Home /News /world /

जर्मनी में बीमार बच्चे ने स्कूल में भेज दिया अपना अवतार रोबोट, क्लास अटैंड करता है...सवालों के जवाब देता हैं, जानें कैसे

जर्मनी में बीमार बच्चे ने स्कूल में भेज दिया अपना अवतार रोबोट, क्लास अटैंड करता है...सवालों के जवाब देता हैं, जानें कैसे

जर्मनी में बीमार बच्चे ने घर बैठे रोबोट की मदद से अटेंड की क्लास (Photo- Reuters)

जर्मनी में बीमार बच्चे ने घर बैठे रोबोट की मदद से अटेंड की क्लास (Photo- Reuters)

Robot goes to school for ill boy in Germany: तकनीक ने इंसान के जीने का अंदाज बदल दिया है. परेशानी कैसे भी क्यों ना हो विज्ञान के पास हर मर्ज का इलाज है. जर्मनी में एक बच्चा बीमार होने की वजह से स्कूल नहीं जा पा रहा था लेकिन वह क्लास मिस नहीं करना चाहता था इसलिए इस बच्चे की जगह एक रोबोट 'अवतार' को स्कूल भेजा गया. यह रोबोट क्लास में जोशुआ के स्थान पर बैठने लगा और इसकी मदद से वह अपने दोस्तों के साथ बात और पढ़ाई करने लगा.

अधिक पढ़ें ...

बर्लिन (जर्मनी): कोरोना महामारी (Corona Pandemic) के दौरान लोगों के कामकाज के तरीकों में काफी बदलाव हुए और टेक्नोलॉजी की मदद से घर बैठे काम करना और भी आसान हुआ. तकनीक ने इंसान के जीने का अंदाज बदल दिया है. परेशानी कैसे भी क्यों ना हो विज्ञान के पास हर मर्ज का इलाज है. जर्मनी में एक बच्चा बीमार होने की वजह से स्कूल नहीं जा पा रहा था लेकिन वह क्लास मिस नहीं करना चाहता था इसलिए इस बच्चे की जगह एक रोबोट ‘अवतार’ (Robot) को स्कूल भेजा गया. इस रोबोटिक तकनीक की मदद से यह बच्चा घर बैठे क्लास में अपने फ्रेंड्स और टीचर्स से बात करने लगा.

बर्लिन में 7 वर्षीय जोशुआ मार्टिन्नगेली के फेफड़ों में गंभीर बीमारी के कारण उसकी गर्दन में एक ट्यूब लगी हुई. इस वजह से वह स्कूल जाने में असमर्थ था. इस बच्चे की समस्या को ध्यान में रखते हुए बर्लिन के मार्जहन-हेल्लेर्सड्रॉफ डिस्ट्रिकट में लोकल काउंसिल में निजी तौर पर पहल करते हुए इस प्रोजेक्ट की शुरुआत की और बच्चे की जगह रोबोट को स्कूल भेजा गया.

यह रोबोट क्लास में जोशुआ के स्थान पर बैठने लगा और इसकी मदद से वह अपने दोस्तों के साथ बात और पढ़ाई करने लगा. न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के साथ इंटरव्यू में स्कूल की प्रिंसिपल ने इस बारे में बताया. इस तकनीक की मदद से रोबोट, जोशुआ को मैसेज भेजता और वह इसे सुनकर जवाब देता.

यह भी पढ़ें: चीन ने बना लिया जीरो ग्रैविटी वाला नकली चांद, इस काम में लेगा मदद

डिस्ट्रिकट एजुकेशन काउंसलर ने बताया कि, बर्लिन में हम एक मात्र हमारा ऐसा जिला है जहां स्कूलों के लिए 4 अवतार रोबोट लाए गए हैं. हालांकि यह कोविड-19 से संबंधित चुनौतियों को ध्यान में रखते हुए लाए गए थे लेकिन अब ऐसा लगता है कि महामारी के बाद भी भविष्य में इनकी जरुरत होगी.

उन्होंने कहा कि समय-समय पर कभी किन्ही कारणों से बच्चे स्कूल नहीं जा सकते. इस स्थिति में अवतार रोबोट का इस्तेमाल किया जा सकता है ताकि बच्चे क्लास और स्कूल की गतिविधियों से जुड़े रहें. स्थानीय स्तर पर राजनीतिक चर्चाओं के बाद ही इस प्रोजेक्ट की शुरुआत की गई है.

Tags: Robot, Technology

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर