रूस ने शुरुआती ट्रायल के बाद दूसरी कोविड वैक्सीन को दी मंजूरी, राष्ट्रपति पुतिन ने की घोषणा

रूस प्रारंभिक परीक्षण के बाद दूसरी कोरोनावायरस वैक्सीन को मंजूरी दे दी है (सांकेतिक तस्वीर)
रूस प्रारंभिक परीक्षण के बाद दूसरी कोरोनावायरस वैक्सीन को मंजूरी दे दी है (सांकेतिक तस्वीर)

Covid-19 Vaccine: राज्य टीवी पर प्रसारित टिप्पणियों में राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (President Valdimir Putin) ने कहा, "हमें पहले और दूसरे टीके का उत्पादन बढ़ाने की जरूरत है. हम अपने विदेशी सहयोगियों के साथ सहयोग करना जारी रख रहे हैं और विदेशों में अपने टीके को बढ़ावा देंगे."

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 14, 2020, 9:13 PM IST
  • Share this:
मॉस्को. रूस (Russia) ने कोविड-19 की दूसरी वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) को शुरुआती ट्रायल के बाद स्वीकृति दे दी है. राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (President Valdimir Putin) ने बुधवार को एक सरकारी बैठक में इस खबर की घोषणा की. टीके को साइबेरिया (Siberia) में वेक्टर संस्थान द्वारा विकसित किया गया था और इसने पिछले महीने प्रारंभिक चरण के मानव परीक्षणों को पूरा कर लिया. हालांकि, इसके परिणाम अभी तक प्रकाशित नहीं हुए हैं और बड़े पैमाने पर परीक्षण जिसे तीसरे चरण के रूप में जाना जाता है अभी तक शुरू नहीं हुआ है.

राज्य टीवी पर प्रसारित टिप्पणियों में पुतिन ने कहा, "हमें पहले और दूसरे टीके का उत्पादन बढ़ाने की जरूरत है. हम अपने विदेशी सहयोगियों के साथ सहयोग करना जारी रख रहे हैं और विदेशों में अपने टीके को बढ़ावा देंगे." पेप्टाइड-आधारित एपीवैककोरोना (EpiVacCorona) नाम की ये वैक्सीन है, रूस में उपयोग के लिए लाइसेंस प्राप्त करने के मामले में दूसरे नंबर पर है. वैक्सीन का नोवोसिबिर्स्क शहर में 18 और 60 के बीच की उम्र के 100 वॉलेंटियर्स पर एक प्लेसबो-नियंत्रित परीक्षण किया गया है.

मॉस्को के गैमालेया संस्थान द्वारा विकसित वैक्सीन स्पुतनिक वी को अगस्त में घरेलू उपयोग के लिए लाइसेंस दिया गया था. यह वैक्सीन, एडेनोवायरस वेक्टर के आधार पर, तीसरे चरण के परीक्षणों से पहले भी पंजीकृत थी. मॉस्को (Moscow) में फिलहाल 40,000 प्रतिभागियों पर इसका परीक्षण चल रहा है.



नवंबर या दिसंबर में शुरू हो सकते हैं मानव परीक्षण
TASS समाचार एजेंसी ने उपभोक्ता सुरक्षा प्रहरी Rospotrebnadzor जो कि संस्थान की देखरेख करता है, के हवाले से बताया एपीवैककोरोना का एक बड़े पैमाने पर मानव परीक्षण नवंबर या दिसंबर में शुरू होने की संभावना है.

इंटरफैक्स समाचार एजेंसी के अनुसार, ट्रायल में 30,000 वॉलेंटियर्स के शामिल होने की उम्मीद है, जिनमें से पहले 5,000 साइबेरिया के निवासी होंगे.

दुनिया में सबसे प्रभावित देशों में चौथे नंबर पर है रूस
स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, सैकड़ों लोग जिन पर उनके पेशे के चलते कोरोनोवायरस संक्रमण का खतरा ज्यादा है, उन्हें 'स्पुतनिक वी' दे दिया गया है, लेकिन वैक्सीन अभी तक सामान्य उपयोग में नहीं आ सकी है.

महामारी की शुरुआत के बाद से, बुरी तरह प्रभावित देशों की सूची में रूस, संयुक्त राज्य अमेरिका, भारत और ब्राजील के बाद चौथे नंबर पर है. जहां अब तक 1,340,000 से ज्यादा संक्रमण के मामले दर्ज किए गए हैं.



COVID -19 के खिलाफ एक और वैक्सीन सेंट पीटर्सबर्ग में चुमाकोव संस्थान द्वारा विकसित की जा रही है. फिलहाल इसके प्रारंभिक चरण के क्लीनिकल ट्रायल शुरू करने की योजना बनाई जा रही है जिसमें 19 अक्टूबर को लगभग 300 लोग शामिल होने जा रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज