होम /न्यूज /दुनिया /Australia: उबर ने ग्राहकों को दी थी ये धमकी, अब कोर्ट ने लगाया भारी भरकम जुर्माना

Australia: उबर ने ग्राहकों को दी थी ये धमकी, अब कोर्ट ने लगाया भारी भरकम जुर्माना

Uber पर राइड कैंसिलेशन फी वसूलने की धमकी देने के लिए कोर्ट ने लगाया 1 अरब रुपये से ज्यादा का जुर्माना. (फाइल फोटो)

Uber पर राइड कैंसिलेशन फी वसूलने की धमकी देने के लिए कोर्ट ने लगाया 1 अरब रुपये से ज्यादा का जुर्माना. (फाइल फोटो)

Australia News: उबर को ऑस्ट्रेलिया में राइड कैंसिलेशन फी की धमकी के कारण भारी भरकम जुर्माना लगाया गया है. साथ ही कुछ रा ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

Uber ने ग्राहकों को दी थी राइड कैंसिलेशन फी वसूलने की धमकी.
अब उसे चुकाना होगा 1 अरब रुपये से ज्यादा का जुर्माना.
कोर्ट ने कहा- कंपनी ने ग्राहकों को गुमराह करके उपभोक्ता कानून तोड़ा.

सिडनी. ऑस्ट्रेलिया में उबर को राइड कैंसिलेशन फी की धमकी देना महंगा पड़ा है. खबर है कि एक ऑस्ट्रेलियाई कोर्ट ने बुधवार को उबर टेक्नोलॉजीज इंक (Uber Technologies Inc) पर इसके लिए भारी भरकम जुर्माना लगाया है. उबर टेक्नोलॉजीज इंक पर कोर्ट ने कुल 21 मिलियन ऑस्ट्रेलियाई डॉलर (लगभग 1,158,833,108 रुपये) का जुर्माना लगाया है. उबेर पर आरोप था कि उसने राइड कैंसिलेशन फी लेने की धमकी दी थी जो कि कभी नहीं लिया गया है. साथ ही कंपनी ने कुछ राइड पर किराया अनुमान को बढ़ा दिया था. शिकायतकर्ता जितने जुर्माने की मांग कर रहे थे यह उससे कम था.

न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के अनुसार कोर्ट ने अपने फैसले में कहा है कि यूएस राइड-शेयरिंग ऐप निर्माता की ऑस्ट्रेलियाई शाखा ने ग्राहकों को गुमराह करके उपभोक्ता कानून को तोड़ा है. इसके साथ ही उसने ग्राहकों को साल 2017 से 2021 के बीच कुछ राइड रद्द करने की भी चेतावनी दी है. इसके अलावा अगस्त 2020 तक कंपनी ने गलत सॉफ़्टवेयर एल्गोरिदम का उपयोग करके किराया अनुमानों को बढ़ा दिया था. कोर्ट उबर टेक्नोलॉजीज इंक पर ग्राहकों को गुमराह करने और उपभोक्ता कानून को तोड़ने के लिए जुर्माना लगा रही है.

मालूम हो कि उबर के खिलाफ यह मामला कोर्ट के समक्ष ऑस्ट्रेलियाई प्रतिस्पर्धा और उपभोक्ता आयोग (एसीसीसी) द्वारा लाया गया था. हालांकि कंपनी पहले ही 26 मिलियन के जुर्माने पर सहमत हो गई थी. लेकिन ओ’ब्रायन ने अदालत को बताया कि दोनों पक्षों द्वारा प्रदान किए गए सबूत ‘बेहद अपर्याप्त’ थे.

पढ़ें- PNB में अकाउंट है तो जल्दी से करवा लें ये काम, वरना नहीं कर पाएंगे कोई ट्रांजेक्शन

कोर्ट को दिए गए सबूतों से पता चला है कि 0.5 प्रतिशत उबर ग्राहक राइड कैंसिलेशन शुल्क लिए जाने की धमकी के कारण मजबूरी में राइड पर गए थे. अगर कैंसिलेशन शुल्क लेने की धमकी नहीं दी जाती तो यह लोग राइड पर जाने को मजबूर नहीं होते. जज ने कहा कि 89 प्रतिशत से ज्यादा बार उबर टैक्सी ने किराए के अनुमानों को बढ़ा कर दिखाया. लेकिन उबर की कुल सवारी में से 1 प्रतिशत ग्राहकों से भी कम ग्राहकों ने इस सेवा का उपयोग किया. फिलहाल उबर और एसीसीसी की तरफ से इस मामले पर कोई टिप्पणी नहीं आई है.

Tags: Australia, Uber

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें