रूसी महिला पत्रकार ने पुतिन के विरोध में खुद को लगाई आग, पुलिस ने कपड़े उतारकर ली थी तलाशी

रूसी महिला पत्रकार ने खुद को लगाई आग
रूसी महिला पत्रकार ने खुद को लगाई आग

Russian journalist sets herself on fire: रूसी पत्रकार इरीना स्लाविना (Irina Slavina) ने पुतिन सरकार पर उत्पीड़न का आरोप लगते हुए मंत्रालय की बिल्डिंग के सामने खुद को आग के हवाले कर दिया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 5, 2020, 10:54 AM IST
  • Share this:
मॉस्को. रूस (Russia) की लोकतंत्र समर्थक पत्रकार इरीना स्लाविना (Irina Slavina) ने शुक्रवार को पुतिन सरकार (Vladimir Putin) पर उत्पीड़न कर आरोप लगते हुए खुद को आग के हवाले कर दिया. इरीना बुरी तरह झुलस गयीं थीं जिसके बाद अस्पताल में उनकी मौत हो गयी. इरीना ने मरने से पहले एक फेसबुक पोस्ट के जरिए अपनी मौत का जिम्मेदार रूसी सरकार को बताया था.

RT के मुताबिक 47 वर्षीय इरीना ने फेसबुक पर स्पष्ट लिखा था कि मेरी मौत की जिम्मेदार राशियन फेडरेशन (पुतिन सरकार) है. बता दें कि गुरुवार को पुलिस ने इरीना के घर पर छापेमारी की थी और इरीना ने आरोप लगाया था कि पुलिस ने उनके साथ बदसलूकी की थी. BAZA media की वीडियो में इरीना खुद को मंत्रालय की बिल्डिंग के सामने आग लगाती नज़र आ रही हैं. वीडियो में कई लोग उन्हें बचाते भी नज़र का रहे हैं लेकिन इस दौरान वे बुरी तरह झुलस गयीं थीं.







सरकार कर रही थी परेशान!
इरीना कोजा प्रेस की एडिटर इन चीफ थीं और उन्हें लोकतंत्र समर्थक पत्रकारों में गिना जाता था. उन्होंने निजनी नोवाग्रोद की इंटीरियर मिनिस्ट्री की बिल्डिंग के सामने खुद को आग के हवाले कर दिया. इरीना पर पहले पुलिस ने फेक न्यूज़ फैलाने का आरोप लगाया था इसके बाद उन्हें संपत्ति सम्बंधित और अन्य कई मामलों में भी आरोपी बनाया गया था.

इरीना ने फेसबुक पोस्ट में दर्द साझा करने हुए लिखा था- सभी फ्लैश ड्राइव, मेरा लैपटॉप, मेरी बेटी का लैपटॉप, मेरा डेस्कटॉप, मेरे पति का फोन और मेरी कई डायरी जबरदस्ती ले गए हैं. मुझे इस काबिल बना दिया है कि मैं अपनी प्रेस चलाने लायक भी नहीं बची. मुझे कपड़े भी नहीं पहनने दिए गए और मेरे पति की मौजूदगी में एक पुलिसवाला मुझे इसी हालत में घूरता रहा. मुझे मजबूरी में उसकी निगरानी में ही कपड़े पहनने पड़े.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज