Video: रूस के अस्पताल में लगी आग, फिर भी ऑपरेशन करते रहे डॉक्टर, बचाई मरीज की जान

फोटो सौ. (Reuters)

फोटो सौ. (Reuters)

रूस (Russia) में डॉक्टरों (Doctors) ने अपनी जान की परवाह न करते हुए आग के बीच ऑपरेशन करके यह बता दिया है कि उन्हें भगवान का दर्जा क्यों दिया जाता है. दरअसल, जिस वक्त डॉक्टरों की टीम ओपन-हार्ट सर्जरी कर रही थी, उसी दौरान अस्पताल में आग लग गई. इसके बावजूद डॉक्टरों ने ऑपरेशन जारी रखा और मरीज की जान बचा ली.

  • Share this:
मॉस्को. रूस (Russia) में डॉक्टरों ने काम को लेकर ऐसा जज्बा दिखाया है जिसकी पूरी दुनिया तारीफ कर रही है. दरअसल, राजधानी मॉस्को से सुदूर पूर्व में स्थित ब्लागोवेशचेंस्क शहर के एक हास्पिटल (Hospital) के ऊपरी फ्लोर में अचानक आग लग गई. उस दौरान डॉक्टरों की एक टीम एक मरीज की ओपन हॉर्ट सर्जरी कर रही थी. आग के बावजूद डॉक्टरों ने सुरक्षित भागने के बावजूद उस मरीज का ऑपरेशन पूरा किया, क्योंकि अगर मरीज को उस समय छोड़ा जाता या उसे कहीं और शिफ्ट करने की कोशिश की जाती तो उसकी मौत हो सकती थी.

रूस की इमरजेंसी मिनिस्ट्री ने बताया कि आठ डॉक्टरों और नर्सों की एक टीम ने मरीज को सुरक्षित स्थान पर हटाने के पहले दो घंटों की कड़ी मशक्कत के बीच इस ऑपरेशन को पूरा किया. डॉक्टरों के पास पूरा मौका था कि वे अपनी जान बचाने के लिए मरीज को वहीं छोड़कर बाहर निकल सकते थे, लेकिन उन्होंने मानवता की मिसाल पेश करते हुए मरीज की न केवल जान बचाई बल्कि ऑपरेशन को भी सफलतापूर्वक पूरा किया.

बाद में दमकलकर्मियों ने दो घंटे की कड़ी मेहनत के बाद अस्पताल के ऊपरी फ्लोर पर लगी भीषण आग पर काबू पा लिया. वायरल हो रहे एक वीडियो में अस्पताल के ऊपरी फ्लोर से आग की ऊंची-ऊंची लपटे निकलती साफ दिख रही हैं. पहली नजर में कोई भी इस आग को देखकर डर जाए, लेकिन दमकलकर्मियों ने बहादुरी दिखाते हुए इस आग को अस्पताल के अन्य इलाकों में फैलने से रोक लिया. मरीज का ऑपरेशन करने वाले सर्जन वैलेन्टिन फिलाटोव को आरईएन टीवी से कहा कि हम और कुछ नहीं कर सकते थे, हमें किसी भी कीमत पर मरीज की जान को बचाना था. हमने सबकुछ अपनी पूरी क्षमता के साथ किया. उन्होंने कहा कि यह दिल का ऑपरेशन था, मरीज को छोड़ा नहीं जा सकता था. रूसी आपातकालीन मंत्रालय ने बताया कि छत पर आग लगने से 128 लोगों को तुरंत अस्पताल से निकाला गया.


ये भी पढ़ें: उत्तर कोरिया मुद्दे पर अमेरिका ने जापान और द. कोरिया से की बातचीत

इस अस्पताल को 100 साल पहले 1907 में बनाया गया था. आग ने लकड़ी से बने छत को तुरंत अपनी चपेट में ले लिया. हालांकि, इस दौरान कोई भी घायल नहीं हुआ. आग की सूचना पाकर दमकलकर्मी तुरंत पहुंचे और उन्होंने अपना काम शुरू कर दिया. स्थानीय क्षेत्रीय गवर्नर वासिली ओर्लोव ने भी अग्निशमन विभाग और डॉक्टरों की खूब तारीफ की है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज