेनरिक हैनी विश्वविद्यालय डसेलडार्फ के अनुसंधानकर्ताओं ने पाया कि पूरे शरीर के नीली रोशनी के संपर्क में रहने के चलते प्रतिभागियों के सिस्टोलिक (उच्च) रक्तचाप तकरीबन 8 एमएमएचजी कम हो गया जबकि सामान्य रोशनी पर इस तरह का कोर्इ प्रभाव नहीं पड़ा.

नीले प्रकाश से रक्तचाप में कमी कुछ उसी प्रकार है जैसी दवाइयों के जरिये रक्तचाप को कम किया जाता है.

ये भी पढ़ें- यूपी के इस 'सैलून' में होता है दिल और ब्लड प्रेशर का इलाज, जानिए कैसे
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज