होम /न्यूज /दुनिया /बेलारूस में संभल नहीं रही महंगाई तो कीमतों पर ही लगा दिया बैन, राष्ट्रपति की इकोनॉमिक्स देख चौंके अफसर

बेलारूस में संभल नहीं रही महंगाई तो कीमतों पर ही लगा दिया बैन, राष्ट्रपति की इकोनॉमिक्स देख चौंके अफसर

राष्ट्रपति अलेक्जेंडर लुकाशेंको ने महंगाई को लेकर बढ़ती कीमतों पर ही लगा दिया बैन. (Image: AP)

राष्ट्रपति अलेक्जेंडर लुकाशेंको ने महंगाई को लेकर बढ़ती कीमतों पर ही लगा दिया बैन. (Image: AP)

Price Ban in Belarus: लुकाशेंको ने अधिकारियों को बताया कि मांस, डेयरी उत्पाद और मुर्गी पालन अब अधिक महंगा हो रहा है. मि ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

राष्ट्रपति अलेक्जेंडर लुकाशेंको ने बढ़ती महंगाई को रोकने के लिए तत्काल प्रभाव से कीमतों में वृद्धि पर लगाया प्रतिबंध
लुकाशेंको को उनके सनकीपन और कट्टरपंथी सुझावों के लिए जाना जाता है
बेलारूस ने अगले साल तक 7-8 प्रतिशत की मुद्रास्फीति दर पर लौटने की योजना बनाई

मिंस्क. रूस के कट्टर सहयोगी देश बेलारूस के नेता ने महंगाई से निपटने के लिए देश में उत्पादों की मूल्य वृद्धि पर प्रतिबंध लगा दिया है. न्यूज़ एजेंसी AFP की एक रिपोर्ट के मुताबिक पूर्व सोवियत देश बेलारूस के राष्ट्रपति अलेक्जेंडर लुकाशेंको ने गुरुवार को तेजी से बढ़ती महंगाई को रोकने के लिए तत्काल प्रभाव से कीमतों में वृद्धि पर प्रतिबंध लगा दिया है. 1994 से बेलारूस की सत्ता पर काबिज अलेक्जेंडर लुकाशेंको को उनके सनकीपन और कट्टरपंथी सुझावों के लिए जाना जाता है. कोरोना से बचने के लिए वह देश के लोगों को रोज वोडका का एक शॉट लेने का सुझाव भी दे चुके हैं.

अधिकारियों के साथ एक बैठक में लुकाशेंको ने कहा, ‘6 अक्टूबर से, सभी मूल्य वृद्धि पर बैन है. बैन! कल से नहीं, आज से. ताकि अगले 24 घंटों में कीमतें न बढ़ें.’ उन्होंने आगे कहा कि वस्तुओं की कीमतें उनके शासन के लिए अपमानजनक थीं और इसमें साल-दर-साल 18 प्रतिशत की वृद्धि हुई है. 68 वर्षीय लुकाशेंको ने अधिकारियों को बताया कि मांस, डेयरी उत्पाद और मुर्गी पालन अब अधिक महंगा हो रहा है. मिन्स्क में हाल के दिनों में अंडों की कमी हो गई है. बेलारूस ने अगले साल तक 7-8 प्रतिशत की मुद्रास्फीति दर पर लौटने की योजना बनाई है.

यूक्रेन के खिलाफ रूस का दे रहा साथ
बेलारूस खुल कर यूक्रेन के खिलाफ रूस का साथ दे रहा है. यूक्रेन से अपनी सीमा साझा करने वाला बेलारूस अपनी सीमा को रूस की सेना के लिए खोले हुए है, जहां से रूसी सेना लगातार यूक्रेन पर बमबारी कर रही है. यूक्रेन में रूस की सैन्य कार्रवाई में सहायता करने और 2020 में चुनाव के बाद क्रूर कार्रवाई के लिए बेलारूस को पश्चिमी प्रतिबंधों का भी सामना करना पड़ा है.

Tags: World news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें