होम /न्यूज /दुनिया /वर्ल्ड वॉर-2 की टीस! आधी सदी बाद पोलैंड ने जर्मनी से मांगे $1300 बिलियन, जानें वजह

वर्ल्ड वॉर-2 की टीस! आधी सदी बाद पोलैंड ने जर्मनी से मांगे $1300 बिलियन, जानें वजह

पौलैंड ने जर्मनी से द्वितीय विश्वयुद्ध में हुए नकसान की भरपाई की मांग की है. (फोटो-REUTERS)

पौलैंड ने जर्मनी से द्वितीय विश्वयुद्ध में हुए नकसान की भरपाई की मांग की है. (फोटो-REUTERS)

पोलैंड के शीर्ष राजनेता ने गुरुवार को कहा कि सरकार नाजियों के द्वितीय विश्व युद्ध के आक्रमण और उनके देश पर कब्जे के लिए ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

30 अर्थशास्त्रियों, इतिहासकारों और अन्य विशेषज्ञों की एक टीम ने इस रिपोर्ट पर काम किया है.
पोलैंड ने कहा है कि वह जर्मनी से 1300 अरब अमेरिकी डालर के बराबर राशि की मांग करेगा.
पोलैंड 5.8 अरब डॉलर के टैंक, होवित्जर तथा गोला बारूद खरीदने के लिए द. कोरिया से समझौता कर सकता है.

नई दिल्ली. पोलैंड द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान नाजियों के हमले व कब्जे के लिए जर्मनी से 1300 अरब अमेरिकी डॉलर के बराबर राशि की मांग करेगा. पोलैंड के शीर्ष राजनेता ने गुरुवार को कहा कि सरकार नाजियों के द्वितीय विश्व युद्ध के आक्रमण और उनके देश पर कब्जे के लिए जर्मनी से मुआवजे की मांग करेगी. सत्तारूढ़ दल के मुख्य नेता जारोस्लाव काज़िंस्की ने कहा कि ऐसा करना पोलैंड का “दायित्व” है. पोलैंड की दक्षिणपंथी सरकार का तर्क है कि जो देश युद्ध का पहला शिकार था, उसे पड़ोसी जर्मनी द्वारा पूरी तरह से मुआवजा नहीं दिया गया है, जो अब यूरोपीय संघ के भीतर उसके प्रमुख भागीदारों में से एक है. लगभग 30 अर्थशास्त्रियों, इतिहासकारों और अन्य विशेषज्ञों की एक टीम ने 2017 से रिपोर्ट पर काम किया है. इस मुद्दे ने द्विपक्षीय तनाव पैदा कर दिया है.

जर्मनी में, जर्मन-पोलिश सहयोग के लिए सरकार के अधिकारी, डाइटमार नीतान ने एक बयान में कहा कि 1 सितंबर “जर्मनी के लिए अपराध और शर्म का दिन है. जो हमें बार-बार याद दिलाता है कि जर्मनी द्वारा किए गए अपराधों को नहीं भूलना चाहिए.” साथ ही यह भी कहा कि, “हमारे इतिहास का सबसे काला अध्याय” है और अभी भी द्विपक्षीय संबंधों को प्रभावित करते हैं. बता दें कि एडॉल्फ हिटलर के नेतृत्व में जर्मन सैनिकों ने 1 सितंबर 1939 को पोलैंड पर आक्रमण किया, जिससे द्वितीय विश्व युद्ध शुरू हो गया. जर्मन आक्रमण के जवाब में, ग्रेट ब्रिटेन और फ्रांस ने जर्मनी के खिलाफ युद्ध की घोषणा की. द्वितीय विश्व युद्ध की शुरुआत के 80 साल पूरे होने पर, जर्मन राष्ट्रपति फ्रैंक-वाल्टर स्टीनमीयर ने 2019 में वारसॉ में एक भाषण दिया, जिसमें पोलैंड से “जर्मनी के ऐतिहासिक अपराध के लिए क्षमा” की मांग की थी.

वहीं पोलैंड 5.8 अरब डॉलर के टैंक, होवित्जर तथा गोला बारूद खरीदने के लिए शुक्रवार को दक्षिण कोरिया से एक समझौता कर सकता है. वह यूक्रेन में रूस के युद्ध के मद्देनजर अपनी रक्षा क्षमताओं को बढ़ाने के तौर पर यह कदम उठा रहा है. पोलैंड के उप प्रधानमंत्री एवं रक्षा मंत्री मॉरिश ब्लास्जाक तथा दक्षिण कोरियाई रक्षा खरीद कार्यक्रम प्रशासन के प्रमुख इओम डोंग-ह्वान पोलैंड के उत्तरी शहर मोराग में एक सैन्य अड्डे पर समझौतों पर हस्ताक्षर कर सकते हैं.

पोलैंड ने अन्य यूरोपीय देशों और अमेरिका की तरह यूक्रेन में छह महीने से चल रहे युद्ध के लिए सैन्य उपकरण भेजे हैं. दक्षिण कोरिया के साथ समझौते के तहत पोलैंड ह्यूंडै रोटेम द्वारा निर्मित 3.4 अरब डॉलर के 180 के2 ब्लैक पैंथर टैंक और हन्ह्वा डिफेंस द्वारा निर्मित 212 के9 थंडर होवित्जर खरीदने जा रहा है, जिनकी कीमत करीब 2.4 अरब डॉलर है. इनमें से कुछ हथियार इस साल तक तथा बाकी सभी हथियार 2025 तक मिलने की उम्मीद है.

Tags: Germany, World WAR 2

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें