रिसर्च में खुलासा: कोरोना को मात देने वाले कुछ लोग अगले कई सालों तक दोबारा नहीं होंगे संक्रमित!

शोधकर्ताओं ने कोरोना को मात देने वाले 185 पुरुष और महिलाओं के खून की जांच की
शोधकर्ताओं ने कोरोना को मात देने वाले 185 पुरुष और महिलाओं के खून की जांच की

एक्सपर्ट्स ने शोध के दौरान पाया कि कई कोरोना मरिजों (Coronavirus patients) के शरीर में 8-9 महीने बाद भी कोविड (covid19) की एंटीबॉडी (antibody) और इम्यून सेल मौजूद थे. शोधकर्ताओं ने इस बात से उम्मीद जताई कि एंटीबॉडी और सेल लंबे वक्त तक शरीर में मौजूद रह सकते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 19, 2020, 8:18 PM IST
  • Share this:
दुनिया में कोरोना वायरस (Coronavirus) का कहर जारी है. कुछ देशों ने इसे बढ़ने से रोकने में कामयाबी हासिल कर ली है मगर कई देश अभी भी इसकी जद में हैं. भारत में भी कोरोना संक्रमितों की संख्या लगातार बढ़ रही है. इस बीच अमेरिका (USA) से कोरोना को लेकर एक अच्छी खबर सामने आई है. शोधकर्ताओं ने दावा किया है कि जो लोग कोविड (Coivd19) पॉजिटिव हो चुके हैं वो अगले कई सालों तक फिर से कोरोना से संक्रमित नहीं होंगे.

अमेरिका के एलजेआई इंस्टिट्यूट में किए गए एक शोध में ये पाया गया कि कोरोना से संक्रमित हो चुके लोग आने वाले कई सालों तक दोबारा कोरोना संक्रमित नहीं होंगे क्योंकि उनके शरीर के अंदर कोरोना से लड़ने के लिए एंटीबॉडी (antibody) विकसित हो चुकी है जो उन्हें संक्रमित होने से बचाएगी.

शोधकर्ताओं ने कोरोना को मात देने वाले 185 पुरुष और महिलाओं के खून की जांच की. इनकी उम्र 19 से 81 साल थी. शोधकर्ताओं ने जांच को उत्साहजनक बताया और नतीजों को देखते हुए ये उम्मीद जताई कि कोरोना की वैक्सीन (Coronavirus vaccine) भी लंबे वक्त के लिए सुरक्षा देगी.



एक्सपर्ट्स ने शोध के दौरान पाया कि कई मरिजों के शरीर में 8-9 महीने बाद भी कोविड की एंटीबॉडी और इम्यून सेल मौजूद थे. शोधकर्ताओं ने इस बात से उम्मीद जताई कि एंटीबॉडी और सेल लंबे वक्त तक शरीर में मौजूद रह सकते हैं. इसके चलते शरीर दोबारा इंफेक्शन होने से खुद को बचा सकता है या फिर संक्रमण का स्तर बेहद कम हो सकता है.
अमेरिका के एलजेआई इंस्टिट्यूट में इस शोध के प्रमुख शेन क्रॉटी ने कहा कि शरीर में लंबे वक्त तक एंटीबॉडी होने से लोगों को अस्पताल में नहीं भर्ती करना पड़ेगा, साथ ही लंबे वक्त तक लोगों के अंदर कोरोना का घातक संक्रमण नहीं होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज