Home /News /world /

australia afghan women learn swim drive freedom happiness opportunities afghanistan america rks

तैरना, गाड़ी चलाना और नौकरी भी... अफगान महिलाओं को ऑस्ट्रेलिया में मिली आजादी

अफगान महिलाओं को मिली ऑस्ट्रेलिया में आजादी ( www.reuters.com)

अफगान महिलाओं को मिली ऑस्ट्रेलिया में आजादी ( www.reuters.com)

एक साल पहले अपने पति और बच्चे के साथ ऑस्ट्रेलिया पहुंची एक अफगान महिला सहर अजीजी ने कहा, ‘मैंने हर समय घर पर बैठने और अफगानिस्तान की खराब स्थिति के बारे में सोचने के बजाय अपनी पढ़ाई और ड्राइविंग शुरू करने का फैसला किया.’

हाइलाइट्स

सिडनी के एक इनडोर पूल में करीब 20 अफगान महिलाएं तैराकी सीख रहीं
पति और बच्चे के साथ ऑस्ट्रेलिया पहुंची सहर अजीजी ड्राइविंग सीख रहीं
महिलाओं को तैराकी और ड्राइविंग सीखने के साथ नौकरी खोजने में मिलती है मदद

सिडनी. ऑस्ट्रेलिया के सिडनी के पश्चिमी उपनगर में एक इंडोर पूल में लगभग 20 अफगान महिलाएं तैराकी सीखने आती हैं. ये सभी शरणार्थी के रूप में ऑस्ट्रेलिया पहुंची हैं. लगभग दो दशक पहले ऑस्ट्रेलिया पहुंची एक अफगान महिला उनको तैराकी सिखाने के साथ ही देश के सी बीच कल्चर के बारे में जानकारी देती हैं. 22 साल पहले अफगानिस्तान से ऑस्ट्रेलिया पहुंची मरियम जाहिद ने कहा कि उनके प्रशिक्षण से महिलाओं को खुद के लिए एक पहचान विकसित करने और जंग के आघातों से निपटने में मदद मिलती है. जिसने उनके देश को तबाह कर दिया है.

न्यूज एजेंसी रायटर्स के मुताबिक जाहिद ने कहा, ‘यह कुछ ऐसा है जो सबसे पहले एक इंसान के रूप में अपनी पहचान बनाने के लिए उनके जीवन के मनोवैज्ञानिक और भावनात्मक पहलुओं पर असर करेगा. हम उनके लिए यादें तैयार कर रहे हैं. आजादी, खुशी और अवसरों की यादें.’

अफगानिस्तान से अमेरिका के नेतृत्व वाले गठबंधन के जल्दबाजी में हटने के एक साल बाद अमेरिका और यूरोप में दसियों हजार अफगानों को फिर से बसाया गया है. ऑस्ट्रेलिया ने अगस्त 2001 के बाद शुरू में अफगानों के लिए 3,000 मानवीय वीजा आवंटित किए थे. इस साल की शुरुआत में कहा कि यह अगले चार वर्षों में 15,000 और शरणार्थियों को ऑस्ट्रेलिया आने की अनुमति देगा. जाहिद का ‘अफगान वीमेन ऑन द मूव’ कार्यक्रम शरणार्थियों की मदद करता है. इनमें से कई कट्टरपंथी इस्लामी तालिबान आंदोलन के सत्ता में वापस आने के बाद अफगानिस्तान से भाग गए. जाहिद महिलाओं को तैराकी और ड्राइविंग सीखने के साथ ही नौकरी खोजने में मदद करती हैं.

पूर्वी अफगानिस्तान में बम धमाका, मारा गया तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान का टॉप कमांडर

उनका मानना ​​​​है कि अब ये महिलाएं अफगानिस्तान वापस नहीं जा सकतीं, जहां सरकार ने महिलाओं और लड़कियों के अधिकारों में बड़ी कमी कर दी है. लड़कियों के हाई स्कूल में जाने पर प्रतिबंध लगाया गया है. एक साल पहले अपने पति और बच्चे के साथ ऑस्ट्रेलिया पहुंची एक महिला सहर अजीजी ने कहा, ‘मैंने हर समय घर पर बैठने और अफगानिस्तान की खराब स्थिति के बारे में सोचने के बजाय अपनी पढ़ाई और ड्राइविंग शुरू करने का फैसला किया. मैंने आगे बढ़ने का फैसला किया जिससे मैं अपने लिए कुछ करूं और अपने सपनों और लक्ष्यों को हासिल करूं.’

Tags: Afghanistan, America, Australia

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर