ढाका कैफे हमला केस: बांग्लादेश की कोर्ट ने 7 संदिग्‍धों को सुनाई मौत की सजा

ढाका कैफे हमला केस: बांग्लादेश की कोर्ट ने 7 संदिग्‍धों को सुनाई मौत की सजा
बांग्‍लादेश की कोर्ट ने ढाका कैफे हमला मामले में बड़ा फैसला सुनाया है.

ढाका कैफे हमला मामले (Dhaka Cafe Attack) में बांग्‍लादेश (Bangladesh) की कोर्ट ने 7 संदिग्‍धों को मौत की सजा सुनाई है. जबकि एक को बरी कर दिया गया है.

  • Share this:
ढाका. बांग्लादेश (Bangladesh) की राजधानी ढाका के एक कैफे में 2016 (Dhaka Cafe Attack) में हुए इस्लामिक स्टेट (Islamic State) के हमले में संलिप्तता के आरोप में विशेष बांग्लादेशी न्यायाधिकरण ने आठ संदिग्धों में से सात को मौत की सजा सुनायी है. देश के इतिहास में सबसे भीषण आतंकवादी हमले में एक भारतीय लड़की समेत 20 लोग मारे गये थे.

इन लोगों ने आतंकियों को धन मुहैया कराए थे
ढाका के आतंकवाद- रोधी विशेष न्यायाधिकरण के न्यायाधीश मुजिबुर रहमान ने पुराने ढाका में अदालत परिसर में सजा सुनाते हुए कहा, 'उन्हें फांसी की सजा दी जाएगी.' दोषियों को भारी सुरक्षा व्यवस्था के बीच अदालत में पेश किया गया था. मामले की जांच में यह पता चला कि दोषियों ने आतंकवादियों को धन मुहैया कराया था. हथियार की आपूर्ति की थी या फिर हमले में सीधे तौर पर शामिल लोगों की सहायता की थी. घटना एक जुलाई, 2016 को ढाका के गुलशन इलाके में हुई थी.

आठवां आरोपी बरी
न्यायाधीश ने आठवें आरोपी को बरी कर दिया क्योंकि अभियोजन पक्ष प्रतिबंधित नियो-जमातुल मुजाहिदीन बांग्लादेश (नियो-जेएमबी) द्वारा किये गये हमले में उसके संबंध को साबित नहीं कर सका. हमले में मारे गये 17 विदेशी नागरिकों में नौ इतालवी, सात जापानी, एक भारतीय लड़की शामिल थी. बंधक बनाये जाने के दौरान दो बांग्लादेशी पुलिस अधिकारी भी मारे गये थे.



भारतीय लड़की भी मारी गई थी
हमले में मारे गये लोगों में शामिल भारतीय लड़की तारिशी जैन बर्कले में कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय की छात्रा थी और वह छुट्टी मनाने के लिये ढाका आयी थी. अपने फैसले में न्यायाधीश ने बांग्लोदशी मूल के कनाडाई नागरिक तमीम चौधरी को हमले का मास्टरमाइंड बताया, जो बाद में राष्ट्रव्यापी आतंकवाद रोधी सुरक्षा अभियान के दौरान मारा गया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading