प्रजनन के लिए बाघिन के पास बाघ को भेजा, दोनों की लड़ाई में बाघिन की मौत

लंदन चिड़ियाघर की ओर से यह भी जानकारी दी गयी कि विशेषज्ञ लगातार दोनों की ओर से एक दूसरे के प्रति दी जा रही प्रतिक्रियाओं पर गंभीरता से नजर रख रहे थे.

ए पी
Updated: February 11, 2019, 2:38 PM IST
प्रजनन के लिए बाघिन के पास बाघ को भेजा, दोनों की लड़ाई में बाघिन की मौत
लंदन स्थित चिड़ियाघर में मौजूद बाघ असीम. तस्वीर 30 जनवरी की AP
ए पी
Updated: February 11, 2019, 2:38 PM IST
लंदन के एक चिड़ियाघर में अजीब मामला सामने आया है. यहां एक बाघ को बाघिन के पास मेटिंग के लिए लाया गया लेकिन चौंकाने वाले इस घटनाक्रम में बाघ ने बाघिन की हत्या कर दी. लंदन के चिड़ियाघर की ओर से जारी किये गये बयान के अनुसार सुमात्रा के बाघ असीम को करीब 10 दिनों तक अलग पिंजड़े में रखा गया था. फिर मेटिंग के लिए असीम के पिंजड़े में बाघिन मेलिता को लाया गया. इस दौरान दोनों हिंसक हो गये और इसमें बाघिन की मौत हो गयी.

चिड़ियाघर के अधिकारियों ने दोनों को एक दूसरे की मौजूदगी और गंध से परिचित होने के लिए समय तक इंतजार किया ताकि दोनों एक साथ रह सकें. शुक्रवार को दोनों को एक ही पिंजड़े में डाल दिया गया. हालांकि इसके बाद असीम ने मेलिता को मार डाला.

यह भी पढ़ें:  बढ़ेगी भारतीय वायुसेना की ताकत, भारत को मिले दुनिया का सबसे एडवांस टेक्नॉलॉजी वाले हेलिकॉप्टर्स



चिड़ियाघर के लोगों को उम्मीद थी कि संकटग्रस्त सुमित्रन उप-प्रजाति के लिए एक यूरोप-व्यापी बाघ संरक्षण कार्यक्रम के तहत दोनों प्रजनन करेंगे लेकिन मेलिता की मौत के बाद इन आशाओं का दुखद अंत हो गया. एक बयान में चिड़ियाघर ने कहा कि 'यहां हर कोई इस घटना से दुखद है. मेलाती की मौत से हमें काफी दुख पहुंचा. अब हमारा ध्यान इस पर है कि हम इस घटना के बाद असीम का ख्याल कैसे रखा जाये.'

यह भी पढ़ें:   Video : दिल्ली की सड़कों पर दिखा रॉबर्ट वाड्रा का बेफ्रिक अंदाज, वीडियो वायरल

चिड़ियाघर की ओर से यह भी जानकारी दी गयी कि विशेषज्ञ लगातार दोनों की ओर से एक दूसरे के प्रति दी जा रही प्रतिक्रियाओं पर गंभीरता से नजर रख रहे थे. असीम दस दिन पहले आया था और उसने दोनों को एक साथ रखने के 'सकारात्मक संकेत' भी दिये.

यह भी पढ़ें:  डायरेक्टर ने किया था खुलासा, ‘कामसूत्र’ की शूटिंग के दौरान चेक करने आते थे 21 विधायक
Loading...

बयान में कहा गया कि मुलाकात की शुरुआत में दोनों ने वैसा ही व्यवहार किया जैसा की उम्मीद जतायी जा रही थी लेकिन थोड़ी ही देर में दोनों हिंसक हो गये. इसके बाद दोनों एक दूसरे से अलग करने के लिए अलार्म बजाये गये लेकिन इसका कोई असर नहीं हुआ. चिड़ियाघर के कर्मचारियों ने बड़ी मुश्किल से सात वर्षीय असीम को वापस उसके पिंजड़े में भेजने में सफल हो पाये हालांकि तब तक 10 वर्षीय मेलाती की मौत हो चुकी थी.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर