होम /न्यूज /दुनिया /पुतिन के ‘डर्टी बम’ के दावे की जांच करेगा UN, यूक्रेन में 2 जगहों का दौरा करेगी IAEA की टीम

पुतिन के ‘डर्टी बम’ के दावे की जांच करेगा UN, यूक्रेन में 2 जगहों का दौरा करेगी IAEA की टीम

संयुक्त राष्ट्र की परमाणु एजेंसी यूक्रेन पर रूस के 'डर्टी बम' के दावों की जांच करेगी. (फाइल फोटो)

संयुक्त राष्ट्र की परमाणु एजेंसी यूक्रेन पर रूस के 'डर्टी बम' के दावों की जांच करेगी. (फाइल फोटो)

Ukraine War: संयुक्त राष्ट्र की परमाणु एजेंसी ने यूक्रेन पर रूस के 'डर्टी बम' के दावों की जांच शुरू कर दी है. संयुक्त र ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

संयुक्त राष्ट्र की परमाणु एजेंसी यूक्रेन पर रूस के 'डर्टी बम' के दावों की जांच करेगी
युद्ध प्रभावित यूक्रेन में दो स्थानों पर निरीक्षकों को भेजेगा संयुक्त राष्ट्र
रूस ने आरोप लगाया था कि यूक्रेन में 'डर्टी बम' के संभावित उत्पादन का काम चल रहा है.

संयुक्त राष्ट्र. संयुक्त राष्ट्र की परमाणु एजेंसी ने यूक्रेन पर रूस के ‘डर्टी बम’ के दावों की जांच शुरू कर दी है. संयुक्त राष्ट्र के परमाणु प्रमुख ने कहा कि वह युद्ध प्रभावित यूक्रेन में दो स्थानों पर निरीक्षकों को भेज रहे हैं, जहां रूस ने आरोप लगाया था कि ‘डर्टी बम’ के संभावित उत्पादन से संबंधित गतिविधियां हो रही हैं. रूस के मुताबिक ये ‘डर्टी बम’ बहुत तेजी से कुछ ही दिनों में किसी नतीजे पर पहुंचने वाले हैं. AP के अनुसार, UN की परमाणु एजेंसी के प्रमुख राफेल ग्रॉसी ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (IAEA) के निरीक्षक इस सप्ताह उन दो स्थलों की यात्रा करेंगे, जो यूक्रेन सरकार के लिखित अनुरोध के बाद IAEA सुरक्षा उपायों के तहत हैं.

इस सप्ताह सुरक्षा परिषद के सदस्यों को लिखे एक पत्र में रूस के राजदूत ने आरोप लगाया था कि यूक्रेन के कीव और वोस्तोचनी खनन और प्रसंस्करण संयंत्र में राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी के परमाणु अनुसंधान संस्थान को राष्ट्रपति जेलेंस्की की ओर से ‘डर्टी बम’ के विकास के लिए सीधे आदेश मिले हैं. राजदूत वसीली नेबेंजिया ने कहा कि इसकी जानकारी रूस के रक्षा मंत्रालय को है. उन्होंने कहा कि ‘डर्टी बम’ का विकास अपने अंतिम चरण में है.

राफेल ग्रॉसी ने कहा कि इस सप्ताह निरीक्षकों के यूक्रेन दौरे का मकसद ‘डर्टी बमों’ के विकास से संबंधित किसी भी संभावित अघोषित परमाणु गतिविधियों और सामग्री का पता लगाना है. उन्होंने कहा कि IAEA ने एक महीने पहले कीव में परमाणु अनुसंधान संस्थान का भी निरीक्षण किया था और वहां कोई अघोषित परमाणु गतिविधियां या सामग्री नहीं मिली थी. हालांकि, ग्रॉसी ने कहा कि निरीक्षक एक अलग उद्देश्य के साथ फिर से दौरा करने जा रहे हैं.

रूस-यूक्रेन युद्ध में पश्चिमी देश कूदे तो हो सकता है परमाणु हमला, पुतिन ने किया इशारा

वहीं रूस ने ग्रॉसी से कहा कि ‘उन्हें सतर्क रहना चाहिए’ क्योंकि दो साइटें एकमात्र ऐसी जगह नहीं हैं, जहां डर्टी बम बनाए जा सकते हैं. ग्रॉसी ने जवाब दिया कि वह परमाणु दुर्घटना की संभावना के बारे में बेहद चिंतित हैं. उन्होंने यह भी कहा कि आने वाले हफ्तों में IAEA, यूक्रेन में अन्य परमाणु ऊर्जा संयंत्रों- रिवनी, खमेलनित्स्की, दक्षिणी यूक्रेन, चेर्नोबिल में और अधिक विशेषज्ञों को तैनात करने जा रहा है.

Tags: Nuclear weapon, Russia, Russia ukraine war, UN

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें