म्यांमार में रोहिंग्या मुस्लिम नेताओं को नहीं लड़ने दिया जा रहा है आम चुनाव

म्यांमार में रोहिंग्या मुस्लिम नेताओं को नहीं लड़ने दिया जा रहा है आम चुनाव
रोहिंग्या नेता अब्दुल राशिद म्यांमार को चुनाव नहीं लड़ने दिया जा रहा है

राशिद (Abdul Rahsid) उन दर्जनों म्यांमार ना​गरिकों (Myanmar Citizen) में से हैं जो रोहिंग्या मुस्लिम अल्पसंख्यक (Rohingya Muslim Miniority) हैं और जिनका आवेदन खारिज कर दिया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 25, 2020, 11:39 AM IST
  • Share this:
यांगून. म्यांमार के रोहिंग्या नेता अब्दुल राशिद (Rohingya Leader Abdul Raashid) म्यांमार में जन्मे और उनके पास यहां की नागरिकता (Citizen of Myanmar) भी है. रोहिंग्या मुस्लिम अल्पसंख्यक आबादी में बहुत कम लोगों के पास म्यांमार की नागरिकता है, उन चंद लोगों में से अब्दुल ऐसे हैं जिनके पास यहां की नागरिकता है. अब्दुल के पिता सिविल सर्वेंट थे. अब जब देश में नवंबर में चुनाव होने जा रहा है तब बिजनेसमैन अब्दुल को इलेक्शन यह कहकर नहीं लड़ने दिया जा रहा है कि वे विदेशी मूल के हैं.

8 नवंबर को होना है चुनाव

राशिद उन दर्जनों म्यांमार ना​गरिकों में से हैं जो रोहिंग्या मुस्लिम अल्पसंख्यक हैं और जिनका आवेदन खारिज कर दिया गया है. म्यांमार में 8 नवंबर को आम चुनाव होना है. आम चुनाव में यह उम्मीद की जा रही है कि नॉबेल विजेता आंग सान सू की (Aung San Suu Kyi) के नेतृत्व में लोकतांत्रिक सरकार बनेगी.



अबतक छह रोहिंग्या नेताओं के आवेदन खारिज
अब तक छह रोहिंग्या नेताओं के आवेदन सरकारी अधिकारियों ने खारिज कर दिए हैं. ये नेता यह साबित नहीं कर पाए कि उनके जन्म के समय उनके मां-पिता म्यांमार के नागिरक थे या नहीं? आम चुनाव में हरेक आवेदक को इस बात का प्रमाण-पत्र देना होता है कि उनके जन्म के समय उनके पिता म्यांमार के नागरिक थे.

म्यांमार से सैन्य शासन की विदाई तय

यह चुनाव इस मायने में महत्वपूर्ण है कि म्यांमार से सेना के शासन की विदाई होगी और लोकतांत्रिक सरकार बनेगी. हालांकि रोहिंग्या मुसलमान नेताओं पर चुनाव लड़ने की यह रोक लोकतंत्र की सीमाओं को कमतर करेगा.

चुनाव में सभी को अवसर मिलना चाहिए: थुन खिन

ब्रिटेन में बर्मा रोहिंग्या संगठन के प्रमुख थुन खिन ने कहा कि म्यांमार में हर नागरिक के लिए जातीयता और धर्म का कोई मतलब नहीं है. यहां चुनाव में सभी को भाग लेने का अवसर मिलना चाहिए.

ये भी पढ़ें: मार्को और लॉरा तूफान के चलते क्यूबा में 10 मरे, यहां 10 लाख घरों में छाया अंधेरा

जापान के पीएम अस्पताल में दोबारा भर्ती, क्रॉनिक बीमारी से जूझ रहे हैं आबे!


अब्दुल राशिद ने कहा कि हमारे पास सरकार द्वारा जारी सभी तरह के दस्तावेज हैं लेकिन इसके बावजूद सरकारी अधिकारी इस बात को नहीं स्वीकार कर रहे हैं कि मेरे पैरेंट्स म्यांमार के नागरिक थे. मैं इसे लेकर बहुत खराब महसूस कर रहा हूं और इस बारे में चिंतित भी हूं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading