अपना शहर चुनें

States

यूके में नस्लभेद आयोग में विशेषज्ञ नियुक्त किए गए भारतीय मूल के समीर शाह और अजय कक्कर

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन (फाइल फोटो)
ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन (फाइल फोटो)

इंग्लैंड के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन (Boris Johnson) ने भारतीय मूल के समीर शाह (Sameer Shah) और अजय कक्कर (Ajay Kakkar) को नस्लवाद और अल्पसंख्यक आबादी को लेकर विषमता आयोग का नया आयुक्त नियुक्त किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 16, 2020, 11:22 PM IST
  • Share this:
लंदन. 'कालों की जिंदगी मायने रखती है (Black Lives Matter campaign) के आंदोलन के मद्देनजर इंग्लैंड के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन (Prime Minister Boris Johnson) ने भारतीय मूल के समीर शाह (Sameer Shah) और अजय कक्कर (Ajay Kakkar) को नस्लवाद और अल्पसंख्यक आबादी को लेकर विषमता आयोग  नियुक्त किया है. यह जानकारी पीएम कार्यालय के अधिकारियों ने दी. अमेरिका के मीनियापोलिस में पुलिस द्वारा अश्वेत जॉर्ज फ्लॉयड की हत्या के बाद उठ खड़े हुए आंदोलन की धमक अमेरिका के साथ साथ पूरी दुनिया में सुनाई दी. अश्वेतों के समर्थन में ब्लैक लाइव्स मैटर आंदोलन ब्रिटेन में भी व्यापक स्तर पर आयोजित किए गए. देश के कई हिस्सों में रंगभेद को दर्शाती हुई कई मूर्तियों को हटाने की भी जोरदार तरीके से मांग उठी.

समीर पत्रकार रहे हैं जबकि कक्कर सर्जरी के प्रोफेसर

इस स्वतंत्र आयोग के अध्यक्ष शिक्षा सलाहकार टोनी स्वैल को बनाया गया है. इसमें 10 सदस्य नियुक्त किए गए हैं. समीर शाह बीबीसी के पूर्व पत्रकार रहे हैं. वे नस्लभेदी संगठन रन्नीमेडे ट्रस्ट के अध्यक्ष भी रह चुके हैं. वहीं कक्कर लंदन के यूनिवर्सिटी कॉलेज में सर्जरी विषय के प्राध्यापक हैं.



रिपोर्ट साल के अंत में पेश करनी होगी
इस आयोग में दूसरे सदस्य विज्ञान, अर्थव्यवस्था, मेडिसिन, नीति और कम्युनिटी क्षेत्र से जुड़े हुए हैं. आयोग को यह उम्मीद है कि इससे जुड़े सदस्य प्राथमिक तौर पर स्वास्थ्य, शिक्षा, अपराध और रोजगार विषय में पड़ताल के आधार पर रिपोर्ट इस साल के अंत तक पेश करेंगे.

ये भी पढ़ें: गोकाडा कंपनी के 33 वर्षीय सीईओ की हत्या, हत्यारे ने आरी से किए टुकड़े-टुकड़े

अमेरिकी विदेशमंत्री पॉम्पिओ ने कहा- ट्रंप से किम जोंग की मुलाकात संभव नहीं

अफ्रीकी मूल के काले नागरिक जॉर्ज फ्लॉयड को गिरफ्तार करने वाले मिनियापोलिस के दो पुलिस अधिकारियों के शरीर पर लगे कैमरे की 15 जुलाई को सार्वजनिक की गई सीसीटीवी फुटेज में फ्लॉयड को डरा-सहमा और अधिकारियों से गुहार लगाते देखा जा सकता है. इन फुटेज में फ्लॉयड अपनी मौत से कुछ मिनट पहले गुहार लगा रहा है, ''मैं कोई बुरा आदमी नहीं हूं." जब अधिकारी उसे बलपूर्वक कार में बैठाने की कोशिश कर रहे हैं तो उसे कहते सुना जा सकता है, ''मुझे हाल ही में कोविड-19 हुआ था और अब मैं दोबारा ऐसा नहीं चाहता." पुलिस से छूटने की जद्दोजहद कर रहे फ्लॉयड से वहां खड़े एक राहगीर को कहते सुना जा सकता है, ''तुम जीत नहीं सकते." फ्लॉयड कहता है, ''मैं जीतना नहीं चाहता."
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज