Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    सऊदी अरब ने भी बाइडन को दी बधाई, ईरान बोला- तेहरान परमाणु समझौता फिर लागू हो

    सऊदी अरब ने भी बाइडन को राष्ट्रपति चुने जाने की दी बधाई.
    सऊदी अरब ने भी बाइडन को राष्ट्रपति चुने जाने की दी बधाई.

    US Election Result: उधर सऊदी अरब (Saudi Arabia) के शाह सलमान बिन अब्दुलाज़ीज़ अल सऊद और उनके बेटे क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान (Bin Salman) ने अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में जीत के लिए जो बाइडन और कमला हैरिस को बधाई दी है. उधर ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी (Hassan rouhani) ने भी वापस न्यूक्लियर डील पर लौटने की मांग की है.

    • News18Hindi
    • Last Updated: November 9, 2020, 8:51 AM IST
    • Share this:
    रियाद/ तेहरान. ईरान (Iran) के राष्ट्रपति हसन रूहानी (Hassan rouhani) ने अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन (Joe Biden) से कहा है कि वह 'पूर्व की गलतियों को सुधारें' और तेहरान-2015 परमाणु समझौते में फिर से विश्व शक्तियों के बीच अमेरिका की वापसी करें. उधर सऊदी अरब (Saudi Arabia) के शाह सलमान बिन अब्दुलाज़ीज़ अल सऊद और उनके बेटे क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान (Bin Salman) ने अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में जीत के लिए जो बाइडन और कमला हैरिस को बधाई दी है.

    हसन रूहानी की यह टिप्पणी अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव में जो बाइडन की जीत और उप राष्ट्रपति के रूप में कमला हैरिस के निर्वाचित होने के बाद ईरान की बड़ी प्रतिक्रिया है. सरकारी आईआरएनए समाचार एजेंसी ने रूहानी को यह कहते हुए उद्धृत किया, 'अब, यह अवसर आ गया है कि अमेरिका का अगला प्रशासन अपनी पूर्व की गलतियों को सुधारे और अंतरराष्ट्रीय समझौतों को पूरा करने के रास्ते पर लौटकर अंतरराष्ट्रीय नियमों का सम्मान करे.' ट्रंप के नेतृत्व में अमेरिका 2018 में ईरान के परमाणु समझौते से अलग हो गया था. इस समझौते के तहत ईरान आर्थिक प्रतिबंधों को हटाने के बदले में यूरेनियम संवर्धन की सीमा तय करने पर राजी हुआ था. समझौते से हटने के बाद अमेरिका ने ईरान पर फिर से आर्थिक प्रतिबंध लगाए थे, जिससे ईरान की अर्थव्यवस्था चरमरा गई और ऊपर से कोविड-19 महामारी ने इसे बेहद बुरी स्थिति में डाल दिया है. इस संबंध में प्रतिबंधों पर कोई रास्ता निकालने के लिए यूरोप पर दबाव डालने के प्रयास में ईरान ने धीरे-धीरे परमाणु समझौते की सीमाओं से बाहर जाना शुरू कर दिया था.

    अरब देशों में कन्फ्यूजन!
    चुनावों में बाइडन की जीत की ख़बर आने के बाद कई अरब देशों के राष्ट्राध्यक्षों ने बाइडन और हैरिस को बधाई दी, लेकिन सऊदी अरब ने इस पर चुप्पी साथ रखी थी. सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान डोनाल्ड ट्रंप के क़रीबी माने जाते हैं. ट्रंप के राष्ट्रपति बनने के बाद अपने पहले विदेश दौरे पर वो सऊदी अरब गए थे जहां उनकी शानदार आवभगत की गई. इससे पहले सऊदी अरब ने पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा स्वागत के लिए इस तरह का विशेष आयोजन नहीं किया था. ओबामा ईरान के प्रति नरम रुख़ रखने वाले माने जाते रहे हैं.ट्रंप ने ईरान के साथ 2015 में हुई परमाणु संधि से अलग होने के फ़ैसला किया था. 2018 में इस्तांबुल में मौजूद सऊदी कंसुलेट में वॉशिंगटन पोस्ट के पत्रकार जमाल खगोशी की हत्या के मामले में उन्होंने सऊदी अरब का समर्थन किया था.
    खगोशी की मौत के लिए दुनिया के कई देशों में सऊदी अरब की आलोचना की थी. लेकिन इसराइल के साथ मध्यपूर्व के देशों के रिश्ते बेहतर करने की ट्रंप की योजना का हिस्सा सऊदी अरब अब तक नहीं बना है. ट्रंप की इस योजना के तहत अब तक संयुक्त अरब अमीरात, बहरीन और यूडान ने इसराइल के साथ अपने रिश्ते सामान्य करने की बात की है. जो बाइडन के नेतृत्व में हो सकता है कि सऊदी अरब के प्रति अमेरिकी सरकार की रवैय्या बदले. बाइडन पहले ही सऊदी अरब के साथ संबंधों का फिर से मूल्यांकन करने की बात कर चुके हैं. वो खगोशी की हत्या के मामले में ज़िम्मेदारी तय करने और यमन की लड़ाई को ख़त्म करने की भी बात कर चुके हैं. यमन में हो रही लड़ाई में सऊदी नेतृत्व की भी अहम भूमिका है जो वहां गठबंधन सेना का नेतृत्व कर रहा है.



    विश्व नेताओं ने बाइडन और हैरिस को दी बधाई
    अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडेन और उपराष्ट्रपति निर्वाचित हुईं कमला हैरिस की जीत पर उन्हें बधाई देते हुए दुनिया के अनेक देशों के नेताओं ने जलवायु परिवर्तन से लेकर व्यापार और सुरक्षा तक साझा मूल्यों एवं प्राथमिकताओं पर जोर दिया. वैश्विक नेताओं ने दुनिया की बड़ी-बड़ी चुनौतियों से निपटने के लिए अमेरिका के साथ मिलकर काम करने की आशा व्यक्त की. कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने अपने बधाई संदेश में अमेरिका के साथ अपने देश के करीबी संबंधों को रेखांकित किया. उन्होंने एक बयान में कहा, 'कनाडा और अमेरिका के संबंध असाधारण हैं जो वैश्विक स्तर पर भी खास हैं. हमारी साझा भौगोलिक स्थितियां, साझा हित, गहरे व्यक्तिगत संबंध और मजबूत आर्थिक संबंध हमें करीबी मित्र, साझेदार और सहयोगी बनाते हैं.'

    ट्रूडो ने कहा, 'हम इसी बुनियाद पर निर्माण जारी रखेंगे और अपनी जनता को वैश्विक कोविड-19 महामारी के प्रभावों से सुरक्षित तथा स्वस्थ रखने के साथ ही दुनियाभर में शांति और समावेश, आर्थिक समृद्धि एवं जलवायु परिवर्तन के खिलाफ कार्रवाई को आगे बढ़ाने के लिए काम करेंगे.' ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने बाइडेन को बधाई दी और हैरिस को भी उनकी ऐतिहासिक उपलब्धि के लिए शुभकामनाएं प्रेषित कीं. उन्होंने अमेरिका को ब्रिटेन का सबसे महत्वपूर्ण सहयोगी बताया. जॉनसन ने ट्वीट किया, 'अमेरिका हमारा सबसे महत्वपूर्ण सहयोगी है और मैं जलवायु परिवर्तन से लेकर व्यापार और सुरक्षा तक हमारी साझा प्राथमिकताओं पर मिलकर काम करने के लिए आशान्वित हूं.'

    चीन-रूस ने नहीं दी बधाई
    ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ने कहा कि वह बाइडेन के साथ वृहद साझेदारी बनाने के लिए उत्साहित हैं. उन्होंने कैनबरा में संवाददाताओं से कहा, 'यह बिल्कुल सही समय है. न केवल अमेरिका के लिए बल्कि व्यापक रूप से हमारी साझेदारी और दुनिया के लिए भी.' दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जेई-इन ने कहा कि अमेरिका के साथ उनके देश के संबंध मजबूत हैं और दोनों देशों के बीच चट्टान जैसा मजबूत रिश्ता है. उन्होंने ट्वीट किया, 'मैं अपने साझा मूल्यों के लिए आपके साथ काम करने को लेकर बहुत आशान्वित हूं.' जापान के प्रधानमंत्री योशिहिदे सुगा ने कहा कि वह जापान-अमेरिका गठजोड़ को और मजबूत करने तथा हिंद-प्रशांत क्षेत्र एवं उससे परे शांति, स्वतंत्रता एवं समृद्धि सुनिश्चित करने के लिए बाइडेन-हैरिस प्रशासन के साथ काम करने को लेकर उत्सुक हैं.



    आयरलैंड के प्रधानमंत्री माइकल मार्टिन ने कहा कि बाइडेन पूरी जिंदगी इस देश के ‘सच्चे दोस्त’ रहे हैं. बाइडेन का पैतृक घर आयरलैंड में ही है. उनके पूर्वज आयरलैंड के शहर बैलिना को छोड़कर करीब 200 साल पहले अमेरिका आये थे. इस्राइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू, जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल, बेल्जियम के प्रधानमंत्री अलेक्जेंडर डी क्रू, मिस्र के राष्ट्रपति आब्देल फतेह अल सिसी, इराक के राष्ट्रपति बरहम सोलिह, संयुक्त अरब अमीरात के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन जायद अल नहयान और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने भी बाइडेन और हैरिस को बधाई दी. हालांकि रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन तथा चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग की ओर से तत्काल कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज