Sputnik-V की पहली और दूसरी डोज के बीच का बढ़ाया जा सकता है अंतराल

कॉन्सेप्ट इमेज.

कॉन्सेप्ट इमेज.

रूस के गमालेया रिसर्च सेंटर (Gamaleya Research Centre) के अनुसार स्पुतनिक-वी (Sputnik-V) वैक्सीन की पहली और दूसरी डोज के बीच के अंतराल को बढ़ाया जा सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 27, 2021, 11:53 PM IST
  • Share this:
मास्को. रूस के गमालेया रिसर्च सेंटर (Gamaleya Research Centre) के डायरेक्टर अलेक्जेंडर गिंट्सबर्ग ने बताया कि स्पुतनिक-वी (Sputnik-V) वैक्सीन की पहली और दूसरी डोज के बीच के अंतराल को बढ़ाया जा सकता है. यह अंतराल 21 से 3 महीने के बीच होगा. उन्होंने कहा कि इससे वैक्सीन के असर पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा. उन्होंने आगे कहा, 'प्रत्येक राष्ट्रीय नियामक को यह तय करना है कि शॉट्स के बीच 21 दिन के अंतराल को बनाए रखना है या इसे 3 महीने तक बढ़ाना है.'

वहीं, दूसरी तरफ कोरोना वायरस संक्रमण की रफ्तार को काबू में करने के लिए भारत को वैक्सीनेशन की जरूरत है. लेकिन, अभी जो परिस्थिति है उसमें भारत को भारी मात्रा में दवा और ऑक्सीजन चाहिए, ताकि लोगों की जान बचाई जा सके. भारत में ऑक्सीजन की किल्लत के चलते हाहाकार मचा हुआ है और इन सबके बीच रूस ने भारत को मदद का प्रस्ताव दिया है. रूस ने भारत को ऑक्सीजन कंसंट्रेटर्स और रेमडेसिवीर देने का प्रस्ताव दिया है. सरकारी सूत्रों ने कहा है कि भारत सरकार रूस से ऑक्सीजन कंसंट्रेटर्स और रेमडेसिवीर दवा खरीदने की योजना बना रही है.



Youtube Video

ये भी पढ़ें: Google सीईओ सुंदर पिचाई का ऐलान- कोरोना से जंग के लिए भारत को देंगे 135 करोड़ रुपये

इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक अगले 15 दिनों के अंदर भारत सरकार ऑक्सीजन कंसंट्रेटर्स और रेमडेसिवीर इंजेक्शन की खरीदारी रूस से शुरू कर देगा. रूस ने भारत को कहा है कि वो हर हफ्ते 3 से 4 लाख रेमडेसिवीर इंजेक्शन की सप्लाई भारत को कर सकता है और अगर भारत को और ज्यादा इंजेक्शन की जरूरत होगी तो रूस जरूरत के मुताबिक इंजेक्शन की सप्लाई भी कर सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज