होम /न्यूज /दुनिया /यूक्रेन के खेरसॉन में तेज हुआ रूसी हमला, मेयर ने की लोगों से शहर छोड़ने की अपील

यूक्रेन के खेरसॉन में तेज हुआ रूसी हमला, मेयर ने की लोगों से शहर छोड़ने की अपील

यूक्रनी शहर खेरसॉन के अधिकांश हिस्सों में बृहस्पतिवार को विद्युत आपूर्ति फिर से बाधित हो गई. (सांकेतिक फोटो)

यूक्रनी शहर खेरसॉन के अधिकांश हिस्सों में बृहस्पतिवार को विद्युत आपूर्ति फिर से बाधित हो गई. (सांकेतिक फोटो)

गुरुवार को रूसी हमले के चलते यूक्रेन के खेरसॉन शहर के अधिकांश हिस्सों में विद्युत आपूर्ति फिर से बाधित हो गई. बता दें क ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

यूक्रेनी शहर खेरसॉन के अधिकांश हिस्सों में विद्युत आपूर्ति फिर से बाधित हो गई.
खेरसॉन के मेयर ने लोगों से शहर छोड़ने की अपील की है.

खेरसॉन. रूसी गोलाबारी के कारण यूक्रेनी शहर खेरसॉन के अधिकांश हिस्सों में बृहस्पतिवार को विद्युत आपूर्ति फिर से बाधित हो गई. खेरसॉन में बिजली आपूर्ति हाल में बहाल की गई थी. मॉस्को ने ठंड के मौसम में प्रमुख असैन्य बुनियादी ढांचों को नष्ट करने के लिए हमले तेज कर दिए हैं. कीव में, मेयर विताली क्लित्स्को ने राजधानी के लाखों निवासियों से कहा कि उन्हें सर्दियों के लिए पानी और भोजन का भंडार रखना चाहिए, क्योंकि बुनियादी ढांचों को अधिक नुकसान होने पर आपूर्ति बाधित होने की आशंका है.

मेयर ने की लोगों से शहर छोड़ने की अपील
उन्होंने लोगों से आग्रह किया कि यदि संभव हो तो वे शहर छोड़कर अपने मित्रों या परिवार के अन्य सदस्यों के पास जाने पर विचार करें. वहीं रूस ने बृहस्पतिवार को अपने विदेशी एजेंट कानून का एक नया संस्करण लागू किया, जिसके तहत ‘‘विदेशी प्रभाव वाले’’ किसी भी व्यक्ति को दूसरे देश का एजेंट मानने की अधिकारियों की शक्तियों का विस्तार किया गया है.

पुतिन ने कानून के नए संस्करण पर किया था हस्ताक्षर
कानून के पहले के संस्करणों के तहत, अधिकारियों को किसी संगठन या व्यक्ति को एजेंट साबित करने के लिए यह दिखाना पड़ता था कि उसने विदेशों से वित्तीय या भौतिक सहायता प्राप्त की थी. कानून के नए संस्करण पर देश के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने जुलाई में हस्ताक्षर किए थे. संसद के निचले सदन के एक बयान के अनुसार, ऐसे व्यक्ति को एजेंट माना जा सकता है, जिस पर विदेशी प्रभाव हो.

विदेश मंत्री ने अमेरिका पर लगाया यूक्रेन की मदद करने का आरोप
रूस के विदेश मंत्री सर्गेइ लावरोव ने बृहस्पतिवार को आरोप लगाया कि पश्चिमी देश प्रत्यक्ष रूप से यूक्रेन संघर्ष में संलिप्त हैं और वे कीव को हथियारों की आपूर्ति कर रहे हैं एवं उसके सैनिकों को प्रशिक्षित कर रहे हैं. लावरोव ने यह भी कहा कि रूस द्वारा यूक्रेन के ऊर्जा केंद्रों और अन्य अहम अवसंरचनाओं पर किए गए हमले की वजह से लाखों लोगों बिना बिजली, हीटर और पानी के हैं. उन्होंने कहा कि ये हमले यूक्रेन की सेना को कमजोर करने और पश्चिमी हथियारों से लदे पोतों को रोकने के लिए था.

Tags: Russia ukraine war, Ukraine News

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें