इस देश में सिख बाइक चालक नहीं पहनेंगे हेलमेट तो कट जाएगा चालान

जर्मनी के लाइपजिग शहर स्थित सर्वोच्‍च अदालत ने एक मामले की सुनवाई करते हुए दोपहिया वाहन चलाने वाले सिखों को मिली हेलमेट पहनने की छूट खत्‍म कर दी है.

News18Hindi
Updated: July 6, 2019, 5:14 PM IST
इस देश में सिख बाइक चालक नहीं पहनेंगे हेलमेट तो कट जाएगा चालान
जर्मनी के लाइपजिग शहर स्थित सर्वोच्‍च अदालत ने एक मामले की सुनवाई करते हुए दोपहिया वाहन चलाने वाले सिखों को मिली हेलमेट पहनने की छूट खत्‍म कर दी है. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)
News18Hindi
Updated: July 6, 2019, 5:14 PM IST
क्‍या आपने कभी किसी सिख को पगड़ी के ऊपर से हेलमेट पहनकर बाइक चलाते हुए देखा है? वैसे तो भारत समेत कई देशों में पगड़ी पहनने वाले सिखों को हेलमेट लगाने पर छूट दी गई है. लेकिन एक ऐसा भी देश है जहां इस छूट को खत्‍म कर दी गई है.

दरअसल, जर्मनी के लाइपजिग शहर स्थित सर्वोच्‍च अदालत ने एक मामले की सुनवाई करते हुए दोपहिया वाहन चलाने वाले सिखों को मिली हेलमेट पहनने की छूट खत्‍म कर दी है. इस कोर्ट ने चार जुलाई को यह आदेश सुनाया है. वहां पर अब पगड़ी पहनने वाले सिखों को भी हेलमेट लगाना पड़ेगा.

यह फैसला 2013 में एक सिख के चालान से जुड़ा हुआ है. उस समय जर्मनी के दक्षिण में स्थित कोंस्‍टास शहर में एक पगड़ीधारी सिख का चालान काट दिया गया था. उस शख्‍स ने इस चालान के खिलाफ प्रशासनिक मामलों की सर्वोच्‍च अदालत में एक अपील दायर की थी.

याचिकाकर्ता का तर्क- हेलमेट से धार्मिक स्‍वतंत्रता का हनन

इसके साथ ही याचिकाकर्ता ने कोर्ट से हेलमेट पहनने की छूट देने की गुहार लगाई थी. उसने तर्क दिया था कि अगर वे हेलमेट पहनेगा तो उसकी धार्मिक स्‍वतंत्रता का हनन होगा. सिख धर्म का होने के कारण पगड़ी पहनना उसका कर्तव्‍य है. सिख धर्म में पगड़ी, कड़ा, कृपाण, कंघा और केश धारण करना अनिवार्य है.

ये भी पढ़ें: दुनिया का पहला तैरता डेयरी फार्म, यहां रोबोट निकालते हैं दूध

मामले पर कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए कहा कि हेलमेट सिर्फ चालक की सुरक्षा से जुड़ा हुआ ही नहीं है बल्कि अन्‍य लोगों की सुरक्षा से भी जुड़ा हुआ है. इसलिए याचिकाकर्ता को धार्मिक स्‍वतंत्रता में कटौती करनी होगी. ऐसा नहीं करना दूसरों के अधिकारों का हनन है. अगर हेलमेट न पहनने पर किसी दुर्घटना में चालक की मौत हो जाती है या वे गंभीर रूप से घायल हो जाता है तो उसे देखकर अन्‍य लोग भी सदमे में चले जाते हैं. साथ ही हेलमेट दूसरों की सुरक्षा को भी सुनिश्चित होती है.
Loading...

ये भी पढ़ें: इजरायल में आई नई मुसीबत, समुद्री तट पर पहुंची लाखों जेलीफिश
First published: July 6, 2019, 5:12 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...