Shocking: दुनिया की सबसे खतरनाक जेल, जहां एक-दूसरे को मारकर खा जाते हैं कैदी

अफ्रीकी देश रवांडा के इस जेल में कैदी एक-दूसरे को मारकर खा जाते हैं. (Photo- News18)
अफ्रीकी देश रवांडा के इस जेल में कैदी एक-दूसरे को मारकर खा जाते हैं. (Photo- News18)

एक मानवाधिकार संगठन ह्यूमन राइट्स वॉच (Humon Rights Watch) ने उत्तर कोरिया के जेल (North Korean Prison) को लेकर सनसनीखेज खुलासा किया है. यहां पर जेल में महिलाओं से रेप (Rape with Women) होते हैं और कैदियों से जानवरों सा सलूक होता है. ऐसे में आज हम आपको बता रहे हैं दुनिया के सबसे खतरनाक जेल (Dangerous Jail) के बारे में...

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 21, 2020, 4:02 PM IST
  • Share this:
उत्तर कोरिया (North Korea) के जेल को लेकर एक मानवाधिकार संगठन ह्यूमन राइट्स वॉच (Humon Rights Watch) ने सनसनीखेज खुलासा किया है. इस संस्था द्वारा जारी किए गए रिपोर्ट में खुलासा किया गया है कि किम जोंग उन (Kim Jong-Un) का प्रशासन सुनवाई से पूर्व बंदियों को रखने के लिए एक जेल (North Korean Jail) बनवाया था, जहां पर कैदियों के साथ पशुओं से भी खराब व्‍यवहार होता है. इतना ही नहीं, महिलाओं कैदियों के साथ रेप (Rape with women in Jail) जैसी घटनाएं भी होती हैं. ऐसे में आज हम आपको दुनिया के सबसे खतरनाक जेल (World's Most Dangerous Jail) के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसका नाम गीतारामा सेंट्रल जेल (Gitarama Central Jail) है.

अफ्रीकी देश रवांडा (Rawanda) में स्थित गीतारामा सेंट्रल जेल को दुनिया का सबसे खतरनाक कारागृह (Dangerous Jail) माना जाता है. इस जेल में क्रूरता (Tortured in Jail) की सारी सीमाएं पार कर दी जाती हैं. यहां कैदियों को न तो ढंग से खाने को मिलता है और न ही सही तरीके से रहने को. ऐसे में बड़े से बड़े अपराधी भी इस जेल में जाने के नाम से कांपते हैं. दरअसल, इस जेल में गार्ड्स (Jail Guards) कैदियों को नहीं मारते बल्कि यहां के कैदी ही एक-दूसरे को मारते हैं. कहा ये भी जाता है कि कैदी दूसरे कैदियों को मारकर उनकी डेड बॉडी तक खा जाते हैं. इसके लिए यहां हर रोज खूनी खेल होता है. कैदी अपनी मौत की भीख मांगते हैं, लेकिन उन्हें तड़पा-तड़पा कर मारा जाता है.

600 कैदी की क्षमता, रहते हैं 7 हजार से ज्यादा



गीतारामा सेंट्रल जेल में कैदियों के रहने की कुल क्षमता महज 600 के करीब है, लेकिन इसमें फिलहाल 7 हजार से भी ज्यादा कैदी रहते हैं. ऐसे में यहां पैर रखने तक की जगह नहीं बचती. इतनी कम जगह में कैदियों को दिन-रात खड़े-खड़े ही वक्त गुजारना पड़ता है. ज्यादातर कैदी गंदगी के बीच गीली जगहों पर खड़े रहते हैं. ऐसे में ये लोग ज्यादातर खतरनाक बीमारियों की चपेट में भी आ जाते हैं. एक अनुमान के मुताबिक, इस जेल में हर दिन लगभग 8 कैदियों की मौत अलग-अलग बीमारियों से होती है. कई मानवाधिकार संगठन से जुड़े लोग इसका विरोध करते रहे हैं, बावजूद इसके कैदियों के जीवन स्तर में कोई सुधार नहीं हो पाया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज