• Home
  • »
  • News
  • »
  • world
  • »
  • रूसी वैज्ञानिक का Sputnik-V को लेकर दावा, कहा- इससे दो साल तक मिलेगी सुरक्षा

रूसी वैज्ञानिक का Sputnik-V को लेकर दावा, कहा- इससे दो साल तक मिलेगी सुरक्षा


ऑक्सफोर्ड/एस्ट्राजेनेका ने 23 नवंबर को बयान जारी कर बताया था कि यूके और ब्राजील में किए गए परीक्षणों में वैक्सीन (AZD1222) काफी असरदार पाई गई. आधी डोज दिए जाने पर वैक्सीन 90% तक इफेक्टिव मिली. इसके बाद दूसरे महीने में फुल डोज दिए जाने पर 62% असरदार देखी गई. इसके एक महीने बाद दो फुल डोज देने पर वैक्सीन का असर 70% देखा गया.

ऑक्सफोर्ड/एस्ट्राजेनेका ने 23 नवंबर को बयान जारी कर बताया था कि यूके और ब्राजील में किए गए परीक्षणों में वैक्सीन (AZD1222) काफी असरदार पाई गई. आधी डोज दिए जाने पर वैक्सीन 90% तक इफेक्टिव मिली. इसके बाद दूसरे महीने में फुल डोज दिए जाने पर 62% असरदार देखी गई. इसके एक महीने बाद दो फुल डोज देने पर वैक्सीन का असर 70% देखा गया.

रूस (Russia) की स्पुतनिक-वी (Sputnik-V) कोरोना वायरस वैक्सीन के बारे में इसे बनाने वाले वैज्ञानिक ने दावा किया है कि इससे दो साल के लिए सुरक्षा मिलेगी.

  • Share this:
    मॉस्को. गामालेया नैशनल रिसर्च सेंटर फॉर एपिडीमियॉलजी ऐंड माइक्रोबायॉलजी के डायरेक्टर और स्पुतनिक-वी (Sputnik-V) वैक्सीन के प्रमुख विकासकर्ता अलेक्जेंडर गेन्सबर्ग ने दावा किया है कि वैक्सीन के जरिए कोविड-19 (Covid-19) के खिलाफ दो साल तक सुरक्षा प्रदान किए जाने की संभावना है. कोरोना महामारी से लड़ने के लिए दुनिया की पहली पंजीकृत वैक्सीन स्पुतनिक-वी के बारे में दावा किया गया था कि इसकी कीमत फाइजर (Pfizer) और मॉडर्ना (Moderna) की वैक्सीन से कम होगी.

    यूट्यूब पर सोलोविएव लाइव चैनल पर उनके दिए बयान के हवाले से TASS समाचार एजेंसी ने शनिवार को कहा है, 'अभी तो मैं केवल सुझाव ही दे सकता हूं क्योंकि और अधिक प्रयोगात्मक आंकड़ों की आवश्यकता है. हमारी वैक्सीन ईबोला वैक्सीन की तर्ज पर बनाई जा रही है.' उन्होंने आगे कहा, 'अभी तक जितने भी प्रयोग हुए हैं, उनसे प्राप्त आंकड़ों से यही पता चलता है कि यह वैक्सीन दो साल या उससे अधिक समय तक के लिए सुरक्षा प्रदान करेगी.'

    ये भी पढ़ें: अमेरिका का यह डॉक्टर 260 दिनों से कर रहा है कोरोना का इलाज, नहीं ली एक भी छुट्टी



    इतनी होगी कीमत
    इस रूसी वैज्ञानिक के मुताबिक, Sputnik-V 96 फीसदी मामलों में प्रभावी रहा है. बाकी बचे चार प्रतिशत टीकाकृत व्यक्तियों में बहती नाक, खांसी और हल्के बुखार की शिकायत रहेगी, लेकिन फेफड़ा प्रभावित नहीं होगा. बता दें कि कंपनी अगले साल 1 अरब डोज तैयार करने की योजना बना रही है. यह वैक्सीन दो शॉट में दी जाएगी. एक शॉट की कीमत 10 डॉलर के करीब होगी. रूस के लोगों को लिए कंपनी मुफ्त में वैक्सीनेशन प्रोग्राम चलाएगी. रॉयटर्स की खबर के मुताबिक इस वैक्सीन की कीमत इंटरनैशनल मार्केट में 20 डॉलर से कम होगी.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज