होम /न्यूज /दुनिया /

चीन से तनाव के बीच समर्थन करने पर ताइवान ने भारत सहित 50 देशों का जताया आभार

चीन से तनाव के बीच समर्थन करने पर ताइवान ने भारत सहित 50 देशों का जताया आभार

चीन की सेना ताइवान के आसपास के क्षेत्रों में लगातार युद्ध अभ्यास कर रही है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

चीन की सेना ताइवान के आसपास के क्षेत्रों में लगातार युद्ध अभ्यास कर रही है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

ताइवान ने रविवार को कहा कि वह भारत सहित सभी समान विचारधारा वाले देशों के साथ घनिष्ठ समन्वय बनाए रखते हुए अपनी आत्मरक्षा क्षमताओं को बढ़ाना जारी रखेगा.

ताइपे. ताइवान जलडमरूमध्य में तनाव कम करने के भारत तथा कई अन्य देशों के आह्वान पर ताइवान ने रविवार को आभार जताया. अमेरिकी प्रतिनिधिसभा की अध्यक्ष नैंसी पेलोसी की हालिया ताइवान यात्रा की प्रतिक्रिया में चीन द्वारा ताइवान के आसपास व्यापक स्तर पर सैन्य अभ्यास शुरू किए जाने के मद्देनजर भारत ने ताइवान जलडमरूमध्य में यथास्थिति को बदलने और एकतरफा कार्रवाई से बचने का आह्वान किया था. चीन, ताइवान के अपना क्षेत्र होने का दावा करता है. नयी दिल्ली स्थित ताइवान के प्रतिनिधि कार्यालय ने एक बयान में कहा कि ताइवान की सरकार नियम-आधारित अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था को संरक्षित करने के लिए अमेरिका, जापान और भारत सहित समान विचारधारा वाले अन्य सभी देशों के साथ करीबी संपर्क और समन्वय बरकरार रखते हुए अपनी आत्मरक्षा क्षमताओं को बढ़ाना जारी रखेगी.

न्यूज एजेंसी एएनआई की रिपोर्ट के मुताबिक बयान में कहा गया कि ताइवान सरकार क्षेत्र में तनाव को कम करने और एकतरफा कार्रवाई से बचने का आह्वान करने वाले भारत समेत 50 से अधिक देशों का आभार व्यक्त करती है. ताइवान ने कहा कि वह दुनिया भर के देशों के साथ दोस्त बनाने और संबंध बनाए रखने का हकदार है. बयान में कहा गया है कि हाल ही में ताइवान पर लक्षित विभिन्न प्रकार के सैन्य रुख के चीन के जानबूझकर तीव्र होने से ताइवान जलडमरूमध्य में शांति और स्थिरता गंभीर रूप से बाधित हुई है. साथ ही यह भी कहा गया है, ‘आरओसी (ताइवान) की सरकार भारत सहित 50 से अधिक देशों की कार्यकारी शाखाओं और सांसदों के प्रति ईमानदारी से आभार व्यक्त करना चाहती है, जिन्होंने सभी पक्षों से संयम बरतने, तनाव कम करने, यथास्थिति को बदलने के लिए एकतरफा कार्रवाई से बचने का आह्वान किया है.’ वहीं ताइवान संकट के बाद भारत ने अपनी पहली प्रतिक्रिया में शुक्रवार को कहा कि कई अन्य देशों की तरह भारत भी हालिया घटनाक्रम को लेकर चिंतित है तथा क्षेत्र में यथास्थिति को बदलने वाली एकतरफा कार्रवाई करने से दूर रहने का आह्वान करता है.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने साप्ताहिक प्रेस वार्ता में ताइवान के मुद्दे पर पूछे गए सवालों पर कहा कि हम संयम बरतने और क्षेत्र में तनाव घटाने और शांति एवं स्थिरता बरकरार रखने के प्रयास करने की अपील करते हैं. गौरतलब है कि अमेरिका की प्रतिनिधिसभा की अध्यक्ष नैन्सी पेलोसी की हाल की ताइवान यात्रा से खफा चीन ने अमेरिकी राजदूत को तलब कर मामले पर कड़ा विरोध व्यक्त किया था. पेलोसी की यात्रा पर रोष व्यक्त करते हुए चीन ने ताइवान के हवाई क्षेत्र के पास कई चीनी लड़ाकू विमान उड़ाए और ताइवान जलडमरूमध्य में सैन्य अभ्यास किया है. चीन ने आगाह किया है कि अमेरिका को उसकी गलतियों की कीमत चुकानी होगी. इस बारे में प्रश्न पूछने पर बागची ने कहा, ‘‘ कई अन्य देशों की तरह भारत भी हालिया घटनाक्रम को लेकर चिंतित है.’’ उन्होंने कहा कि हम क्षेत्र में यथास्थिति को बदलने वाली एकतरफा कार्रवाई करने से दूर रहने व संयम बरतने का अनुरोध करते हैं.

Tags: China-Taiwan, India

अगली ख़बर