पाकिस्‍तान को सऊदी अरब ने दिया झटका, खास परियोजना को किया शिफ्ट

ग्‍वादर पोर्ट में अब सऊदी अरब नहीं बनाएगा तेल रिफाइनरी. (File pic)

पाकिस्‍तान (Pakistan) के एक अधिकारी का कहना है कि ग्‍वादर (Gwadar) में आधारभूत ढांचा काफी पिछड़ा हुआ है. ऐसे में यह माना जा सकता है कि वहां तेल रिफाइनरी अगले 15 साल तक संभव नहीं है.

  • Share this:
    इस्‍लामाबाद. सऊदी अरब (Saudi Arabia) ने पाकिस्‍तान (Pakistan) को बड़ा झटका दिया है. सऊदी अरब की ओर से पाकिस्‍तान के ग्‍वादर बंदरगाह पर बनने वाली तेल रिफाइनरी अब नहीं बनाने का फैसला लिया गया है. सऊदी अरब अब यह प्रोजेक्‍ट ग्‍वादर (Gwadar Port) की जगह कराची में बनाने पर विचार कर रहा है. चीन के लिए ग्‍वादर बंदरगाह काफी अहम है. यह उसके बेल्‍ट एंड रोड प्रोजेक्‍ट का सबसे महत्‍वूपर्ण हिस्‍सा है.

    2019 में जब सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्‍मद बिन सलमान ने पाकिस्‍तान का दौरा किया था. उसी दौरान सऊदी अरब और पाकिस्‍तान के बीच यह अहम समझौता हुआ था. दोनों देशों के बीच ग्‍वादर बंदरगाह पर तेल रिफाइनरी और पेट्रोकेमिकल्‍स कॉम्‍प्‍लेक्‍स में 10 अरब डॉलर के निवेश के लिए एमओयू पर साइन हुए थे. उस समय पाकिस्‍तान में आर्थिक संकट बेहद विकट था. पाकिस्‍तान का विदेशी मुद्रा भंडार खत्‍म होने की कगार पर था.

    2 जून को ही मीडिया को संबोधित करते हुए पाकिस्‍तान के ऊर्जा और तेल मामलों के विशेष सलाहकार ताबिश गौहर ने कहा था कि सऊदी अरब अब ग्‍वादर में तेल रिफाइनरी का निर्माण नहीं करेगा. उनके मुताबिक सऊदी अरब अब कराची के पास स्थित एक पेट्रोकेमिकल्‍स कॉम्‍प्‍लेक्‍स में तेल रिफाइनरी का निर्माण करेगा. उनके अनुसार अगले पांच साल में यह रिफाइनरी बनकर तैयार हो सकती है. इसमें प्रतिदिन 2 लाख बैरल तेल का उत्‍पादन हो सकेगा.

    वहीं पाकिस्‍तान के एक अधिकारी का कहना है कि ग्‍वादर में आधारभूत ढांचा काफी पिछड़ा हुआ है. ऐसे में यह माना जा सकता है कि वहां तेल रिफाइनरी अगले 15 साल तक संभव नहीं है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.