दक्षिण अफ्रीका: जैकब जुमा समर्थकों की हिंसा से हालात बेकाबू, अब तक 72 लोगों की मौत

ये हिंसा दक्षिण अफ्रीका के अन्य सात प्रांतों तक नहीं पहुंची है. लेकिन पुलिस पूरी तरह से अलर्ट है. (AP)

दक्षिण अफ्रीका (South Africa) में यह पिछले कुछ दशकों में सबसे भीषण हिंसा (Violence in South Africa) है. पुलिस ने एक बयान जारी करके कहा कि प्रदर्शन के शुरू होने के बाद अब तक 72 लोग मारे गए हैं. पुलिस ने कहा कि ज्‍यादातर लोग दुकानों में लूटपाट के दौरान भगदड़ मचने से मारे गए.

  • Share this:
    जोहानिसबर्ग. दक्षिण अफ्रीका (South Africa) में पूर्व राष्ट्रपति जैकब जुमा (Jacob Zuma) के जेल जाने के बाद शुरू हुई हिंसा में (Violence in South Africa) हर दिन बढ़ती जा रही है. देश में हालात बेकाबू हो गए हैं. पिछले 5 दिनों से जारी इस हिंसा में अब तक 72 लोग मारे गए हैं. वहीं, कई लोगों की मौत दुकानों को लूटने के दौरान मची भगदड़ में कुचले जाने से हो गई. पुलिस और सेना ने हालात को काबू में करने के लिए स्टन ग्रेनेड और रबर बुलेट्स दागीं. अभी तक 1200 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है.

    मीडिया में आई खबरों के मुताबिक, दक्षिण अफ्रीका में यह पिछले कुछ दशकों में सबसे भीषण हिंसा है. पुलिस ने एक बयान जारी करके कहा कि प्रदर्शन के शुरू होने के बाद अब तक 72 लोग मारे गए हैं. पुलिस ने कहा कि ज्‍यादातर लोग दुकानों में लूटपाट के दौरान भगदड़ मचने से मारे गए. सबसे ज्‍यादा हिंसा गाउतेंग और क्वाजुलु नटाल प्रांतों में हो रही है. हिंसा प्रभावित इलाकों में पुलिस और सेना की अशांति रोकने की कोशिश जारी है.

    दक्षिण अफ्रीका के पूर्व राष्ट्रपति जैकब जुमा को भारी पड़ी कोर्ट की अवमानना, काटेंगे 15 महीने जेल की सजा

    जुमा को अदालत की अवमानना के मामले में 15 महीने की कैद
    पूर्व राष्ट्रपति जैकब जुमा (Jacob Zuma) को अदालत की अवमानना के मामले में 15 महीने की कैद की सजा सुनाई गई थी, जिसके बाद छिटपुट हिंसा भड़क गई थी. गाउतेंग प्रांत के प्रीमियर डेविड मखुरा ने बताया, ‘आपराधिक तत्वों ने स्थिति का फायदा उठाया. हालांकि, प्रांत में 400 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया गया है. लेकिन स्थिति नियंत्रित होने से अभी दूर है. हिंसा की चपेट में जोहानिसबर्ग और डरबन जैसे शहर भी आ गए हैं.'

    देश में बेरोजगारी की दर 32 फीसदी
    हालांकि, ये हिंसा दक्षिण अफ्रीका के अन्य सात प्रांतों तक नहीं पहुंची है. लेकिन पुलिस पूरी तरह से अलर्ट है. दक्षिण अफ्रीका की 6 करोड़ आबादी में से आधी से अधिक आबादी गरीबी में जीवन गुजार रही है. देश में बेरोजगारी की दर 32 फीसदी है. यही वजह है कि लोगों ने हिंसा की आड़ में लूटपाट शुरू कर दी है.

    शॉपिंग मॉल में लूटपाट जारी
    मंगलवार को भी जोहानिसबर्ग के शॉपिंग मॉल में लूटपाट जारी रही. दुकानों में लूटपाट और आगजनी की वजह से कई बिजनसमैन तबाह हो गए हैं. विश्‍लेषकों का कहना है कि जुमा के जेल जाने के बाद इस तरह के भारी विरोध प्रदर्शन की आशंका थी.

    कोविड के दौरान मुझे जेल भेजना मौत की सजा के बराबर- जैकब जुमा

    गाउतेंग प्रांत के प्रीमियर डेविड मखुरा ने दक्षिण अफ्रीकी ब्रॉडकास्ट कॉरपोरेशन से कहा, ‘हम समझ सकते हैं कि जो बेरोजगार हैं, उनके पास पर्याप्त भोजन नहीं है. हम समझ सकते हैं कि स्थिति महामारी के चलते बदतर हो गई. लेकिन यह लूट यहां हमारे कारोबार को कमजोर कर रही है.’ (एजेंसी इनपुट के साथ)

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.