उत्तर कोरिया में दवाइयों और जरूरी सामानों की भारी किल्लत, देश छोड़ रहे हैं राजनयिक

उत्तर कोरियाई तानाशाह किम जोंग उन (फाइल फोटो)

उत्तर कोरियाई तानाशाह किम जोंग उन (फाइल फोटो)

Coronavirus in North Korea: मार्च के महीने में संयुक्त राष्ट्र के दो कर्मचारियों ने कथित तौर पर देश छोड़ दिया था. दोनों विश्व खाद्य कार्यक्रम के लिए काम करते थे.

  • Share this:
मॉस्को.उत्तर कोरिया (North Korea) में रूस के दूतवास ने कहा है कि कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण के चलते देश दवाइयों और जरूरी वस्तुओं की भाारी कमी का सामना कर रहा है. उत्तर कोरिया ने दावा किया है कि उसके यहां संक्रमण के मामले नहीं हैं और उसने संक्रमण से बचाव के प्रयासों के तहत अपनी सीमाओं को बंद किया हुआ है. हालांकि राजनयिक और विदेशी नागरिक लगातार देश छोड़ कर जा रहे हैं.

मार्च के महीने में संयुक्त राष्ट्र के दो कर्मचारियों ने कथित तौर पर देश छोड़ दिया था. दोनों विश्व खाद्य कार्यक्रम के लिए काम करते थे. रूसी दूतावास ने कहा कि 18 मार्च को उत्तर कोरिया छोड़ने वाले 38 विदेशी नागरिकों ने चीन से लगते सीमाई शहर डानडोंग में दो सप्ताह का क्वाइंटीन पूरा किया, साथ ही कहा कि विदेशियों को ‘निकाला’ जाना जारी रहेगा.

ये भी पढ़ें:- पुलवामा के काकापोरा में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़, एक आतंकी ढेर



दूतावास ने कहा, ‘कोरियाई राजधानी से जाने वालों के बारे में समझा जा सकता है. हर कोई पाबंदियों को नहीं सह सकता, जो अप्रत्याशित तौर पर बहुत मुश्किल हैं. दवाइयों सहित जरूरी सामानों की भारी कमी है और स्वास्थ्य सुविधाएं मिलने में भी दिक्कतें आ रही हैं.’ दूतावास ने साथ ही कहा कि प्योंगयांग में 290 से कम विदेशी नागरिक बचें हैं.

कुछ दिन पहले दक्षिण कोरिया की खुफिया सेवा ने दावा किया था कि उत्तर कोरिया के हैकरों ने कोरोना वायरस टीका और इलाज से जुड़ी जानकारी चोरी करने की कोशिश की थी. हालांकि, उसने एक सांसद के उस दावे को खारिज कर दिया जिसके मुताबिक टीका निर्माता फाइजर इंक निशाने पर था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज