कोरोना वैक्सीन बना रहे वैज्ञानिक उगुर साहिन का दावा, टीका खत्म कर देगा महामारी

फाइजर कंपनी के साथ काम कर रहे हैं वैज्ञानिक उगुर साहिन और ओजलेम ट्यूरेसी
फाइजर कंपनी के साथ काम कर रहे हैं वैज्ञानिक उगुर साहिन और ओजलेम ट्यूरेसी

साल 2020 ने जिस तरह से कोरोना महामारी के खत्म होने का इंतजार किया है उसे देखते हुए अब फाइजर (Pfizer) की कोविड वैक्सीन से इसका अंत होता दिखाई दे रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 14, 2020, 3:14 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दुनिया भर में जितनी तेजी से कोरोना का संक्रमण बढ़ रहा है उसे देखते हुए कोरोना वैक्सीन को लेकर चर्चा भी जोरों पर होने लगी है. साल 2020 ने जिस तरह से कोरोना महामारी के खत्म होने का इंतजार किया है उसे देखते हुए अब फाइजर (Pfizer) की कोविड वैक्सीन से इसका अंत होता दिखाई दे रहा है.

संक्रामण से जुड़े रोगों और कैंसर के इलाज के लिए अपना जीवन समर्पित करने वाले वैज्ञानिक उगुर साहिन और ओजलेम ट्यूरेसी ने फाइजर कंपनी की ओर से तैयार की जा रही कोरोना वैक्सीन को तैयार करने में काफी मदद की है. कोरोना वैक्सीन को बनाने में

कोरोना वैक्सनी को बनाने में शादीशुदा कपल, उगुर साहिन और ओजलेम ट्यूरेसी का बहुत बड़ा हाथ है. इस कपल को 'ड्रीम टीम' भी कहा जा रहा है. फाइजर की कोविड-19 वैक्सीन के पीछे इसी कपल का दिमाग है. इनकी बनाई वैक्सीन को हाल ही में किए गए एक अध्ययन के आधार पर कोरोना को रोकने में 90% प्रभावी पाया गया है. बता दें कि फाइजर और जर्मन बायोटेक फर्म, बायोएनटेक ने कोरोना वैक्सीन को बनाने के लिए अब तक सबसे ज्यादा परीक्षण किए हैं. ये दुनिया की पहली ऐसी कंपनी है जिसमें कोरोना वैक्सीन के परीक्षण के लिए काफी बड़ा डेटा निकाला है.



उगुर साहिन ने कहा, अगर कोई मुझे पूछता है कि क्या इस वैक्सीन से कोरोना महामारी ​को पूरी तरह से रोका जा सका है तो मेरा जवाब हां होगा. साहिन ने कहा क्योंकि मेरा मानना है कि हमारी वैक्सीन के सामने कोरोना वायरस नहीं टिक पाएगा.

इसे भी पढ़ें : मिलिए उस कपल से, जिन्होंने बनाई कोरोना की वैक्सीन, शादी के सालगिरह में भी थे लैब के अंदर

इस महीने के आखिर तक कोरोना वैक्सीन बनाने की तैयारी
कंपनियों ने कहा कि उन्हें अब तक कोई गंभीर सुरक्षा चिंता नहीं है और इस महीने के आखिर तक हम चाहते हैं कि कोरोना वैक्सीन को बनाने की हमें इजाजत मिल जाए. बता दें कि साहिन जर्मन बायोटेक फर्म, बायोएनटेक के सीईओ और सह-संस्थापक हैं. जिसने इस वैक्सीन को बनाया है, वहीं उनकी पत्नी ओजलेम ट्यूरेसी कंपनी बोर्ड में एक साथी सदस्य के तौर पर काम करती हैं. कोलोन में फोर्ड कंपनी के एक कारखाने में काम करने वाले तुर्की अप्रवासी के बेटे साहिन का परिवार बचपन में गरीब था. लेकिन अब BioNTech के मुख्य कार्यकारी जर्मनी के 100 सबसे अमीर लोगों में से एक हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज