Home /News /world /

रूस में आज तालिबान से होगा भारत का सामना, 'मॉस्को फॉर्मेट' में सुलझेंगे मुद्दे?

रूस में आज तालिबान से होगा भारत का सामना, 'मॉस्को फॉर्मेट' में सुलझेंगे मुद्दे?

तालिबान की सत्ता को रूस ने मान्यता दे दी है.

तालिबान की सत्ता को रूस ने मान्यता दे दी है.

मंगलवार को मॉस्को द्वारा आयोजित 'विस्तारित ट्रोइका' की एक बैठक से अमेरिका के हटने के एक दिन बाद तालिबान और 10 क्षेत्रीय देशों के बीच बातचीत होगी. केवल रूस, चीन और पाकिस्तान के विशेष प्रतिनिधियों ने विस्तारित ट्रोइका बैठक में भाग लिया.

अधिक पढ़ें ...

    मॉस्को. रूस में बुधवार को ‘मॉस्को फॉर्मेट’ (Moscow Format) मीटिंग होने जा रही है. इसमें पहली बार भारतीय प्रतिनिधिमंडल और तालिबान (Taliban) अधिकारी आमने-सामने आएंगे. इस बैठक में अफगानिस्तान (Afghanistan) में सुरक्षा स्थिति और एक समावेशी सरकार के गठन पर ध्यान केंद्रित करने की उम्मीद है.

    मंगलवार को मॉस्को द्वारा आयोजित ‘विस्तारित ट्रोइका’ की एक बैठक से अमेरिका के हटने के एक दिन बाद तालिबान और 10 क्षेत्रीय देशों के बीच बातचीत होगी. केवल रूस, चीन और पाकिस्तान के विशेष प्रतिनिधियों ने विस्तारित ट्रोइका बैठक में भाग लिया.

    अफगानिस्तान में जरूरी चीज़ों की किल्लत, बॉर्डर पर दवाइयों से लदे ट्रकों को नहीं मिल रही एंट्री

    रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव मॉस्को प्रारूप बैठक को संबोधित करेंगे. इसमें क्षेत्र के 10 देशों के प्रतिनिधि और तालिबान प्रतिनिधिमंडल शामिल होंगे. रूसी विदेश मंत्रालय ने मंगलवार को कहा कि बैठक अफगानिस्तान में सैन्य-राजनीतिक स्थिति के विकास और एक समावेशी सरकार के गठन की संभावनाओं पर चर्चा करेगी.

    मॉस्को प्रारूप की स्थापना 2017 में रूस, अफगानिस्तान, भारत, ईरान, चीन और पाकिस्तान से जुड़े छह-पक्षीय तंत्र के रूप में की गई थी. बाद में इसे और अधिक देशों को शामिल करने के साथ विस्तारित किया गया. 2017 और 2018 में मॉस्को में बैठकें आयोजित की गईं. प्रेस वार्ता के दौरान विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता बागची ने कहा था, ‘अफगानिस्तान के प्रति भारत की नीति अफगान लोगों के साथ उसकी दोस्ती द्वारा निर्देशित है.’

    तालिबान के गृहमंत्री सिराजुद्दीन हक्कानी ने सुसाइड बॉम्बर्स को बताया हीरो, परिवारों को इनाम देने का ऐलान

    उन्होंने कहा कि भारत ने अतीत में बुनियादी ढांचे के साथ-साथ मानवीय उद्देश्यों के लिए अफगानिस्तान को सहायता प्रदान की है. उन्होंने कहा, ‘आपको याद होगा कि संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने 13 सितंबर को इस विषय पर एक बैठक बुलाई थी, जिसमें भारत के तरफ से विदेश मंत्री एस जयशंकर ने भाग लिया था.’ (एजेंसी इनपुट)

    Tags: Afghanistan Crisis, Afghanistan Taliban conflict

    अगली ख़बर