सिर्फ 1 फीट का छेद कर 7800 करोड़ की ज्वैलरी चुरा ले गया दुबले-पतले चोरों का गैंग

सिर्फ 1 फीट का छेद कर 7800 करोड़ की ज्वैलरी चुरा ले गया दुबले-पतले चोरों का गैंग
जर्मनी के म्‍यूजियम से 7800 करोड़ की चोरी

जर्मनी (Germany) के ड्रेस्डन की ग्रीन वॉल्ट म्यूजियम (Green Vault museum) से अरबों रुपये की चोरी की घटना को अंजाम दिया गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 26, 2019, 11:15 PM IST
  • Share this:
जर्मनी. चोरों ने जर्मनी की एक म्‍यूजियम से अरबों के जेवरातों की चोरी करके दुनियाभर में सनसनी फैला दी. इस घटना को फिल्‍मी अंदाज में अंजाम दिया गया. जर्मनी के ड्रेस्डन की ग्रीन वॉल्ट म्यूजियम से चोरी हुए जेवरात इतने ज्‍यादा कीमते हैं कि उनकी कीमत का सही अंदाजा लगाना भी मुश्किल है. लगभग में इन आभूषणों की कीमत 7800 करोड़ बताई जा रही है. पुलिस को जब तक इस चोरी का पता चला तब तक काफी देर हो चुकी थी. पुलिस के लिए इस घटना का खुलासा करना भी एक चुनौती है.

बेहद दुबले पतले चोरों ने दिया इस घटना को अंजाम
न्‍यूज वेबसाइट डेली मेल के अनुसार, बेहद दुबले पतले चोरों ने इस घटना को अंजाम दिया. उन्‍होंने चोरी को अंजाम देने के लिए पहले अलार्म सिस्‍टम को फेल किया फिर खिलड़ी में सिर्फ एक फीट का सुराग किया और यहीं से अंदर घुस गए. म्‍यूजियम में लगे सीसीटीवी फुटेज में चोरों का हुलिया कैद हो गया. लेकिन चोरों की शक्‍ल कैद नहीं हो सकी. चोरों ने बेहद शातिराना तरीके से इस घटना को अंजाम दिया.

जर्मनी में अरबों रुपये की चोरी. फोटो साभार-AFP

जर्मनी पुलिस का कहना है कि बेहद दुबले पतले चोरों के एक गैंग ने इस घटना को अंजाम दिया. इसी आधार पर मामले की जांच भी की जा रही है. ग्रीन वॉल्ट म्यूजियम की सुरक्षा सबसे बेहतर मानी जाती थी. लेकिन, इस घटन के बाद इसपर सवाल उठने लगे हैं.



अनमोल चीजों में 18वीं सदी का बेशकीमती हीरा भी था
बता दें कि इस म्‍यूजियम में 4000 से ज्‍यादा अनमोल चीजें हैं. इनमें सोना, चांदी, जवाहरात और हाथीदांत भी शामिल हैं. ऐसा बताया जा रहा है कि चोरों ने जिन अनमोल चीजों को चुराया है उनमें एक बेशकीमती हीरा भी है जो 18वीं सदी में सैक्सनी के शासक ऑगस्टस द स्ट्रांग के संग्रह का हिस्सा है. हालांकि म्‍यूजियम के निदेशक का कहना है कि इस घटना के बाद हीरे के गहनों के तीन सेट के चोरी होने की आशंका जताई गई थी, लेकिन उसके मुकाबले कम चोरी हुई. हालांकि जिन चीजों की चोरी हुई है उनकी भी ठीक-ठीक कीमत बताना मुश्किल है, क्‍योंकि वे अनमोल थे.

जर्मनी के ड्रेस्डन की ग्रीन वॉल्ट म्यूजियम में 7800 करोड़ की चोरी. फोटो साभार- डेली मेल


पहले इलेक्‍ट्रिक पैनल में लगाई आग
चोरों ने सोमवार की तड़के सुबह म्‍यूजियम के पास एक इलेक्ट्रिक पैनल को आग के हवाले कर दिया. आग लगने की वजह से यहां की लाइट और अलार्म बंद हो गए. हालांकि यहां नाइट विजन कैमरे लगे थे, जिसके कारण दो लोगों के म्‍यूजिम में अंदर घुसने की तस्‍वीरें कैद हो गईं. इस मामले पर पुलिस ने एक वीडियो जारी किया है, जिसमें टॉर्च लिए आदमी कुल्‍हाड़ी से डिस्‍प्‍ले को तोड़ता दिख रहा है. पुलिस का कहना है कि चोरों ने इस घटना को चंद मिनटों में ही अंजाम दिया.

चोर ऑडी कार से फरार हो गए
चोरी को अंजाम देने के बाद चोर एक ऑडी कार में सवार होकर फरार हो गए. घटना के बाद ये कार जर्मनी के एक इलाके में जलती हुई पाई गई. पुलिस इस गाड़ी की भी जांच पड़ताल कर रही है. इस चोरी के बारे में कुछ अखबारों का ये भी कहना है कि दूसरे विश्‍व युद्ध के बाद किसी रत्‍न की ये सबसे बड़ी चोरी है.

जर्मनी के ड्रेस्डन की ग्रीन वॉल्ट म्यूजियम की तस्‍वीर, फोटो साभार- डेली मेल


इस म्‍यूजियम में है एक अनमोल प्रतिमा
म्‍यूजियम के निदेशक का कहना है कि जिन गहनों की चोरी की गई वह एक तरह से विश्‍व के लिए धरोहर हैं. सैक्‍सनी के शासक ऑगस्‍टस द ग्रीन वॉल्‍ट ने ही 1723 में ग्रीन वॉल्‍ट को बनवाया था. ऐसा बताया जाता है कि ग्रीन वॉल्‍ट के खजाने में 63.8 सेंटीमीटर की एक प्रतिमा है जिसपर 547.71 कैरेट के नीलम की मणि जड़ी हुई है. ऐसा कहा जाता है कि इस प्रतिमा को रूस के पीटर प्रथम ने भेंट किया था.

इस म्‍यूजियम के दो हिस्‍से हैं
जर्मनी के ड्रेस्डन की ग्रीन वॉल्ट म्यूजियम के दो हिस्‍से हैं. पहला ऐतिहासिक और दूसरा आधुनिक. सोमवार तड़के सुबह म्‍यूजियम के ऐतिहासिक हिस्‍से में चोरी की गई. म्‍यूजियम के इस हिस्‍से में यहां का लगभग तीन चौथाई खजाना है. इस म्‍यूजियम में रोजाना सीमित संख्‍या में लोगों को आने की इजाजत दी जाती है. दूसरे विश्‍वयुद्ध के बाद यह म्‍यूजियम काफी समय तक बंद था. वर्ष 2006 में मरम्‍मत के बाद इसे दोबारा खोला गया.

ये भी पढ़ें: किराए के हिसाब से भारत में सबसे महंगा यहां दुकान लेना, यहां देखें लिस्ट

ये भी पढ़ें: महिला उत्पीड़न के खिलाफ दुनियाभर में हजारों लोगों ने निकाली रैली
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज