वैज्ञानिकों का दावा, 1.5 बिलियन प्रकाश वर्ष दूर से धरती पर आए रेडियो सिगनल्स

इस तरह की घटना केवल एक बार पहले एक अलग टेलीस्कोप द्वारा रिपोर्ट की गई थी.

News18Hindi
Updated: January 10, 2019, 4:19 AM IST
वैज्ञानिकों का दावा, 1.5 बिलियन प्रकाश वर्ष दूर से धरती पर आए रेडियो सिगनल्स
प्रतीकात्मक तस्वीर
News18Hindi
Updated: January 10, 2019, 4:19 AM IST
खगोलविदों ने कनाडा में एक टेलीस्कोप को मिले एक दूर की आकाश गंगा से निकलने वाले रहस्यमय सिगनल्स की जानकारी दी है. यह रेडियो सिगनल्स कहां से आ रहे हैं इसकी सटीक प्रकृति और उत्पत्ति की फिलहाल कोई जानकारी नहीं मिल सकी है.

एफआरबी के रूप में जाने जाने वाले तेज रेडियो सिगनल्स 13 बार एकाएक आए और इनके बीच एक बहुत ही असामान्य संकेत था. यह रेडियो सिगनल्स उसी स्रोत से लगभग 1.5 बिलियन प्रकाश वर्ष दूर से आ रहे थे. इस तरह की घटना केवल एक बार पहले एक अलग टेलीस्कोप द्वारा रिपोर्ट की गई थी.

ब्रिटिश कोलंबिया विश्वविद्यालय (UBC) के एक खगोल वैज्ञानिक, इंग्रिड स्टेयर्स ने कहा, 'एक बार फिर यह सिगनल्स इस ओर इशारा कर रहे हैं कि वहां और भी कुछ है'.



यह भी पढ़ें: 2022 में अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन जा सकता है भारतीय अंतरिक्ष यात्री

उन्होंने कहा कि अध्ययन के लिए उपलब्ध स्रोतों के साथ, हम इन ब्रह्मांडीय पहेलियों को समझने में सक्षम हो सकते हैं. हम यह भी जान सकते हैं वे कहां से हैं और इसके कारण क्या हैं.

ब्रिटिश कोलंबिया की ओकागन घाटी में स्थित CHIME अब्ज़र्वटॉरी में चार 100 मीटर लंबे, सेमी सिलिंड्रिकल एंटेना हैं, जो प्रत्येक दिन पूरे उत्तरी आकाश को स्कैन करते हैं. टेलीस्कोप को 13 रेडियो सिगनल्स का पता चला था, जिसमें रिपीटर्स भी शामिल थे.

शोध अब 'नेचर' जर्नल में प्रकाशित हुआ है. मैकगिल यूनिवर्सिटी, कनाडा के श्रीहर्ष तेंदुलकर ने कहा, 'हमने एक दूसरे रिपीटर की खोज की है और इसकी प्रकृति पहले रिपीटर के समान हैं.यह हमें आबादी के रूप में रिपीटर्स की प्रकृति के बारे में अधिक बताता है.'
Loading...

यह भी पढ़ें:अंतरिक्ष में रोज़ होती हैं हैरान कर देने वाली ये 7 बातें

एफआरबी छोटी, रेडियो तरंगों की चमक होती हैं, जो पूरे ब्रह्मांड में लगभग आधे रास्ते से आती दिखाई देती हैं.  अब तक, वैज्ञानिकों ने 60 सिंगल तेज रेडियो बर्स्ट्स का पता लगाया है. उनका मानना है कि हर दिन आकाश में एक हजार एफआरबी हो सकती है.

इस बारे में कई सिद्धांत हैं कि इन रेडियो सिगनल्स के कारण क्या हो सकते हैं. इनमें एक बहुत मजबूत चुंबकीय क्षेत्र के साथ एक न्यूट्रॉन स्टार शामिल है जो बहुत तेज़ी से घूम रहा है, दो न्यूट्रॉन सितारे एक साथ मर्ज हो रहे हैं.

यह भी पढ़ें: टकराने वाली है हमारी गैलेक्सी, क्या होगा पृथ्वी का

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...