Home /News /world /

scientists have discovered life under the ice of antarctica it will help humans to live anywhere on the earth

अंटार्कटिका की बर्फ के नीचे मिला जीवन, इंसानों को किसी भी जगह रहने में होगा मददगार

वैज्ञानिकों ने खोजा अंटार्कटिका की बर्फ के नीचे जीवन (twitter/@KeillerDon)

वैज्ञानिकों ने खोजा अंटार्कटिका की बर्फ के नीचे जीवन (twitter/@KeillerDon)

अंटार्कटिका में वैज्ञानिकों ने बर्फ के नीचे गर्म पानी से एक गहरा गड्ढा बनाते हुए नीचे तक जाकर सूक्ष्मजीवों का पता लगाया है. यहां से मिले सैंपलों को दुनिया भर की अलग-अलग आधुनिक प्रयोगाशालाओं में भेजा गया.

नई दिल्ली. अंटार्कटिका को धरती का अंतिम छोर माना जाता है. बर्फ से ढंके इस महासागर की नीचे क्या है, यह हमेशा से ही शोधार्थियों की जिज्ञासा की वजह रही है. इसी के चलते एक शोध परियोजना में सामने आया है कि इस बर्फ के नीचे ऐसे सूक्ष्मजीवों का समुदाय रहता है. जो बगैर रोशनी और खुले सागर में बारिश के पानी से मिलने वाले भोजन यानी अकार्बनिक पदार्थ के बगैर भी जिंदगी गुजार सकते हैं. ये सूक्ष्मजीव नाइट्रोजन और सल्फर जैसे रसायनों का इस्तेमाल करके वैकल्पिक ऊर्जा हासिल करते हैं. जिससे वे पानी में घुली कार्बन-डाई-ऑक्साइड और दूसरे जटिल कार्बनिक अणुओं को संतुलित करके पानी के नीचे मौजूद दुनिया में खुद के लिए ऊर्जा की व्यवस्था करते हैं. इसकी खोज सबसे पहले 19वीं शताब्दी में की गई थी. तब यह अंदाजा लगाया गया था कि बर्फ के नीचे सूक्ष्मजीवन मौजूद है. इस परियोजना मे उसी खोज को आगे बढ़ाने का काम किया गया है.

बर्फ के नीचे मौजूद जीवन का राज
समुद्र में मौजूद पारिस्थितिकीय तंत्र मुख्य तौर पर प्रकाश संश्लेषण पर निर्भर करता है, जिसमें जीव सूरज की रोशनी का इस्तेमाल करके पानी में मौजूद बायोमास को पोषक तत्वों में बदलते हैं. यह प्रक्रिया बायोलॉजिकल कार्बन पंप कहलाती है. लेकिन बर्फ की मोटी परत के नीचे जहां न सूरज की रोशनी पहुंचती है और न बारिश का पानी और इन बर्फीली गुहाओं में पानी का बहाव भी 5 साल में एक बार होता है, वहां भी 1977 में सूक्ष्मजीव, एम्फीपोड्स और मछलियां पाई गई थीं.

इसी खोज को आगे बढ़ाते हुए इस बार वैज्ञानिकों ने गर्म पानी से एक गहरा गड्ढा बनाते हुए नीचे तक जाकर सूक्ष्मजीवों का पता लगाया है. यहां से मिले सैंपलों को दुनिया भर की अलग अलग आधुनिक प्रयोगाशालाओं में भेजा गया. जहां जीनोमिक तकनीक और बायोजियोकेमिकल मापन के जरिए यह पता लगाने की कोशिश की है कि यह कौन से सूक्ष्मजीव हैं और इन्हें ऊर्जा कैसे मिल रही है. इस खोज का फायदा यह होगा कि इंसानों को धरती पर किसी भी जगह रहने के लिए समझ बढ़ाने में मदद मिल सकेगी.

Tags: Antarctica, Research, Researcher

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर