नेपाल के पूर्व मंत्री इश्तियाक बोले- वक्त बताएगा लॉकडाउन कितना कारगर, सीमा विवाद पर कही ये बात

नेपाल के पूर्व मंत्री इश्तियाक बोले- वक्त बताएगा लॉकडाउन कितना कारगर, सीमा विवाद पर कही ये बात
नेपाल के पीएम केपी शर्मा ओली और भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PTI)

नेपाल (Nepal) के पूर्व मंत्री मोहम्मद इश्तियाक राई (Mohammad Ishtiaq Rai) ने कहा, भारत हो या अन्य देश लॉकडाउन (Lockdown) की एक जैसी स्थिति है. नेपाल में 6 फेज में लॉकडाउन लग चुका है. भारत में पांचवां फेज चल रहा है. लॉकडाउन कितना कारगर होगा, ये तो समय ही बताएगा.'

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
काठमांडू. नेपाल और भारत (India-Nepal Standoff) के बीच इन दिनों लिपुलेख, कालापानी व लिम्पियाधुरा पर तनातनी जारी है. वहीं, नेपाल ने कोरोना वायरस (Coronavirus) के प्रसार के लिए भारत पर आरोप भी लगाए हैं. इस बीच नेपाल के पूर्व मंत्री मोहम्मद इश्तियाक राई ने कहा कि देश में कोरोना संक्रमित में 99% भारत से हैं. जबकि, तीन लोग चीन, इटली जैसे देशों से आए हैं और संक्रमित पाए गए हैं. भारत से आने वाले अधिकांश लोगों को संक्रमण मिलेगा. ऐसे में वक्त बताएगा कि लॉकडाउन कितना कारगर रहा.

'दैनिक भास्कर' से बातचीत में इश्तियाक राई ने ये बातें कही. वहीं, सीमा विवाद उन्होंने कहा, 'लिपुलेख विवाद भारत की तरह ही नेपाल में भी सुर्खियों में बना हुआ है. लिपुलेख से नेपालियों का जुड़ाव है. इसको लेकर कई जगह लॉक डाउन के बीच आम जनता ने प्रदर्शन वगैरह भी किया गया. जनता के दबाव के बाद ही सरकार ने इस पर कदम उठाए. हालांकि, आपसी बातचीत से समस्या का समाधान निकाला जा सकता है.'

बता दें कि इश्तियाक राई 19 महीने तक नेपाल सरकार में जनता समाजवादी पार्टी के प्रतिनिधि के तौर पर रहे. उस दौरान वह शहरी विकास मंत्री थे. तीन महीने पहले उनकी पार्टी सरकार से अलग हुई है.



कोरोना संक्रमण को लेकर उन्होंने कहा, 'चीन से जुड़े इलाकों में संक्रमण न के बराबर है. नेपाल में अभी तक 4 लोगों की मौत इस वायरस के संक्रमण से हुई है. जिसमें एक मौत भारत के श्रावस्ती जिले से लगी नेपाल सीमा में बांके जिला में भगवानपुर में हुई है.' उन्होंने कहा- 'भारत हो या अन्य देश लॉकडाउन की एक जैसी स्थिति है. नेपाल में 6 फेज में लॉकडाउन लग चुका है. भारत में पांचवां फेज चल रहा है. लॉकडाउन कितना कारगर होगा, ये तो समय ही बताएगा.'



नेपाल में प्रवासियों के लिए है फूड सिक्योरिटी
राई आगे बताते हैं, 'भारत में फूड सिक्योरिटी है, लेकिन जो परमानेंट है उनके लिए ही ये सुविधा है. वहीं, नेपाल में परमानेंट के साथ साथ जो प्रवासी हैं, उनके लिए भी फूड सिक्योरिटी है. बैंक ने ब्याज में 2% की छूट दी है. आगे और भी बढ़ाने की योजना है.

ये भी पढ़ें:- भारत-नेपाल सीमा विवाद में नया मोड़, विवादित नक्शे पर नेपाली संसद में पेश होगा बिल

एक अरब साल ज्यादा पुरानी हैं पृथ्वी की Tectonic Plates, जानिए क्या बदलेगा इससे
First published: June 2, 2020, 10:12 AM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading