लाइव टीवी

कोरोना वारयरस: अब तक 2600 लोगों की मौत, WHO ने कहा- दुनिया संभावित महामारी के लिए तैयार रहे

भाषा
Updated: February 24, 2020, 11:04 PM IST
कोरोना वारयरस: अब तक 2600 लोगों की मौत, WHO ने कहा- दुनिया संभावित महामारी के लिए तैयार रहे
दुनिया को संभावित महामारी के लिए तैयारी करनी चाहिए : WHO

डब्ल्यूएचओ (WHO) के प्रमुख टेड्रोस एडहानोम गेब्रेयेसस ने कहा कि अब तक कोरोना वायरस (Corona Virus) को महामारी नहीं माना है, लेकिन संभावित महामारी से निपटने के लिए हमें तैयार करना चाहिए.

  • भाषा
  • Last Updated: February 24, 2020, 11:04 PM IST
  • Share this:
जिनेवा. विश्व स्वास्थ्य संगठन/डब्ल्यूएचओ (WHO) के प्रमुख ने सोमवार को कहा कि विश्व को जानलेवा नए कोरोना वायरस (Corona Virus) के प्रसार से निपटने की दिशा में कठिन मेहनत करने और संभावित महामारी से निपटने के लिए तैयार रहना चाहिए. डब्ल्यूएचओ के प्रमुख टेड्रोस एडहानोम गेब्रेयेसस ने कहा कि डब्ल्यूएचओ ने अब तक कोरोना वायरस को महामारी नहीं माना है, लेकिन संभावित महामारी से निपटने की तैयारी के लिए हम जो कदम उठा सकते हैं उसके वास्ते देशों को तैयार रहना चाहिए. घातक कोरोना वायरस के कारण 2,600 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है.

पाकिस्तान ने ईरान सीमा पर 200 लोगों को अलग किया
ईरान से लगने वाली सीमा पर पाकिस्तान ने वायरस से संक्रमित होने की आशंका में कम से कम 200 लोगों को पृथक किया है. ईरान पर कोरोना वायरस से जुड़े मामलों को छिपाने के आरोप लगने के बीच क्षेत्र में करोना वायरस के कारण मरने वालों की संख्या में बढ़ोतरी की आशंका व्यक्त की जा रही है.

अफगानिस्‍तान में भी कोरोना वायरस के एक मामले की पुष्टि



पाकिस्तान द्वारा ईरान से लगने वाली अपनी जमीनी सीमा को सील किये जाने के कुछ घंटों बाद लोगों को पृथक रखे जाने का यह मामला सामने आया है. जबकि उसके पड़ोसी अफगानिस्तान में भी इस वायरस से संक्रमण के पहले मामले की पुष्टि हो गई है. ईरानी अधिकारियों की तरफ से मामले में किसी भी तरह की लीपापोती के आरोपों से इनकार किया गया है. इससे पहले ऐसी खबरें आई थीं कि दर्जनों मौतों के बारे में कोई जानकारी नहीं दी गई.

बलूचिस्तान प्रांत में ईरान से लौटे 200 लोगों को अलग रखा
पाकिस्तान के दक्षिण पश्चिमी बलूचिस्तान प्रांत में ईरान से धार्मिक यात्रा से लौटे शिया मुस्लिम देश में दाखिल हुए और अन्य निवासियों के साथ थोड़ी देर बातचीत की. इसके बाद प्रांतीय अधिकारी हरकत में आए और उनसे कम से कम 200 को पृथक रखा. तफ्तान सीमा चौकी पर सहायक आयुक्त नजीबुल्लाह कम्बरानी ने एएफपी को बताया, 'हमने कोई जोखिम नहीं उठाने और उन सभी को अगले 15 दिनों तक निगरानी में रखने का फैसला किया है.' उन्होंने कहा कि करीब 250 लोगों को पृथक किया जा रहा है.

बलूचिस्तान के स्वास्थ्य सचिव मुदस्सिर मलिक ने लोगों को पृथक किये जाने की पुष्टि की लेकिन कहा कि 200 से 250 लोगों को अलग रखा जा रहा है. उन्होंने कहा कि करीब 7000 लोग ईरान से इस महीने पाकिस्तान लौटे हैं. पाकिस्‍तान और अफगानिस्तान की ईरान से लंबी सीमा लगती है और अक्सर मानव तस्करी से जुड़े लोग व दूसरे तस्कर इसका इस्तेमाल करते हैं. इसके अलावा लाखों अफगान शरणार्थी भी इस्लामिक गणराज्य में रहते हैं जिससे इस बात की आशंका है कि यह वायरस सीमा पार भी फैल सकता है.

ये भी पढ़ें: चीन ने कोरोना वायरस पर उठाया सबसे कड़ा कदम, अब जंगली जानवरों के साथ नहीं करेगा ऐसा

ये भी पढ़ें: अफगानिस्तान, कुवैत और बहरीन तक पहुंचा कोरोना वायरस, ईरान में अब तक 12 लोगों की मौत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अन्य देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 24, 2020, 11:04 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर