होम /न्यूज /दुनिया /

Earthquake in Philippines: भूकंप के तेज झटकों से हिली फिलीपींस की धरती, 7.1 रही तीव्रता

Earthquake in Philippines: भूकंप के तेज झटकों से हिली फिलीपींस की धरती, 7.1 रही तीव्रता

भूकंप के झटके मेट्रो मनीला और बुलाकान और ओरिएंटल मिंडोरो प्रांतों में भी महसूस किए गए.

भूकंप के झटके मेट्रो मनीला और बुलाकान और ओरिएंटल मिंडोरो प्रांतों में भी महसूस किए गए.

यूएस जियोलॉजिकल सर्वे ने कहा कि लूजोन के मुख्य द्वीप पर अबरा के पहाड़ी और हल्की आबादी वाले प्रांत में सुबह 8:43 बजे (0043 जीएमटी) भूकंप के झटके महसूस किए गए. शुरुआत में रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 6.8 मापी गई. लेकिन कुछ देर बाद इसकी तीव्रता 7.1 रही.

अधिक पढ़ें ...

मनीला. फिलीपींस (Philippines) में आज भूकंप (Earthquake in Philippines) के तेज झटके महसूस किए गए हैं. भूकंप का केंद्र फिलीपींस के 14 किलोमीटर दक्षिण-पूर्व डोलोरेस में था. मनीला में 300 किलोमीटर से अधिक दूर भी भूकंप के झटके महसूस किए गए. यूएस जियोलॉजिकल सर्वे का कहना है कि भूकंप के केंद्र में इमारतों की खिड़कियां टूट गईं. हालांकि, भूकंप में अब तक किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है. भूकंप के बाद सुनामी (Tsunami) की भी चेतावनी नहीं दी गई है.

यूएस जियोलॉजिकल सर्वे ने कहा कि लूजोन के मुख्य द्वीप पर अबरा के पहाड़ी और हल्की आबादी वाले प्रांत में सुबह 8:43 बजे (0043 जीएमटी) भूकंप के झटके महसूस किए गए. शुरुआत में रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 6.8 मापी गई. लेकिन कुछ देर बाद इसकी तीव्रता 7.1 रही.

भूकंप के झटके मेट्रो मनीला और बुलाकान और ओरिएंटल मिंडोरो प्रांतों में भी महसूस किए गए. हालांकि, अभी तक किसी के नुकसान या हताहत होने की कोई जानकारी नहीं मिली है.

मई में भी आया था भूकंप
फिलीपींस में कुछ ही महीनों में कई भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं. 22 मई को रात 9:50 बजे (स्थानीय समयानुसार) फिलीपींस के बुंगाहन में रिक्टर पैमाने पर 6.1 तीव्रता का एक और भूकंप आया था. हालांकि इसमें भी कोई नुकसान की खबर नहीं थी. सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, भूकंप बुंगाहन से 1 किमी पूर्व-उत्तर पूर्व में आया, जिसका केंद्र 129.0 किमी की गहराई पर था, जिसे शुरू में 13.9517 डिग्री उत्तरी अक्षांश और 120.6771 डिग्री पूर्वी देशांतर पर निर्धारित किया गया था.

क्यों आता है भूकंप?
धरती मुख्य तौर पर चार परतों से बनी होती हैं. इनर कोर, आउटर कोर, मैनटल और क्रस्ट. क्रस्ट और ऊपरी मैन्टल कोर को लिथोस्फेयर कहते हैं. ये 50 किलोमीटर की मोटी परत कई वर्गों में बंटी हुई है, जिसे टैकटोनिक प्लेट्स कहते हैं. ये टैकटोनिक प्लेट्स अपनी जगह पर कंपन करती रहती हैं. जब इस प्लेट में बहुत ज्यादा कंपन हो जाती हैं, तो भूकंप महसूस होता है.

Tags: Earthquake, Earthquake News, Earthquakes

अगली ख़बर