होम /न्यूज /दुनिया /कैसा होगा रूस का परमाणु हमला, यूक्रेन में 42 लाख लोगों की जान लेने का है प्लान?

कैसा होगा रूस का परमाणु हमला, यूक्रेन में 42 लाख लोगों की जान लेने का है प्लान?

रूस की परमाणु धमकी के बाद पश्चिमी देशों को डर है कि यह हमला वर्ल्ड वॉर 3 की शुरुआत कर सकता है.

रूस की परमाणु धमकी के बाद पश्चिमी देशों को डर है कि यह हमला वर्ल्ड वॉर 3 की शुरुआत कर सकता है.

संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट की माने तो दुनिया के सात देशों के पास कुल 12700 नुक्लियर वारहेड्स मौजूद हैं. इनमें से दो ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

हाइलाइट्स

रूस के पास सबसे अधिक 5977 परमाणु बम उसके सैन्य ठिकानों में मौजूद हैं
इन वारहेड में से अकेले 1100 से अधिक इंटर कॉन्टिनेंटल बैलेस्टिक मिसाइल हैं
कीव के साथ रूस खारकीव को भी अपने निशाने पर ले सकता है

मॉस्को. यूक्रेन रूस युद्ध को सात महीने बीतने को है लेकिन अभी तक कोई भी खेमा हार मानने को तैयार नहीं दिख रहा है. दुनिया की दूसरी सबसे ताकतवर रूसी सेना इन दिनों स्ट्रेटेजिक लड़ाई पर जोर दे रही है. कब्जाए गए क्षेत्रों में जनमत संग्रह करा कर उन्हें रूस में शामिल करने के निर्णय के बाद यूक्रेन अपने क्षेत्रों को वापस आजाद कराने के लिए प्रतिबद्ध भी दिख रहा है. ऐसे में दोनों ओर से चल रही खींचतान के बीच राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने परमाणु हमले की धमकी देकर दुनिया को चिंता में डाल दिया है. अपने टेलीविज़न संबोधन के दौरान रूसी नेता ने साफ कर दिया कि अगर कब्जाए गए क्षेत्रों पर यूक्रेन ने हमला किया तो वह परमाणु हमला करने से भी नहीं चुकेंगे. अपने बेड़े में विशाल परमाणु बमों की खेप रखने वाले रूस ने अगर सच में परमाणु युद्ध शुरू कर दिया तो यह दुनिया पर कैसा प्रभाव डाल सकता है?

कैसा होगा रूसी परमाणु हमला
विश्लेषकों का कहना है कि मॉस्को संभावित रूप से एक या अधिक टैक्टिकल या युद्धक्षेत्र परमाणु बम तैनात कर सकता है. टैक्टिकल परमाणु छोटे हथियार होते हैं, जिनमें 0.3 किलोटन से लेकर 100 किलोटन तक की विस्फोटक शक्ति होती है. तुलना के लिए, 1945 में अमेरिका द्वारा जापान के हिरोशिमा पर जो परमाणु बम गिराया गया था वो महज 15 किलोटन का था. इस हमले में एक लाख 35 हजार लोग मारे गए थे वहीं आज भी कई तरह की गंभीर बीमारियों की चपेट में लोग आ रहे हैं. ऐसे में अगर रूस हिरोशिमा परमाणु हमले के मुकाबले 6 गुना अधिक ताकतवर परमाणु हमला करेगा तो एक झटके में यूक्रेन तबाह हो सकता है. टैक्टिकल वेपन की जगह स्ट्रेटेजिक नुक्लियर वेपन अधिक विनाशकारी साबित हो सकता है जिसका प्रभाव पूरी दुनिया पर पड़ना तय है. हालांकि यूक्रेन युद्ध में रूस के स्ट्रेटेजिक परमाणु हमला करने की संभावना न के बराबर ही है.

परमाणु हमले से क्या चाहेगा रूस?
अमेरिकी जानकारों के मुताबिक टैक्टिकल परमाणु बम का उपयोग करने का लक्ष्य यूक्रेन को आत्मसमर्पण के लिए मजबूर करना या उसे बातचीत के राजी करने के लिए हो सकता है. रूस परमाणु हमला कर वेस्टर्न ब्लॉक को दो हिस्सों में बांट सकता है जिससे यूरोप के देश परमाणु हमलों से डर कर अमेरिका का साथ देना बंद कर दें. वाशिंगटन में सेंटर फॉर स्ट्रेटेजिक एंड इंटरनेशनल स्टडीज (सीएसआईएस) के सैन्य विशेषज्ञ मार्क कैनशियन ने रूस के परमाणु हमला करने की संभावनाओं पर साफ किया कि यूक्रेन में सिर्फ एक परमाणु हमला करने से कुछ हासिल नहीं होगा. जापान पर जैसे दो शहरों पर अमेरिका ने परमाणु हमला कर उसे सरेंडर करने को मजबूर कर दिया था ठीक वैसे ही रूस भी अपने हमलों से परिणामों को बदलना चाहेगा. रूस यह नहीं चाहेगा कि उसके हमलों में अधिक जानमाल का नुकसान हो लेकिन टैक्टिकल परमाणु हमला कर वह यूक्रेन को सरेंडर करने के लिए जरूर मजबूर करना चाहेगा.

इसके लिए पुतिन पानी के ऊपर एक परमाणु बम विस्फोट करके या यूक्रेन के ऊपर कुछ ऊंचाई पर एक भारी विस्फोट कर जेलेंस्की को बातचीत के लिए मना सकते हैं. व्हाइट हाउस के पूर्व परमाणु नीति विशेषज्ञ जॉन वोल्फस्टल के मुताबिक ऐसा कर रूस नाटो और पुतिन के खिलाफ वैश्विक सहमति को तोड़ सकता है.

रूस के पास दुनिया तबाह करने की सहूलियत
संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट की माने तो दुनिया के सात देशों के पास कुल 12700 नुक्लियर वारहेड्स मौजूद हैं. इनमें से दो देशों अमेरिका और रूस 90 प्रतिशत से अधिक परमाणु बम अपने पास रखते हैं. विश्व भर में रूस के पास सबसे अधिक 5977 परमाणु बम उसके सैन्य ठिकानों में मौजूद हैं. इतने परमाणु बमों की मदद से पुतिन सैकड़ों बार पृथ्वी को तबाह कर सकते हैं. फेडरेशन ऑफ अमेरिकन साइंटिस्ट्स के अनुसार इन वारहेड में से अकेले 1100 से अधिक इंटर कॉन्टिनेंटल बैलेस्टिक मिसाइल हैं जो रूस से बैठे ही दुनिया के हर कोने तक भेजी जा सकती हैं. साथ ही यूक्रेन को समुद्र से भी एक के बाद एक परमाणु हमले देखने को मिल सकते हैं. रूस की नौसेना ने सबमरीन से परमाणु हमले करने के लिए अपने बेड़े में 800 बैलिस्टिक मिसाइल को सजा रखा है.

कितने लोगों की जा सकती है जान
अगर मान लिया जाये कि रूस हिरोशिमा और नागासाकी की तरह दो परमाणु हमला करने की सोचता है तो वह यूक्रेन के दो सबसे महत्त्वपूर्ण शहरों को निशाना बना सकता है. यूक्रेन की राजधानी के साथ रूस खारकीव को भी अपने निशाने पर ले सकता है. दोनों ही शहरों की कुल आबादी करीब 42 लाख से अधिक है ऐसे में अगर रूस अपने टैक्टिकल वेपन इन दो शहरों पर गिराता है तो भीषण तबाही मच सकती है. एक अनुमान के मुताबिक दोनों शहरों की आबादी इन हमलों की चपेट में आ सकती है. हालांकि रूस 42 लाख की विशाल आबादी के ऊपर खतरा दिखा कर पहले ही यूक्रेन को आत्मसमर्पण के लिए मना सकता है.

Tags: Russia ukraine war

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें