सऊदी ने रद्द की इस साल विदेशी मुस्लिमों के लिए हज यात्रा, सिर्फ स्थानीय हो सकेंगे शामिल

सऊदी ने रद्द की इस साल विदेशी मुस्लिमों के लिए हज यात्रा, सिर्फ स्थानीय हो सकेंगे शामिल
इस साल विदेशी मुसलमानों के लिए हज यात्रा रद्द

कोरोना संक्रमण (Coronavirus) के बढ़ते मामलों को देखते हुए सऊदी अरब (Saudi Arabia) ने हज यात्रा 2020 (Hajj1441) के लिए विदेशियों को इजाजत नहीं देने का ऐलान कर दिया है. सऊदी ने ऐलान किया है कि हज के लिए सिर्फ स्थानीय लोगों और देश में रह रहे विदेशी लोगों को ही कुछ शर्तों के साथ इजाजत दी जाएगी.

  • Share this:
रियाद. दुनिया भर में कोरोना संक्रमण (Coronavirus) के बढ़ते मामलों को देखते हुए सऊदी अरब (Saudi Arabia) ने हज यात्रा 2020 (Hajj1441) के लिए विदेशियों को इजाजत नहीं देने का ऐलान कर दिया है. सऊदी ने ऐलान किया है कि हज के लिए सिर्फ स्थानीय लोगों और देश में रह रहे विदेशी लोगों को ही कुछ शर्तों के साथ इजाजत दी जाएगी. इस ऐलान के मुताबिक इंटरनेशनल हज यात्रा इस साल के लिए कैंसिल कर दी गई है.

सऊदी अरब ने कहा कि इस साल हज को रद्द नहीं किया जाएगा, लेकिन कुछ प्रतिबंधों के साथ स्थानीय लोगों को ही सीमित संख्या में इसमें शामिल होने की अनुमति दी जाएगी. सऊदी अरब सल्तनत ने मंगलवार को कहा कि वह विभिन्न देशों के केवल उन्‍हीं लोगों को हज में शामिल होने की अनुमति देगा जो पहले से ही मुल्‍क में रह रहे हैं. मिली जानकारी के मुताबिक हज यात्रा इस साल जुलाई के अंत में शुरू होगी. आधिकारिक बयान में कहा गया है कि लोगों में कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए तमाम सुरक्षात्मक उपाय भी अपनाए जाएंगे.

ये भी पढ़ें: कैसी है चीन की साइबर आर्मी, जो कोड '61398' के तहत करती है हैकिंग



हज यात्रा में हर साल आते हैं 20 लाख लोग
बता दें कि सामान्य दिनों में हज के लिए सऊदी अरब के मक्का में आमतौर पर दुनियाभर से 20 लाख के करीब मुस्लिम जुटते हैं. मक्का में इस्लामिक मामलों के मंत्रालय की शाखा ने शहर की लगभग 1,560 मस्जिदों को सावधानी बरतने के निर्देश जारी किए हैं. आदेश में कहा गया है कि लोगों को मस्जिदों नमाज अदा करने के लिए अपनी चटाई लाने और नमाज के दौरान शारीरिक दूरी का अनुपालन करना जरूरी होगा. मंत्रालय ने शटडाउन के दौरान सभी मस्जिदों को साफ करने की जिम्मेदारी एजेंसियों को सौंपी है. कोरोना संकट के चलते तीन महीने से बंद पवित्र शहर मक्का में लोगों को स्वास्थ्य संबंधी सख्त सावधानियों का पालन करने के निर्देश जारी किए गए हैं.

ये भी पढ़ें:- गर्भनाल भी खा जाते हैं चीन के लोग, मानते हैं नपुंसकता की दवा

बता दें कि सऊदी अरब ने अपनी स्थापना के बाद से लगभग 90 वर्षों में कभी भी हज को रद नहीं किया है. बता दें कि इस्लाम धर्म की पांच बुनियादी स्तंभ हैं जिसमें हज भी शामिल है. हर मुस्लिम अपने जीवन में कम से एक बार हज करने की इच्छा रखता है. दुनिया भर में बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए सऊदी अरब ने फरवरी महीने में मक्का में आने वाले 'उमरा' यात्रा पर रोक लगा दी थी. सऊदी अरब के फैसले से साफ़ है कि दूसरे देशों से मुसलमान हज करने के लिए इस्साल सऊदी अरब नहीं जा पाएंगे. हालांकि सऊदी अरब का हज को स्थगित न करना भी काफी जोखिम भरा फैसला माना जा रहा है.

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज