रूस कोरोना मरीजों को पहली बार देगा मान्यता प्राप्त दवाइयां, 1 महीने में 60 हजार होंगे ठीक

रूस कोरोना मरीजों को पहली बार देगा मान्यता प्राप्त दवाइयां, 1 महीने में 60 हजार होंगे ठीक
रूस पहली बार अपने यहां कोरोना के मरीजों पर मान्यता प्राप्त दवाओं का इस्तेमाल करेगा.

रूस (Russia) पहली बार अपने यहां कोरोना वायरस (Coronavirus) के मरीजों पर मान्यता प्राप्त दवाइयों का इस्तेमाल करेगा.

  • Share this:
मास्को: रूस (Russia) अगले हफ्ते से कोरोना (Coronavirus) मरीजों को पहली बार मान्यता प्राप्त दवाइयां (approved drug) देना शुरू करेगा. रॉयटर्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक कहा जा रहा है कि रूस सरकार से अप्रूव्ड इन दवाइयों के इस्तेमाल से कोरोना के मरीज कम होंगे और हेल्थ सिस्टम पर पड़ा बोझ भी कम होगा. इससे आर्थिक जीवन भी दोबारा पटरी पर लौट सकती है.

रूस के हॉस्पिटल कोरोना के मरीजों पर एंटीवायरल ड्रग एविफविर का इस्तेमाल शुरू करेंगे. 11 जून से इस दवा का इस्तेमाल शुरू हो जाएगा. इस दवा को बनाने वाली कंपनी की तरफ से कहा गया है कि दवा का इतनी मात्रा में प्रोडक्शन होगा कि एक महीने में कम से कम 60 हजार मरीज ठीक हो पाएंगे.

1990 में जापान ने बनाई थी पहली बार ये दवा
फिलहाल कोरोना वायरस की एक भी वैक्सीन नहीं बन पाई है. हालांकि कई तरह की वैक्सीन पर ट्रायल चल रहा है. इसी तरह से एक भी दवा कोरोना के मरीजों पर पूरी तरह से कारगर नहीं रही है. गिलियड कंपनी की एक दवा रेमेडिसिविर का कुछ देशों में इस्तेमाल हो रहा है. हालांकि ये भी कोरोना के संक्रमितों को पूरी तरह से ठीक करने में सक्षम नहीं है. कुछ देशों में इमरजेंसी कंडीशन में मरीजों पर इसका इस्तेमाल हो रहा है.



एविफविर दवा को आमतौर पर फैविपिराविर के नाम से जाना जाता है. सबसे पहले 1990 में इसे एक जापानी कंपनी ने बनाया था. इसके बाद फूजीफिल्म जब दवा की इंडस्ट्री में उतरी तो इसने इन दवाओं को बनाना शुरू किया.



रूस के वैज्ञानिकों ने किया है दवा में फेरबदल
रूस के वैज्ञानिकों ने बताया है कि इस दवा में कुछ फेरबदल किया गया है. जिसके बाद ये कोरोना के मरीजों पर ज्यादा प्रभावी साबित हुई है. अगले दो हफ्तों में रूस दवा में फेरबदल को लेकर जानकारी शेयर करेगा.

जापान ने इसी दवा का इस्तेमाल किया था. जापान में ये दवा एविगन के नाम से मिलती है. जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने भी इस दवा की तारीफ की है. हालांकि इसे अभी तक मान्यता नहीं मिली है.
शनिवार को रूस की सरकार ने एविफविर को कोरोना के इलाज के लिए मान्यता दी है.

ये भी पढ़ें:

अमेरिकी दंगों में 4 हजार लोग गिरफ्तार, यूरोप तक फैली विरोध की आग

5 महीने की बच्ची 1 महीने तक वेंटिलेटर पर रहने के बाद भी दी कोरोना को मात
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading