दुनियाभर में कोरोना वायरस के खौफ के बीच ग्रीस ने टोक्यो को सौंपी ओलिंपिक मशाल

दुनियाभर में कोरोना वायरस के खौफ के बीच ग्रीस ने टोक्यो को सौंपी ओलिंपिक मशाल
उन्होंने कहा ,‘हम इन्हें दोबारा स्थगित नहीं कर सकते हम यह मानकर चलते हैं कि इसका कोई वैक्सीन नहीं है और अगर है भी तो सबको नहीं मिल सकता.’

ओल‌िंपिक खेलों (Olympics Games) का आयोजन इस साल 24 जुलाई से 9 अगस्त तक जापान (Japan) के शहर टोक्यो (Tokyo) में किया जाएगा.

  • Share this:
एथेंस. एक तरफ खेलों की दुनिया में सभी के सामने सबसे बड़ा सवाल यही है कि क्या कोरोना वायरस (Coronavirus) के खौफ के बीच इस साल ओलिंपिक खेलों का आयोजन हो पाएगा या नहीं, वहीं दूसरी ओर जापान में इसे लेकर तैयारियों जोरों पर चल रही हैं. खेलों का ये महाकुंभ समय पर शुरू होने की उम्मीद लिए ओलिंपिक की मशाल ग्रीस से टोक्यो पहुंच गई. गुरुवार को यहां बंद दरवाजों के अंदर आयोजित किए गए समारोह में टोक्यो ओलिंपिक 2020 (Tokyo Olympics 2020) के आयोजकों को मशाल सौंपी गई.


दर्शकों की गैरमौजूदगी में ओलिंपिक जिम्नास्ट चैंपियन लेफ्टेरिस पेट्रोनियास ने मशाल लेकर दौड़ लगाई जबकि ओलिंपिक पोल वॉल्ट चैंपियन कैटरीना स्टेफनिडी ने पैनथैनेसिक स्टेडियम के अंदर ओलंपिक ‘अग्निकुंड’ को प्रज्ज्वलित किया. इसी स्टेडियम में 1896 में पहले आधुनिक ओलिंपिक खेल हुए थे.


अटलांटा ओलिंपिक में हिस्सा लेने वाली इमोतो को सौंपी मशाल
अग्निकुंड प्रज्‍ज्वलित होने के बाद यह मशाल टोक्यो ओलिंपिक 2020 (Tokyo Olympics 2020) के प्रतिनिधि नाओको इमोतो को सौंप दी गई. इमोतो तैराक हैं और उन्होंने 1996 अटलांटा ओलिंपिक खेलों में हिस्सा लिया था. यूनिसेफ की प्रतिनिधि इमोतो को आखिरी क्षणों में नियुक्त किया गया क्योंकि वह यूनान में रहती हैं ओर उन्हें जापान से यात्रा करने की जरूरत नहीं पड़ी. पिछले सप्ताह प्राचीन ओलंपिया में मशाल प्रज्जवलित करने का समारोह भी दर्शकों के बिना आयोजित किया गया था.

सेबेश्चियन को ने माना, स्‍थगित हो सकते हैं ओलिंपिक


लंदन. विश्व एथलेटिक्स संस्था के प्रमुख सेबेश्चियन को ने स्वीकार किया कि कोरोना वायरस संक्रमण फैलने के कारण टोक्यो ओलिंपिक (Tokyo Olympics) को इस साल के अंत तक स्थगित किया जा सकता है. हालांकि साथ ही उन्होंने कहा कि निश्चित फैसला करने के लिए यह जल्दबाजी होगी. को ने कहा कि ओलिंपिक का स्‍थगित होना संभव है. आईओसी ओर अन्य महासंघों के साथ बातचीत में जो माहौल था, उसे देखते हुए कोई भी ऐसा नहीं कह रहा था कि कुछ भी हो हमें खेलों का आयोजन करना ही है. मगर यह ऐसा फैसला नहीं है कि इसे इसी समय करना होगा.

IPL पर खेल मंत्री का बड़ा बयान-सवाल लोगों की सुरक्षा का है,15 अप्रैल के बाद...


कोरोना वायरस के चलते घर में कैद हुआ ये क्रिकेटर, बेटी को उठाकर की वेटलिफ्टिंग



अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज