सऊदी के प्रिंस सलमान पर हत्या की साजिश का आरोप, अमेरिका में केस दर्ज

सऊदी के प्रिंस सलमान पर हत्या की साजिश का आरोप, अमेरिका में केस दर्ज
सऊदी प्रिंस सलमान पर आरोप हत्या की साज़िश रचने का आरोप.

अलजबरी ने आरोप लगाया है कि सऊदी अरब के राजकुमार मोहम्मद बिन सलमान जिन्हें एमबीएस (MBS) के रूप में जाना जाता है, ने उसके सऊदी अरब से भागने के ठीक एक साल बाद हिट टीम को उसकी हत्या करने के लिए भेजा था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 8, 2020, 2:41 PM IST
  • Share this:
रियाद. सऊदी अरब के शहज़ादे प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान (Saudi Arab's Prince Md. Bin Salman) पर डॉ. साद अलजबरी (Dr. Sad Alzabri) ने अमेरिका की डीसी डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में दायर किये गए दस्तावेज़ों में आरोप लगाया गया है कि साद अल-जाबरी को मारने की ये साज़िश पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या के तुरंत बाद रची गई थी. अलजबरी ने आरोप लगाया है कि राजकुमार मोहम्मद बिन सलमान जिन्हें एमबीएस (MBS) के रूप में जाना जाता है, ने उसके सऊदी अरब से भागने के ठीक एक साल बाद हिट टीम को उसकी हत्या करने के लिए भेजा था.

राजकुमार को वापस लाना चाहते हैं सऊदी अरब

अलजाबरी ने यह भी कहा कि वे जानते हैं कि राजकुमार बिन सलमान अलजाबरी को सऊदी अरब वापस लाना चाहते थे और जब वे इसमें असफल रहे तो राजुकामर बिन सलमान उसे गंभीर नुकसान पहुंचाने के इरादे से ढूंढ रहे थे. अलजाबरी ने शिकायत में व्हाट्सप्प की चैट लगाईं है जिसमें राजकुमार ने यह मांग की थी कि अलजाबरी तुरंत सऊदी अरब लौट आएं. मना करने पर राजकुमार ने गम्भीा परिणाम भुगतने और सभी तरह के हथकंडे अपनाने की धमकी दी.



अलजबरी के बच्चों को देश छोड़ने से राजकुमार ने रोका था
राजकुमार ने अलज़बरी के बच्चों को देश छोड़ने से भी रोक दिया था. अमेरिका का राष्ट्रीय सुरक्षा समुदाय क्राउन प्रिंस द्वारा अलजाबरी से प्रतिशोध लेने की कोशिशों पर कड़ी नज़र रख रहा है. अलजाबरी का कहना है कि सऊदी टीम नौ महीने पहले उसे मारने के लिए कनाडा पहुंची थी. इस विषय में उसके बेटे खालिद को एफबीआई एजेंटों ने अलजाबरी और उसके परिवार के जीवन पर आये खतरे के बारे में पहले से चेतावनी दे दी थी.

राजकुमार के मुखर प्रतिद्वंदी हैं उनके चचेरे भाई

इसमें एक तथ्य और भी जुड़ा हुआ है. राजकुमार बिन सलमान के मुखर प्रतिद्वंदी उनके चचेरे भाई मोहम्मद बिन नायेफ हैं जिन्हें एमबीएन के नाम से जाना जाता है. मोहम्मद बिन नायेफ और अलजाबरी दोनों काफी करीबी रहे हैं और दोनों ने मिलकर आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में खासकर 9/11 के बाद अल कायदा के खिलाफ अमेरिका के खुफिया अधिकारियों बहुत मदद की थी. अलजबरी की प्रतिबद्धता और उसके ज्ञान की गहराई ने अमेरिकी खुफिया प्रस्तावों को बहुत प्रभावित किया था. पूर्व अधिकारियों का कहना है कि अलजाबरी ने अनगिनत लोगों की जान बचाने में उनकी बहुत मदद की.

ये भी पढ़ें: Global Warming: कनाडा की अंतिम साबुत बची हिमचट्टान भी टूट गई

रूस बाइडेन को और चीन ट्रंप को चुनाव जीतते नहीं देखना चाहता: US खुफिया अधिकारी

सऊदी अरब में एक वरिष्ठ अधिकारी रहे साद अलजाबरी तीन साल पहले भागकर कनाडा चले गए थे. उसके बाद से वो टोरंटो में ही रह रहे हैं जहाँ उन्होंने निजी सुरक्षाकर्मियों की सेवा ली हुई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज