2014 ब्लास्ट केस में चेक गणराज्य सरकार का बड़ा फैसला, 18 रूसी राजनियक किए निष्कासित

कॉन्सेप्ट इमेज (CNN)

कॉन्सेप्ट इमेज (CNN)

चेक गणराज्य (Czech Republic) ने शनिवार को घोषणा की कि वह गोला-बारूद के एक डिपो में 2014 में हुए विस्फोट (2014 Blast Case) के जुड़े मामले में उन 18 रूसी राजनयिकों को निष्कासित कर रहा है जिनकी पहचान जासूस के तौर पर की गई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 18, 2021, 12:25 PM IST
  • Share this:
प्राग. चेक गणराज्य (Czech Republic) ने 2014 ब्लास्ट मामले (2014 Blast Case) में एक बड़ा कदम उठाया है. दरअसल, देश ने शनिवार को घोषणा की कि वह उन 18 रूसी राजनयिकों को निष्कासित कर रहा है जिनकी पहचान इस ब्लास्ट मामले में जासूस के तौर पर की गई है. चेक गणराज्य के प्रधानमंत्री आंद्रेज बाबिस ने कहा कि चेक गणराज्य की खुफिया एवं सुरक्षा सेवाओं ने सबूत मुहैया कराए हैं, जो एक पूर्वी कस्बे में हुए उस बड़े विस्फोट में रूसी सेना के एजेंटों की संलिप्तता की ओर इशारा करते हैं, जिसमें ‘‘दो निर्दोष पिता’’ मारे गए थे.

बाबिस ने कहा, ‘‘चेक गणराज्य एक सम्प्रभु देश है और उसे इस प्रकार के अप्रत्याशित नतीजों का उचित जवाब देना ही चाहिए.’’ देश के गृह एवं विदेश मंत्री जान हामासेक ने कहा कि रूसी दूतावास के 18 कर्मियों की पहचान रूसी जासूसों के तौर पर स्पष्ट रूप से हुई हैं और उन्हें 48 घंटे में देश छोड़ने का आदेश दिया गया है.

ये भी पढ़ें: जलवायु संकट पर तत्काल सहयोग के लिए हुए सहमत अमेरिका और चीन

वर्बेटिका में 16 अक्टूबर, 2014 को एक डिपो में हुए विस्फोट में दो लोगों की मौत हो गई थी. डिपो में 50 टन गोला-बारूद रखा था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज