Home /News /world /

अमीर देश अपनी जनता को धड़ल्ले से लगा रहे हैं कोविड बूस्टर डोज, नाराज हुआ WHO, दे डाली चेतावनी

अमीर देश अपनी जनता को धड़ल्ले से लगा रहे हैं कोविड बूस्टर डोज, नाराज हुआ WHO, दे डाली चेतावनी

WHO प्रमुख टेडरोस अधानोम घेब्रेयसस. (फाइल फोटो)

WHO प्रमुख टेडरोस अधानोम घेब्रेयसस. (फाइल फोटो)

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) प्रमुख टेडरोस अधानोम घेब्रेयसस (Tedros Adhanom Ghebreyesus) ने चेतावनी दी है कि अमीर देशों में धड़ल्ले से बूस्टर खुराक (Booster Dose) लगाये जाने से कोविड-19 महामारी के लंबे समय तक रहने की संभावना बनेगी. इस साल टीके ने कई लोगों की जान बचाई है लेकिन उनके असमान वितरण ने कई लोगों की जान ले भी ली.

अधिक पढ़ें ...
  • ए पी
  • Last Updated :

    बर्लिन.  विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) प्रमुख टेडरोस अधानोम घेब्रेयसस (Tedros Adhanom Ghebreyesus) ने चेतावनी दी है कि अमीर देशों में धड़ल्ले से बूस्टर खुराक (Booster Dose) लगाये जाने से कोविड-19 महामारी के लंबे समय तक रहने की संभावना बनेगी. साथ ही, कहा कि कोई भी देश इस तरीके से महामारी की गिरफ्त से बाहर नहीं निकल पाएगा. डब्ल्यूएचओ महानिदेशक टेडरोस अधानोम घेब्रेयसस ने बुधवार को कहा कि इस साल टीके ने कई लोगों की जान बचाई है लेकिन उनके असमान वितरण ने कई लोगों की जान ले भी ली.

    टेडरोस ने इससे पहले स्वस्थ वयस्कों को इस साल के अंत तक बूस्टर खुराक देने पर रोक लगाने की अपील की थी ताकि असमान वैश्विक टीका वितरण से निपटा जा सके. उन्होंने कहा कि अभी प्रतिदिन लगाई जा रही टीके की 20 प्रतिशत खुराक बूस्टर हैं. उन्होंने कहा कि अमीर देशों में धड़ल्ले से बूस्टर खुराक लगाये जाने से कोविड-19 महामारी लंबे समय तक रहने की संभावना बनेगी, ना कि यह खत्म होगी. उन्होंने कहा कि अधिक टीकाकरण कवरेज वाले देशों को टीके की आपूर्ति बढ़ाने से वायरस को फैलने और अपना स्वरूप बदलने का कहीं अधिक अवसर मिलेगा.

    ये भी पढ़ें :  WHO प्रमुख ने बूस्टर डोज को बताया ‘स्कैंडल’, गरीब देशों में टीकाकरण पर जताई चिंता

    ये भी पढ़ें :  डेल्‍टा की तुलना में तेजी से फैल रहा ओमिक्रॉन, वैक्‍सीन ले चुके लोग भी सुरक्षित नहीं: WHO

    फर्क इससे पड़ता है कि किसे वैक्सीन मिली

    टेडरोस ने कहा कि कोरोना वायरस संक्रमण के कारण अस्पतालों में भर्ती या मरने वाले लोगों के एक बड़े हिस्से को टीका नहीं लगा है. टेडरोस ने कहा है कि डोज उनको मिलना जरूरी है, जिन्हें इसकी सबसे ज्यादा जरूरत है. उन्‍होंने कहा, ‘यह इस बारे में नहीं है कि कितने लोगों को वैक्सीन लगी. बल्कि फर्क इससे पड़ता है कि किसे वैक्सीन मिली.’

    बच्चों को वैक्सीन देने का कोई मतलब नहीं 

    उन्होंने कहा, ‘स्वस्थ वयस्कों को बूस्टर डोज देने या बच्चों को वैक्सीन देने का कोई मतलब नहीं है. जब स्वास्थ्यकर्मी, बुजुर्ग और दुनिया में अन्य ज्यादा जोखिम वाले समूह अभी भी पहले डोज का ही इंतजार कर रहे हैं.’ कई देश लगातार वैक्सीन प्राप्त कर चुकी आबादी के लिए अतिरिक्त खुराक दे रहे हैं.

    Tags: Booster Dose, COVID-19 pandemic, Tedros Adhanom Ghebreyesus, WHO

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर