तिब्बत के पहाड़ी क्षेत्र में चीन का युद्धाभ्यास, H-6 बॉम्‍बर लड़ाकू विमान ने बरसाए बम

तिब्बत के पहाड़ी क्षेत्र में चीन का युद्धाभ्यास, H-6 बॉम्‍बर लड़ाकू विमान ने बरसाए बम
चीन ने तिब्बत के पहाड़ी इलाके में युद्ध अभ्यास किया. (फोटो सौजन्य से सोशल मीडिया)

एलएसी (LAC) पर जारी तनाव के बीच चीन (China) ने भारत को डराने के लिए सीमा के पास बड़ा युद्ध अभ्यास (War practice) किया. दावों के मुताबिक इस अभ्यास में लड़ाकू विमान, टैंक और पीएलए (PLA) के जवानों ने भाग लिया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 9, 2020, 5:18 PM IST
  • Share this:
पेइचिंग. लाइन ऑफ ऐक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) पर भारत और चीन के बीच सीमा विवाद को लेकर तनाव जारी है. बीते दिनों लद्दाख में भारतीय जवानों की कार्रवाई से तिलमिलाए चीन ने लद्दाख से सटे तिब्बत के पठार में बड़ा युद्ध अभ्यास किया. इस युद्ध अभ्यास में परमाणु बम गिराने में सक्षम H-6 बॉम्‍बर विमानों ने भाग लिया और आसमान से बम गिराए. उधर, चीन की सेना ने भी लाइव फायर ड्रिल करते हुए टैंकों से गोले बरसाए और मिसाइलें दागने का अभ्‍यास किया.

चीन के सरकारी अखबार ग्‍लोबल टाइम्‍स ने दावा किया है कि, यह युद्धाभ्‍यास हाल ही में किए गए हैं. चीनी अखबार ने कहा कि पीएलए के सेंट्रल थिएटर कमांड एयर फोर्स ने तिब्बत के पठारी इलाके में युद्धाभ्‍यास किया. इस अभ्‍यास में एच-6 बॉम्‍बर विमानों के साथ ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट वाई-20 ने भाग लिया.

चीनी बॉम्बर H-6 लड़ाकू विमान परमाणु हमला करने में सक्षम
आपको बता दें चीन ने H -6 बॉम्बर लड़ाकू विमान को लंबी दूरी पर स्थित टारगेट को निशाना बनाने के लिए डिजाइन किया है. यह विमान परमाणु हथियारों से हमला करने में सक्षम है. चीन ने इस विमान को अमेरिका से मुकाबला करने और उसके गुआम बेस को निशाना बनाने के अपडेट किया है. इससे पहले इस विमान का जो वर्जन था, उसमें मिसाइल से हमला करने की क्षमता सीमित थी.





वहीं चीन के सरकारी अखबार ग्‍लोबल टाइम्‍स ने दावा किया है कि, चीनी सेना के तिब्‍बत मिलिट्री कमांड ने 4900 मीटर की ऊंचाई पर लाइव फायर ड्रिल किया है. इस दौरान मिसाइल सिस्‍टम का भी परीक्षण किया गया. ग्‍लोबल टाइम्‍स ने इस अभ्‍यास का एक वीडियो भी जारी किया है जिसमें चीनी रॉकेट फोर्स रॉकेट दाग रही है



1000 चीनी सैनिक 100 गाड़ियों से पहुंचे
दूसरी ओर चीन के सरकारी चैनल सीजीटीएन ने दावा किया है कि इस युद्धाभ्यास में चीन के 1 हजार सैनिकों ने भाग लिया. जिन्होंने फायर ड्रिल और दुश्मन के हमले से बचने और उस पर जवाबी हमला करने की ड्रिल भी शामिल थी.

अपने दावे में सीजीटीएन चैनल ने कहा कि ये सैनिक 100 गाड़ियों से अभ्यास स्थल पर पहुंचे थे. सीजीटीएन के न्‍यूज प्रड्यूसर शेन शी वेई ने इसका वीडियो ट्वीट करके लिखा, 'कृपया इंतजार करिए और देखिए. चीन यह युद्धाभ्‍यास ऐसे समय पर कर रहा है जब भारतीय सेना ने पैंगोंग इलाके में उसे करारा झटका द‍िया है.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज