• Home
  • »
  • News
  • »
  • world
  • »
  • उत्तर कोरिया ने समुद्र में दागी मिसाइल, किम जोंग ने बाइडन के सामने रखी ये मांग

उत्तर कोरिया ने समुद्र में दागी मिसाइल, किम जोंग ने बाइडन के सामने रखी ये मांग

मिसाइल टेस्ट करने के बाद उत्तर कोरिया ने संयुक्त राष्ट्र से कहा कि उसके पास हथियारों को टेस्ट करने का अधिकार है.

मिसाइल टेस्ट करने के बाद उत्तर कोरिया ने संयुक्त राष्ट्र से कहा कि उसके पास हथियारों को टेस्ट करने का अधिकार है.

उत्तर कोरिया (North Korea) अपने परमाणु कार्यक्रमों के चलते अमेरिका (USA) और संयुक्त राष्ट्र (United Nations) के प्रतिबंधों का सामना कर रहा है. उत्तर कोरिया ने हाल में हथियारों के जो परीक्षण किए हैं, उनसे साफ पता चलता है कि वह दक्षिण कोरिया और अमेरिका पर दबाव बनाने की कोशिश कर रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    प्योंगयांग. उत्तर कोरिया (North Korea) ने अपने पूर्वी तट से समुद्र में एक ‘अज्ञात मिसाइल’ (Short-Range Missile) दागी है. इस बात की जानकारी दक्षिण कोरिया की सेना और जापान के अधिकारियों ने दी है. इनका कहना है कि ‘ये बैलिस्टिक मिसाइल’ जैसी लग रही है. दक्षिण कोरिया की सेना (South Korea Army) ने बताया कि परमाणु हथियारों से लैस इस देश (उत्तर कोरिया) ने समुद्र में मिसाइल दागी है. उत्तर कोरिया ने इस बीच अमेरिका पर दुश्मनी करने का आरोप लगाया. किम जोंग उन (Kim Jong Un) ने बाइडन प्रशासन से दक्षिण कोरिया के साथ संयुक्त सैन्य अभ्यास को स्थायी रूप से समाप्त करने की मांग भी की.

    मिसाइल टेस्ट करने के बाद उत्तर कोरिया ने संयुक्त राष्ट्र से कहा कि उसके पास हथियारों को टेस्ट करने का अधिकार है. हाल ही में इस देश ने समुद्र से मिसाइल दागी थीं. इसके कुछ दिन बाद ट्रेन से पहली बार मिसाइल दागने का सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया था. जिसके बाद कोरियाई क्षेत्र में तनाव उत्पन्न हो गया. ताजा मामले में दक्षिण कोरिया के जॉइंट चीफ ऑफ स्टाफ की ओर से अभी कुछ नहीं कहा गया है.

    इस वजह से अमेरिका-फ्रांस के बीच बढ़ा मतभेद, रक्षा मंत्रियों की बैठक रद्द

    उत्तर कोरिया अपने परमाणु कार्यक्रमों के चलते अमेरिका और संयुक्त राष्ट्र के प्रतिबंधों का सामना कर रहा है. उत्तर कोरिया ने हाल में हथियारों के जो परीक्षण किए हैं, उनसे साफ पता चलता है कि वह दक्षिण कोरिया और अमेरिका पर दबाव बनाने की कोशिश कर रहा है, ताकि ये दोनों देश प्रतिबंधों को हटाने के लिए बातचीत के लिए राजी हो जाएं.

    बीते हफ्ते किम जोंग उन (Kim Jong un) की बहन किम यो जोंग (Kim Yo Jong) ने कहा था कि अगर शर्तें पूरी होती हैं तो वह बातचीत के लिए तैयार हैं. जोंग ने कहा कि अगर दक्षिण कोरिया ‘शत्रुतापूर्ण नीतियों’ और ‘दोहरे व्यवहार के मानकों’ को छोड़ देता है, तो दोनों कोरियाई देश सुलह की दिशा में कदम उठा सकते हैं.

    नॉर्थ कोरिया ने साउथ कोरिया के समक्ष वार्ता का प्रस्ताव रखा, शत्रुतापूर्ण नीतियां छोड़ने की शर्त रखी

    इस बीच दक्षिण कोरिया के एकीकरण मंत्रालय की ओर से कहा गया कि वह किम यो जोंग के बयान को काफी महत्व देते हैं. दक्षिण कोरिया बातचीत के जरिए क्षेत्र में परमाणु निरस्त्रीकरण और शांति स्थापित करने के लिए लगातार जोर दे रहा है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज