हथियारों की तस्करी मामले में अर्जेन्टीना के पूर्व राष्ट्रपति बरी

हथियारों की तस्करी मामले में अर्जेन्टीना के पूर्व राष्ट्रपति बरी
(File photo/reuters/news18.com)

देश की एक निचली अदालत ने मेनम (88) को हथियारों की खेप भेजने में बराबर का भागीदार बताते हुए 'तस्करी को बढ़ावा देने' के आरोप में सात साल जेल की सजा सुनाई थी.

  • Share this:
अर्जेन्टीना की शीर्ष आपराधिक अदालत ने 1990 के दशक में इक्वाडोर और क्रोएशिया में हथियारों की खेप की तस्करी के मामले में 2013 के एक आदेश को पलटते हुए देश के पूर्व राष्ट्रपति कार्लोस मेनम को बरी कर दिया है. गौरतलब है कि 1990 के दशक के दौरान इक्वाडोर और क्रोएशिया दोनों सशस्त्र संघर्षों में शामिल थे.

देश की एक निचली अदालत ने मेनम (88) को हथियारों की खेप भेजने में बराबर का भागीदार बताते हुए 'तस्करी को बढ़ावा देने' के आरोप में सात साल जेल की सजा सुनाई थी. अदालत में बताया गया था कि मेनम ने 6,000 टन से अधिक सैन्य हथियारों की खेप वेनेजुएला और पनामा भेजने की मंजूरी दी, लेकिन इसे इक्वाडोर और क्रोएशिया पहुंचाया गया.

बोकारो के लूगु पहाड़ इलाके में नक्सिलयों के हथियारों का जखीरा बरामद



1995 में इक्वाडोर और पेरू के बीच एक युद्ध के बाद अर्जेन्टीना ने एक शांति दूत की भूमिका निभाई थी और तब से उसके ऊपर इक्वाडोर को हथियारों की आपूर्ति करने पर प्रतिबंध था. क्रोएशिया पर भी संयुक्त राष्ट्र ने हथियार प्रतिबंध लगाया था. मेनम ने इन आरोपों से इनकार किया है और कहा कि उन्हें लगा कि हथियार पनामा और वेनेजुएला भेजे गए हैं. अपने गृह प्रांत ला रिओजा में एक सीनेटर के नाते उन्हें गिरफ्तारी से छूट मिली है.
 नवादा: पूर्व वार्ड पार्षद के घर पुलिस को मिला हथियारों का जखीरा

मेनम ने 2013 के फैसले के खिलाफ अर्जेन्टीना के सुप्रीम कोर्ट में अपील की थी जिसने मामला फेडरल चैम्बर ऑफ क्रिमिनल कैसेशन को भेज दिया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading