लापता पत्रकार खशोगी को ढूंढने के लिए एप्पल वॉच और प्राइवेट जेट का सहारा

खाशोगी कहता था कि संयुक्त राज्य अमेरिका में मित्रों और सहयोगियों के अनुसार वह घर पर स्वतंत्र होकर बहुत अच्छा लिख सकता था, लेकिन उसे चिंता थी कि रियाद उसे या उसके परिवार को चोट पहुंचा सकता था.

News18.com
Updated: October 11, 2018, 5:46 PM IST
लापता पत्रकार खशोगी को ढूंढने के लिए एप्पल वॉच और प्राइवेट जेट का सहारा
लापता पत्रकार जमाल खाशोगी (फाइल फोटो)
News18.com
Updated: October 11, 2018, 5:46 PM IST
पत्रकार जमाल खशोगी खुद को तुर्की में सुरक्षित मानते थे. खाशोगी एक अनुभवी पत्रकार और संपादक के तौर पर वाशिंगटन पोस्ट में पिछले एक साल से कॉलम लिखा करते थे, जिसमें वह नियमित रूप से अपने देश की शख्त कानून व्यवस्था की आलोचना किया करते थे. वह यमन में युद्ध और कतर पर लगाए गए प्रतिबंधों की भी मुखर आलोचना करते थे.

अमेरिका में रहने वाले खशोगी के मित्रों और सहयोगियों के अनुसार, उन्होंने कहा था कि वह घर पर स्वतंत्र होकर बहुत अच्छा लिख सकते हैं, लेकिन उसे चिंता थी कि रियाद उन्हें या उनके परिवार को चोट पहुंचा सकता था. हालांकि तुर्की में राष्ट्रपति के सलाहकार समेत कई स्थानों पर खशोगी के अच्छे दोस्त थे, इसलिए वह इस्तांबुल स्थित सऊदी वाणिज्य दूतावास में मंगलवार को 2 बजे गए थे. उन्हें उम्मीद थी कि वहां से उन्हें कुछ ही समय में अपनी मंगेतर से शादी करने की अनुमति मिल जाएगी, जिसके लिए वह चार महीने पहले भी मिले थे.

ये भी पढ़ें: सऊदी अरब के गुमशुदा पत्रकार जमाल खाशोगी की हो चुकी है हत्या: रिपोर्ट



राष्ट्रपति के सहयोगी और खाशोगी के करीबी मित्र यासीन अक्ते ने कहा कि उस वक्त उन्होंने कहा था कि सऊदी अरब के लोगों के लिए दुनिया का सबसे सुरक्षित देश तुर्की है. दोस्तों और परिवार के लोगों ने उन्हें तब से नहीं देखा है. तुर्की के अधिकारियों ने कहा है कि उनका मानना ​​है कि 59 वर्षीय खशोगी वाणिज्य दूतावास के अंदर मारे गए.

ये भी पढ़ें: ट्रंप की 'धमकी' से हिला सऊदी अरब, मानी तेल से जुड़ी US की ये बातें

सऊदी अरब ने अमेरिका के आरोपों को खारिज कर दिया है, जिसमें संयुक्त राष्ट्र अमेरिका के राजदूत खालिद बिन सलमान ने कहा था कि खशोगी इस्तांबुल वाणिज्य देतावास से गायब हुए थे. इसे सऊदी अरब ने पूरी तरह से झूठा, आधारहीन और दुर्भावनापूर्ण करार दिया. उन्होंने अमेरिका पर आरोप लगाया कि वह उनके खिलाफ अफवाहें फैला रहा है. लापता पत्रकार का पता लगाने के लिए सऊदी अरब ने तुर्की अधिकारियों के साथ मिलकर एक जांच टीम का गठन किया है.

दो वरिष्ठ तुर्की अधिकारियों ने कुछ ऐसे तथ्य सामने रखे हैं, जिनसे खशोगी की गुमशुदगी के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी मिल सकती है. वाणिज्य दूतावास में प्रवेश करते वक्त खशोगी ने काले रंग की एप्पल वॉच पहन रखी थी. वह घड़ी एक मोबाइल फोन के साथ कनेक्ट रही होगी. इसके साथ ही जांच अधिका​री उन 15 सऊदी पुरुषों से भी जांच पड़ताल कर रहे हैं, जिन्होंने वाणिज्य दूतावास में उसी वक्त प्रवेश किया था, जब खाशोगी अंदर गए थे. लेकिन कुछ देर बाद वह बाहर आ गए. अधिकारियों ने कहा कि उनमें से ज्यादातर निजी विमान से वहां आए थे. दिन खत्म होने से पहले वह लौट गए थे.
Loading...

वहीं एक तुर्की समाचार पत्र 'सबा' में बुधवार को कहा गया कि खुफिया टीम ने 15 लोगों को जांच के घेरे में रखा है. इनमें एक फॉरेंसिक एक्सपर्ट भी शामिल था. इस रिपोर्ट पर तुर्की अधिकारियों ने कोई विवाद नहीं किया. जांचकर्ता उस गाड़ी का भी पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं, जिसने सऊदी कांसुलेट को हवाईअड्डे पर छोड़ा था. हवाई अड्डे के लिए दो गाड़ियां गई थीं.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...