• Home
  • »
  • News
  • »
  • world
  • »
  • इक्वाडोर ने कैंसिल की जूलियन असांजे की नागरिकता, कोर्ट में दायर करेंगे अपील

इक्वाडोर ने कैंसिल की जूलियन असांजे की नागरिकता, कोर्ट में दायर करेंगे अपील

50 वर्षीय असांजे लंदन की उच्च सुरक्षा वाली बेलमर्श जेल में बंद हैं. उन्हें 2019 में गिरफ्तार किया गया था.  (AP)

50 वर्षीय असांजे लंदन की उच्च सुरक्षा वाली बेलमर्श जेल में बंद हैं. उन्हें 2019 में गिरफ्तार किया गया था. (AP)

इक्वाडोर के अधिकारियों ने कहा कि विकीलीक्स (WikiLeaks) के संस्थापक जूलियन असांजे (Julian Assange) की नागरिकता पत्र में कई विसंगतियां, अलग-अलग हस्ताक्षर, दस्तावेजों में संभावित बदलाव और अन्य मुद्दों के साथ अनपैड फीस जैसी गड़बड़ियां थीं. इसलिए उनकी नागरिकता रद्द कर दी गई.

  • Share this:
    क्विटो. इक्वाडोर (Ecuador) ने विकीलीक्स (WikiLeaks) के संस्थापक जूलियन असांजे (Julian Assange) की नागरिकता रद्द (Citizenship Revokes) कर दी है. असांजे फिलहाल ब्रिटेन (Britain) की जेल में बंद में हैं. इक्वाडोर की न्याय प्रणाली ने दक्षिण अमेरिकी देश की विदेश मंत्रालय द्वारा दायर एक दावे के जवाब में आए एक लेटर में असांजे को औपचारिक रूप से उसके नागरिकता को रद्द करने के बारे में सूचित किया.

    इक्वाडोर के अधिकारियों ने कहा कि असांजे की नागरिकता पत्र में कई विसंगतियां, अलग-अलग हस्ताक्षर, दस्तावेजों में संभावित बदलाव और अन्य मुद्दों के साथ अनपैड फीस जैसी गड़बड़ियां थीं. इसलिए उनकी नागरिकता रद्द कर दी गई. असांजे के वकील कार्लोस पोवेडा (Carlos Poveda) ने कहा कि बिना उचित प्रक्रिया के निर्णय लिया गया और असांजे को मामले में पेश होने की अनुमति नहीं दी गई. ऐसे में कोर्ट में अपील किया जाएगा.

    सऊदी अरब की सख्ती, भारत, अफगानिस्तान समेत 'रेड लिस्ट' वाले देशों में जाने पर लगेगा तीन साल का बैन

    निर्णय के विस्तार के लिए अपील होगी दायर
    कार्लोस पोवेडा ने कहा कि जिस तारीख को असांजे का हवाला दिया गया था. वह अपनी स्वतंत्रता से वंचित थे और उनके स्वास्थ्य स्थिति पर संकट खड़ा था. पोवेडा ने कहा कि वह निर्णय के विस्तार और स्पष्टीकरण के लिए अपील दायर करेंगे. वकील ने कहा कि राष्ट्रीयता के महत्व से अधिक, यह अधिकारों का सम्मान करने और राष्ट्रीयता वापस लेने में उचित प्रक्रिया का पालन करने का मामला है.

    2018 में दी गई थी नागरिकता
    असांजे को जनवरी 2018 में इक्वाडोर की नागरिकता प्राप्त हुई थी. तत्कालीन राष्ट्रपति लेनिन मोरेनो की सरकार द्वारा उन्हें लंदन में अपने दूतावास से बाहर निकालने के लिए एक असफल प्रयास किया गया. इसके बाद ही उन्हें नागरिकता दी गई. लेकिन विवादास्पद प्रशासनिक मामलों के लिए पिचिंचा अदालत ने सोमवार को इस फैसले को रद्द कर दिया. इक्वाडोर के विदेश मंत्रालय ने कहा कि अदालत ने पिछली सरकार के दौरान हुए मामले में स्वतंत्र रूप से काम किया है. साथ ही उचित प्रक्रिया का पालन करते हुए ये कदम उठाया.

    सिर्फ एक परिवार के जिम्मे पूरा श्रीलंका, ऐसा कैसे हुआ?

    2019 में हुए थे गिरफ्तार
    50 वर्षीय असांजे लंदन की उच्च सुरक्षा वाली बेलमर्श जेल में बंद हैं. उन्हें 2019 में गिरफ्तार किया गया था. असांजे ने इक्वाडोर के लंदन दूतावास के अंदर सात साल बिताए. असांजे को दुष्कर्म और यौन उत्पीड़न के आरोपों का सामना करने के लिए स्वीडन प्रत्यर्पित किया जाना था. लेकिन वह इससे बचने के लिए 2012 में दूतावास में भाग गए. हालांकि, असांजे ने अपने ऊपर लगे आरोपों का खंडन किया है. (एजेंसी इनपुट के साथ)

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज