अपना शहर चुनें

States

बाइडन का दावा! मेरा सुरक्षा दल US को सुरक्षित रखेगा, जेक सुलिवन को बनाया NSA

बिडेन ने राष्ट्र्रीय सुरक्षा दल की घोषणा की.
बिडेन ने राष्ट्र्रीय सुरक्षा दल की घोषणा की.

Biden presents security and foreign policy team: प्रेजिडेंट इलेक्ट जो बाइडन ने मंगलवार को उनका राष्ट्रीय सुरक्षा दल से अमेरिका को परिचित कराया. एंटनी ब्लिनकेन को विदेश मंत्री, एलेजांद्रो मयोरकास को ‘होमलैंड सिक्योरिटी’ मंत्री, लिंडा थॉमस-ग्रीनफील्ड को संयुक्त राष्ट्र में अमेरिकी राजदूत और एवरिल हैंस को राष्ट्रीय खुफिया निदेशक बनाया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 25, 2020, 2:07 PM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन (Joe Biden) ने कहा कि उनका राष्ट्रीय सुरक्षा दल देश को सुरक्षित रखेगा ताकि यह प्रदर्शित किया जा सके कि 'अमेरिका विश्व का नेतृत्व करने को एक बार फिर तैयार है, इससे पीछे हटने को नहीं.' डेलावेयर के विलमिंगटन में अपने सत्ता हस्तांतरण मुख्यालय से बाइडन ने मंगलवार को अनुभवी राजनयिक एंटनी ब्लिनकेन को विदेश मंत्री, एलेजांद्रो मयोरकास को ‘होमलैंड सिक्योरिटी’ मंत्री, लिंडा थॉमस-ग्रीनफील्ड को संयुक्त राष्ट्र में अमेरिकी राजदूत और एवरिल हैंस को राष्ट्रीय खुफिया निदेशक के तौर पर नामित करने के अपने इरादे की घोषणा की है.

एवरिल राष्ट्रीय खुफिया निदेशक बनने वाली पहली महिला होंगी. बाइडन ने जॉन कैरी को राष्ट्रपति का विशेष जलवायु दूत और जेक सुलिवन (43) को राष्ट्रीय सलाहकार के पद के लिए नामित करने की भी घोषणा की थी. सुलिवन, दशकों में इस पद पर सेवा देने वाले सबसे कम उम्र के लोगों में से एक होंगे. कई प्रमुख ‘केबल नेटवर्क’ पर प्रसारित संबोधन में बाइडन ने कहा, 'यह एक ऐसा दल है जो हमारे देश और हमारे लोगों को सुरक्षित रखेगा और यह एक ऐसा दल है जो उस तथ्य को प्रदर्शित करेगा कि अमेरिका विश्व का नेतृत्व करने को एक बार फिर तैयार है, इससे पीछे हटने को नहीं. एक बार फिर सर्वश्रेष्ठ होने, अपने प्रतिद्वंद्वियों का सामना करने, सहयोगियों के साथ खड़ा होने, हमारे मूल्यों के लिए खड़े होने को तैयार है.'

NSA जेक सुलिवन जैसा बुद्धिजीवी पीढ़ियों में कोई एक होता है: बाइडन
बाइडन ने कहा कि उनके राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जेक सुलिवन जैसा बुद्धिजीवी पीढ़ियों में कोई एक होता है और उनमें दुनिया के कठिनतम कामों से एक को करने के लिए अनुभव और मिज़ाज दोनों हैं. बाइडन ने डेलावेयर के विलमिंगटन में अपने सत्ता हस्तांतरण मुख्यालय में मंगलवार को संवाददाताओं से कहा, 'मेरे राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार के रूप में मैं जेक सुलिवन का चयन करता हूं. उनके जैसा मेधावी पीढ़ियों में कोई एक होता है और उनमें दुनिया के कठिनतम कामों से एक को करने के लिए अनुभव और मिज़ाज दोनों हैं.'
सुलिवन (43), दशकों में पहली बार सबसे कम उम्र के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार होंगे. बाइडन जब उप राष्ट्रपति थे तब सुलिवन उनके राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार थे. वह विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन के एक मुख्य सलाहकार रह चुके हैं. उन्होंने कहा, 'और राष्ट्रपति पद के चुनाव प्रचार के दौरान वह विदेशी और घरेलू नीतियों में मेरे सबसे भरोसेमंद सलाहकार रहे. साथ ही उन्होंने कोविड-19 से निपटने की रणनीति बनाने में मेरी मदद की. जेक मेरे उस दृष्टिकोण को समझते हैं कि आर्थिक सुरक्षा ही राष्ट्रीय सुरक्षा है.'



घरेलू चुनौतियों से निपटना जरूरी: हैरिस
अमेरिका की नव निर्वाचित उपराष्ट्रपति कमला हैरिस ने कहा है कि विश्व भर में अमेरिका का नेतृत्व पुनः स्थापित करने के लिए घरेलू चुनौतियों से पार पाना आवश्यक है. हैरिस ने डेलावेयर स्थित विलमिंगटन में मंगलवार को संवाददाताओं से कहा, 'नव निर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन और मैं हमेशा से यह जानते थे कि चुनाव के बाद व्हाइट हाउस में हमारा सामना कई अप्रत्याशित चुनौतियों से होगा.' उन्होंने कहा, 'इन चुनौतियों का सामना करने के साथ ही हमें महामारी पर नियंत्रण पाना है, जिम्मेदारी के साथ अर्थव्यवस्था को खोलना है और यह सुनिश्चित करना है कि कामकाजी लोगों को इसका लाभ मिले.'

हैरिस ने कहा, 'हम यह भी जानते हैं कि यहां घरेलू चुनौतियों से निपटना आवश्यक है, तभी हम विश्व भर में अपने नेतृत्व को पुनः स्थापित कर पाएंगे.' उन्होंने कहा, 'हम इसके लिए तैयार हैं। हमें अमेरिका के समर्थकों को पुनः एक मंच पर लाना होगा और परस्पर सहयोग को पुनर्जीवित करना होगा. हमें अपनी राष्ट्रीय सुरक्षा और विदेश नीति के संस्थानों का पुनर्निर्माण करना होगा और उन्हें मजबूत करना होगा. यह संस्थान हमारे राष्ट्रीय हितों की रक्षा करते हैं। हमें जलवायु परिवर्तन के खतरे का भी सामना करना होगा.' हैरिस ने कहा कि वह इन मुद्दों को गंभीरता से लेती हैं. उन्होंने कहा कि उन्होंने अपने पूरे करियर में लोगों की सुरक्षा के मुद्दों को लेकर काम किया है.

केवल पेरिस समझौते से कुछ नहीं होगा: जॉन कैरी
अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन द्वारा उनके जलवायु दूत के तौर पर नामित जॉन कैरी ने कहा कि जलवायु परिवर्तन की समस्या से निपटने के लिए विश्व को एक साथ आने की जरूरत है और केवल ऐतिहासिक पेरिस समझौता इसके लिए काफी नहीं होगा. कैरी ने कहा कि नवनिर्वाचित राष्ट्रपति बाइडन ने एक साहसिक, परिवर्तनकारी जलवायु योजना को आगे बढ़ाया है, जो मौजूदा समय में कारगर साबित होगी. बाइडन ने इस बात पर भी जोर दिया है कि केवल एक देश अकेले इस चुनौती से नहीं निपट सकता. पूर्व विदेश मंत्री ने कहा, 'जबकि अमेरिका केवल 15 प्रतिशत वैश्विक उत्सर्जन के लिए ही जिम्मेदार है, लेकिन इस समस्या को हल करने के लिए विश्व को एक साथ आना होगा.'

बाइडन ने कहा था कि वह उनके प्रशासन के काम शुरू करने के पहले दिन ही जलवायु परिवर्तन पर हुए पेरिस समझौते का अमेरिका एक बार फिर हिस्सा बन जाएंगे. कैरी ने कहा, 'आप सही हैं कि हम पहले दिन ही पेरिस समझौते का एक बार फिर हिस्सा बन जाएंगे और आपका यह कहना भी सही है कि अकेले पेरिस (समझौते) से कुछ नहीं होगा. आज से एक वर्ष बाद ग्लासगो में वैश्विक बैठक है, सभी राष्ट्रों को एक साथ महत्वाकांक्षाएं बढ़ानी होंगी - या हम सभी एक साथ विफल होंगे. विफल होना कोई विकल्प नहीं है.' कैरी जलवायु परिवर्तन पर विशेष रूप से ध्यान केंद्रित करने वाले राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद के पहले सदस्य होंगे.




अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज