कमला हैरिस ने जाहिर की आशंका, चुनाव में रूस के दखल से ट्रंप को होगा फायदा

कमला हैरिस ने जाहिर की आशंका, चुनाव में रूस के दखल से ट्रंप को होगा फायदा
कमला हैरिस ने अमेरिकी चुनावों पर दिया बड़ा बयान

Russian Interference In US Election: अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव 2020 के लिए डेमोक्रेट्स की उपराष्ट्रपति पद की उम्मीदवार कमला हैरिस (Kamala Harris) ने कहा है कि मुझे लगता है कि 2020 के चुनाव में भी विदेशी दखल होगा और इसमें रूस की अग्रणी भूमिका होगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 7, 2020, 7:00 AM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. अमेरिका (US) में डेमोक्रेटिक पार्टी की ओर से उपराष्ट्रपति पद की उम्मीदवार कमला हैरिस (Kamala Harris) ने रविवार को कहा कि राष्ट्रपति चुनाव में रूस (Russia) के हस्तक्षेप से उनकी पार्टी को नुकसान हो सकता है. भारतवंशी कमला हैरिस कैलिफोर्निया की सीनेटर हैं. डेमोक्रेटिक पार्टी ने उन्हें उपराष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाया है. कमला हैरिस ने CNN को दिए एक इंटरव्यू में कहा, 'मेरी स्पष्ट राय है कि रूस ने 2016 में अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव में दखल दिया था.'

कमला हैरिस ने आगे कहा,'मैं सीनेट की खुफिया मामलों की कमेटी में रह चुकी हूं. जो हुआ था उस बारे में हम विस्तृत रिपोर्ट प्रकाशित कर चुके हैं.' राष्ट्रपति चुनाव में रूस के दखल को लेकर आरोपों के बारे में एक सवाल पर उन्होंने कहा, 'मुझे लगता है कि 2020 के चुनाव में भी विदेशी दखल होगा और इसमें रूस की अग्रणी भूमिका होगी.' क्या इससे राष्ट्रपति चुनाव में खामियाजा भुगतना पड़ेगा, इस सवाल पर हैरिस ने कहा, 'सैद्धांतिक रूप से कहें तो निश्चित तौर पर.' अमेरिका में तीन नवंबर को राष्ट्रपति चुनाव होगा. डेमोक्रेटिक पार्टी की तरफ से जो बिडेन राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार हैं. रिपब्लिकन पार्टी की ओर से राष्ट्रपति पद के लिए डोनाल्ड ट्रंप और उपराष्ट्रपति पद के लिए माइक पेंस उम्मीदवार होंगे.

एनएसए ने भी लगाए चीन, ईरान और रूस पर लगाए आरोप
इससे पहले अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) रॉबर्ट ओ ब्रायन ने कहा था कि चीन, ईरान और रूस वे तीन देश हैं जो अमेरिकी चुनाव को प्रभावित करना चाहते हैं. उन्होंने आरोप लगाया कि इनमें से कुछ डेमोक्रेटिक पार्टी के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार जो बिडेन को अगले राष्ट्रपति के तौर पर व्हाइट हाउस में देखना चाहते हैं. ओ ब्रायन ने पत्रकारों से कहा, 'जब चुनाव की बात आती है तो खुफिया समुदाय ने स्पष्ट कर दिया है कि पहला चीन है जो अमेरिका की राजनीति को प्रभावित करने के लिए सबसे अधिक बड़े पैमाने पर कार्यक्रम चला रहा है. इसी प्रकार ईरान और रूस हैं. तीनों शत्रु देश हमारे चुनाव में बाधा उत्पन्न करना चाहते हैं,'
ओ ब्रायन ने एक सवाल के जवाब में कहा था 'कुछ बाइडेन को चाहते हैं जबकि कुछ लोग कहते हैं कि वे राष्ट्रपति को तरजीह देते हैं. मेरा मानना है कि यह देश चाहता है कि किसी भी देश को स्वतंत्र और पारदर्शी अमेरिकी चुनाव में हस्तक्षेप से रोका जाना चाहिए. उन्होंने कहा, 'हमने अभूतपूर्व कदम उठाया है. राष्ट्रपति ने अभूतपूर्व तरीके से हमारे चुनावी अवंसरचना के लिए कोष जुटाने की प्रक्रिया को सख्त बना मिसाल पेश की है चाहे वह साइबर के जरिये हो या अन्य तरीकों से.'






अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading