Home /News /world /

कोरोना महामारी के दौरान वैज्ञानिकों को करना पड़ा दुर्व्यवहार का सामना: सर्वे

कोरोना महामारी के दौरान वैज्ञानिकों को करना पड़ा दुर्व्यवहार का सामना: सर्वे

कोरोना महामारी के दौर में वैज्ञानिकों को खतरों और दुर्व्यवहार का सामना करना पड़ा.   (सांकेतिक तस्वीर)

कोरोना महामारी के दौर में वैज्ञानिकों को खतरों और दुर्व्यवहार का सामना करना पड़ा. (सांकेतिक तस्वीर)

वैश्विक स्तर पर वैज्ञानिकों (scientists) को कोरोना महामारी (corona pandemic) के दौरान खतरों और दुर्व्यवहार की कई घटनाओं का सामना करना पड़ा है. एक ब्रिटिश जर्नल में प्रकाशित एक नये सर्वेक्षण में यह बात सामने आई है. जर्नल ‘नेचर’ ने दुनियाभर के वैज्ञानिकों का सर्वेक्षण किया, जिन्होंने हिंसा की घटनाओं का वर्णन किया.

अधिक पढ़ें ...

    लंदन.  वैश्विक स्तर पर वैज्ञानिकों (scientists) को कोरोना महामारी (corona pandemic) के दौरान खतरों और दुर्व्यवहार की कई घटनाओं का सामना करना पड़ा है. एक ब्रिटिश जर्नल में प्रकाशित एक नये सर्वेक्षण में यह बात सामने आई है. जर्नल ‘नेचर’ ने दुनियाभर के वैज्ञानिकों का सर्वेक्षण किया, जिन्होंने हिंसा की घटनाओं का वर्णन किया. कोविड-19 से संबंधित क्षेत्रों में काम करने वाले 321 लोगों के ‘स्व-चयन’ सर्वेक्षण में पाया गया कि पांच से अधिक लोगों को शारीरिक या यौन हिंसा की धमकी मिली थी.

    सर्वेक्षण के निष्कर्षों में इस सप्ताह उल्लेख किया गया है, ‘दो-तिहाई से अधिक शोधकर्ताओं ने अपनी मीडिया उपस्थिति या उनकी सोशल मीडिया टिप्पणियों के परिणामस्वरूप नकारात्मक अनुभवों की सूचना दी, और 22 प्रतिशत को शारीरिक या यौन हिंसा की धमकी मिली.’ इसमें कहा गया है, ‘कुछ वैज्ञानिकों ने कहा कि उनके नियोक्ता को उनके बारे में शिकायतें मिली थीं, या उनके घर के पते का ऑनलाइन खुलासा किया गया.’ सर्वेक्षण के 85 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने कहा कि मीडिया से जुड़ने के उनके अनुभव हमेशा या अधिकतर सकारात्मक थे, भले ही उन्हें बाद में परेशान किया गया हो.

    ये भी पढ़ें :   कोरोना कैसे फैला? जानने को WHO ने बनाई ‘स्पेशल-26’ टीम, कहा- ये आखिरी मौका होगा

    ये भी पढ़ें :  ब्रिटेन में एक लैब की भयानक गलती पड़ी भारी, जांच में 43 हजार लोगों को बताया संक्रमित

    उत्पीड़न के पैमाने की व्यापक समझ प्राप्त करने के लिए, ’नेचर’ ने कहा कि उसने एक ऑस्ट्रेलियाई सर्वेक्षण को अपनाया और ब्रिटेन, कनाडा, ताइवान, न्यूजीलैंड और जर्मनी में विज्ञान मीडिया केंद्रों को उसे अपनी कोविड-19 मीडिया सूची में वैज्ञानिकों को भेजने के लिए कहा.

    सर्वेक्षण के एक-चौथाई से अधिक उत्तरदाताओं ने कहा कि उन्हें हमेशा या आमतौर पर ‘ट्रोल’ से टिप्पणियां मिलीं या मीडिया में कोविड-19 के बारे में बोलने के बाद व्यक्तिगत रूप से हमला किया गया. सर्वेक्षण के अनुसार 40 प्रतिशत से अधिक ने मीडिया या सोशल मीडिया पर टिप्पणी करने के बाद भावनात्मक या मनोवैज्ञानिक संकट का अनुभव करने की सूचना दी.

    Tags: Corona Pandemic, Journal Nature, Scientists

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर