मैक्सिको में बड़े पैमाने पर हुई महिलाओं की हत्या, राष्ट्रपति ने कहा- 90% इमरजेंसी कॉल झूठे

मैक्सिको में बड़े पैमाने पर हुई महिलाओं की हत्या, राष्ट्रपति ने कहा- 90% इमरजेंसी कॉल झूठे
मैक्सिको में महिलाओं की हत्या के खिलाफ प्रदर्शन (Photo: REUTERS)

मैक्सिको में महिलाओं को रिकॉर्ड दरों पर हत्या (Murder of Woman At large scale) की जा रही है. इस साल के पहले चार महीनों में 987 महिलाओं और लड़कियों की हत्या की गई.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
मैक्सिको. मैक्सिको में महिलाओं को रिकॉर्ड दरों पर हत्या (Murder of Woman At large scale) की जा रही है. वर्ष 2020 के चार महीनों में 987 महिलाओं और लड़कियों की हत्या (Nine Hundred and Eighty Seven Murder) कर दी गई. हालांकि इन हत्याओं पर राष्ट्रपति लोपेज़ ओब्रेडोर (Lopez Obredor) का कहना है कि ज्यादातर इमरजेंसी कॉल 'झूठे' (Fake Emergency Calls) हैं. मैक्सिको में महिलाओं की हत्या डराने वाले स्तर पर की जा रही है लेकिन देश के राष्ट्रपति आपातकालीन हॉटलाइन पर आ रही ढेरों कॉल को महत्व न देते हुए इन्हें झूठा घोषित करते हुए दिख रहे हैं. सरकारी आंकड़ों के अनुसार मार्च में महिलाओं के खिलाफ हिंसा के सम्बन्ध में 26,171 इमरजेंसी कॉलें की गई थीं.

लॉकडाउन में हो रही है हत्या

पिछले सप्ताह सरकार द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार कोरोना वायरस के प्रसार को धीमा करने के लिए 23 मार्च को घर पर ही रहने के देशव्यापी आदेश के बाद हत्याओं में वृद्धि हुई है. इन हत्याओं में एक तथ्य सामान है कि सभी मामलों में महिलाओं का उत्पीड़न किया जा रहा था. पिछले पांच वर्षों में इस साल अप्रैल महिलाओं की रिकॉर्ड हत्याओं के साथ सबसे घातक महीना सिद्ध हुआ. इसके बावजूद राष्ट्रपति आंद्रेस मैनुअल लोपेज़ ओब्रेडोर ने अपने पूर्ववर्तियों के नव उदारवादी (नियोलिबेरल) गवर्निंग मॉडल को दोषी ठहराते हुए इस समस्या के इतने बड़े स्तर पर होने को ही खारिज कर दिया है.



मार्च में 26,171 इमरजेंसी कॉलें आईं



राष्ट्रपति ने मई के मध्य में सुबह अपनी दैनिक प्रेस मीटिंग के दौरान कहा कि मैं आपको एक और तथ्य देने जा रहा हूं लेकिन इसका अर्थ यह बिलकुल नहीं है कि महिलाओं के खिलाफ हिंसा होती ही नहीं या उसका अस्तित्व ही नहीं है बल्कि मैं यह बिलकुल नहीं चाहता हूं कि आप सभी मेरी बात की गलत व्याख्या करें.
मार्च में 26,171 इमरजेंसी कॉल आई थी.

90 फीसदी इमरजेंसी कॉलें झूठी- राष्ट्रपति

महिलाओं पर हो रही हिंसा से जुडी इमरजेंसी कॉल पर सरकारी आंकड़ों की बाबत जब एक पत्रकार द्वारा राष्ट्रपति से प्रश्न किया गया तो उसके जवाब में उन्होंने कहा कि रिपोर्ट का आधार बनाने वाली आने वाली इमरजेंसी कॉल की नब्बे प्रतिशत कॉल झूठी होती हैं. सरकारी आंकड़ों के अनुसार मार्च में महिलाओं के खिलाफ हिंसा के सम्बन्ध में 26,171 इमरजेंसी कॉलें की गई थीं.

इसी के अगले महीने जब quédate en casa या घर पर ही रहने के आदेश के कारण महिलाएं घरों में ही थीं तब भी 21,722 कॉल की गई थीं और ये आंकडे इसी सरकार की सरकारी रिपोर्ट में प्रदर्शित किये गए. महिलाओं पर हो रही हिंसा के संबंध में की जाने वाली कॉल्स पर राष्ट्रपति लोपेज़ ओब्रेडोर के विचारों का एक प्रमुख वकील द्वारा प्रतिवाद किया गया है. कॉल को फॉलो नहीं किया जाता है और इसे अधूरा माना जाता है.

'पड़ोसी करते हैं कॉल, सरकार नहीं करती है इसकी पुष्टि'

सेक्स आधारित घृणा के कारण हुई महिलाओं की हत्या जैसे विषय के विशेषज्ञ और इसी आधार पर मैक्सिको का आपराधिक मानचित्र बनाने वाले मैक्सिकन विशेषज्ञ मारिया सालगुएरो ने फोन पर बात करते हुए सीएनएन को बताया कि इस तरह के कॉल अक्सर पड़ोसी करते हैं लेकिन सरकार की तरफ से उनके पास जाकर इन कॉल्स की पुष्टि नहीं की जाती है. इसी कारण इन इमरजेंसी कॉल को अपूर्ण माना जा जाता है.

इस साल चार महीनों में 987 महिलाओं की हत्या

वकील ने कहा कि पीड़ित महिला जब उत्पीड़न करने वाले के साथ ही रह रही हो तो वह मदद के लिए खुद कॉल करने से डरती है यहाँ तक की वह यह बात किसी को भी बताने से डरती है. उनका कहना था कि यदि सरकारी अधिकारी उनके पास जाएँ तो शायद वे कुछ खुलकर बता पाएं. सरकारी आंकड़ों के अनुसार 2020 के आरम्भिक चार महीनों में 987 महिलाओं और लड़कियों की हत्या कर दी गई. मैक्सिको की सुरक्षा और संरक्षण सचिव के अनुसार इनमें से सिर्फ 308 हत्याएं ही महिला उत्पीड़न पर आधारित हैं. सरकार जानबूझकर इन हत्याओं के पीछे जेंडर के कारण को छुपा रही है.

ये भी पढ़ें:  नेपाल के नए नक्शे में भारत के कालापानी-लिपुलेख-लिंपियाधुरा भी होंगे शामिल

ब्राजील सरकार ने COVID-19 से हुई मौत के आंकड़े सार्वजनिक प्रदर्शन से हटाए
First published: June 7, 2020, 11:19 AM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading