Home /News /world /

200 अमेरिकी अफसरों को लगी रहस्यमयी बीमारी, दूतावास में 'हवाना सिंड्रोम' की जांच करेगी बर्लिन पुलिस

200 अमेरिकी अफसरों को लगी रहस्यमयी बीमारी, दूतावास में 'हवाना सिंड्रोम' की जांच करेगी बर्लिन पुलिस

बर्लिन स्थित अमेरिकी दूतावास (AP)

बर्लिन स्थित अमेरिकी दूतावास (AP)

2016 से अब तक 200 से अधिक अमेरिकी अधिकारियों ने 'हवाना सिंड्रोम' बीमारी से पीड़ित होने की शिकायत की थी. वहीं, शुक्रवार को राष्ट्रपति बिडेन (President Biden) ने सिंड्रोम के लिए "कारणों और इसके जिम्मेदारों तक पहुंचने की बात कही है.

    बर्लिन. दुनियाभर में अमेरिकी अधिकारियों के ‘हवाना सिंड्रोम’ (Havana syndrome) से ग्रस्त होने की खबरें आ रही हैं ऐसे में जर्मनी में बर्लिन पुलिस ने इस मामले की जांच शुरू कर दी है. उन्होंने कहा कि अमेरिकी दूतावास के कर्मचारियों द्वारा तथाकथित हवाना सिंड्रोम के लक्षणों से ग्रस्त होने के बाद इसकी जांच कर रहे हैं. पुलिस ने बताया कि कर्मचारियों पर कथित ध्वनि हथियार हमले (sonic weapon attack) की शिकायत की थी. 2016 से अब तक 200 से अधिक अमेरिकी अधिकारियों ने ‘हवाना सिंड्रोम’ बीमारी से पीड़ित होने की शिकायत की थी. वहीं, शुक्रवार को राष्ट्रपति बिडेन (President Biden) ने सिंड्रोम के लिए “कारणों और इसके जिम्मेदारों तक पहुंचने की बात कही है.

    तथाकथित बीमारी से प्रभावित लोगों का कहना है कि उन्होंने अपने सिर के अंदर अचानक प्रेशर सेंसेशन को महसूस किया है और एक खास दिशा से आने वाली अजीब भिनभिनाहट की आवाजें भी सुनीं हैं. अन्य अमेरिकी अधिकारियों ने चक्कर आना, मतली और थकान सहित अन्य लक्षणों की शिकायत बताई. डेर स्पीगल ने बताया कि बर्लिन में अमेरिकी दूतावास में कई लोगों ने हवाना सिंड्रोम के लक्षणों की सूचना दी थी.

    दूतावास के एक प्रवक्ता ने पुलिस पूछताछ पर टिप्पणी करने से इनकार किया, लेकिन न्यूज एजेंसी रॉयटर्स की रिपोर्ट में मुताबिक, दुनियाभर में मामलों कोे लेकर अमेरिकी जांच चल रही है. वहीं, हवाना सिंड्रोम पर बायडन का बयान ऐसे समय में आया, जब उन्होंने बेहतर स्वास्थ्य सेवा और पीड़ितों के लिए वित्तीय सहायता बढ़ाने के लिए एक विधेयक पर हस्ताक्षर किए हैं. लेकिन उन्होंने इस स्थिति को कोई हमला कहने के बजाय “असामान्य स्वास्थ्य घटनाओं” के तौर पर जिक्र किया. उन्होंने कहा कि पूरी दुनिया में सरकारी कर्मी, खुफिया अधिकारी, राजनयिक और सैन्यकर्मी प्रभावित हुए हैं.

    इस रहस्यमयी बीमारी के लक्षण 2016 में क्यूबा में अमेरिकी दूतावास में मौजूद अधिकारियों में सबसे पहले पाए गए थे. इसके बाद से ऐसी ही कई खबरें सामने आई हैं. पिछले महीने विएना में सीआईए के स्टेशन प्रमुख को दूतावास में रहस्यमय सिंड्रोम के हमले को न रोक पाने में नाकाम रहने पर हटा दिया गया था.

    भारत में भी मिले थे लक्षण
    सीआईए निदेशक विलियम बर्न्स (CIA Director William Burns) अपने अधिकारियों के साथ इस सितंबर में भारत की यात्रा पर थे. उन्होंने वहां भी इस बीमारी के लक्षणों के बारे में खुलासा किया था.

    आखिर क्या है हवाना सिंड्रोम
    इससे दुनियाभर में अमेरिकी और कैनेडियन राजनयिकों, जासूसों और दूतावास के स्टाफ पीड़ित हो रहे हैं. करीब 200 से ज्यादा लोगों ने इसके लक्षणों के बारे में जानकारी दी है, सबसे पहले इस बीमारी के बारे में क्यूबा में पता चला, उसके बाद ऑस्ट्रेलिया, ऑस्ट्रिया, कोलंबिया, रूस और उज्बेकिस्तान में भी इसके मामले सामने आए. 24 अगस्त को अमेरिका की उपराष्ट्रपति कमला हैरिस कि वियतनाम जाने वाली उड़ान में देरी हुई क्योंकि देश की राजधानी हनोई में कुछ संदिग्ध मामले सामने आए थे.

    बम विस्फोट की तरह होता है दिमाग को नुकसान
    2016 में क्यूबा की राजधानी हवाना में अमेरिकी दूतावास में काम कर रहे कई सीआईए अधिकारियों ने अपने सिर में दबाव और झनझनाहट की शिकायत दर्ज की. वे सभी उल्टी आने और थकान महसूस कर रहे थे, साथ ही उन्हें कुछ भी याद रख पाना मुश्किल हो रहा था. इसके साथ ही उन्हें कान में दर्द और सुनने में भी तकलीफ हो रही थी. बाद में जब दिमाग का स्कैन किया गया तो पाया गया कि दुर्घटना या बम विस्फोट के दौरान जिस तरह से ब्रेन टिश्यू (दिमागी ऊत्तकों) क्षतिग्रस्त हो जाते हैं, वैसे ही क्षतिग्रस्त उत्तक नजर आए थे. इसके तुरंत बाद ही अमेरिकी सरकार ने अपने दूतावास के आधे से ज्यादा स्टाफ को शहर से वापस बुला लिया था.

    Tags: Havana Syndrome, US Embassy, World news, World news in hindi

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर